Image Loading
शुक्रवार, 30 सितम्बर, 2016 | 05:19 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • सेना की सर्जिकल स्ट्राइक पर बोले केजरीवाल, 'भारत माता की जय'
  • उरी हमले का बदलाः हेलीकॉप्टर से LOC पारकर भारतीय सेना ने किया हमला, कई आतंकी...
  • भारतीय सेना ने LOC पारकर भीमबेर, केल, लिपा और हॉटस्प्रिंग सेक्टर में घुसकर आतंकी...
  • करीना कपूर ने किया अपने बारे में एक बड़ा खुलासा, इसके अलावा पढ़ें बॉलीवुड जगत की...
  • पुजारा को लेकर अलग-अलग है कोच कुंबले और कोहली की सोच, इसके अलावा पढ़ें क्रिकेट और...
  • कर्क राशि वालों का आज का दिन भाग्यशाली साबित होगा, जानिए आपके सितारे क्या कह रहे...
  • वेटर, बस कंडक्टर से बने सुपरस्टार, क्या आपमें है ऐसा कॉन्फिडेंस? पढ़ें ये सक्सेस...

परफेक्शन है बहुत जरूरी: सुमित सौरभ

हिन्दुस्तान नई दिशाएं First Published:05-12-2012 02:06:19 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
परफेक्शन है बहुत जरूरी: सुमित सौरभ

सुमित सौरभ, प्रबंधक (डिजाइन सर्कल)
निफ्ट दिल्ली से टेक्सटाइल डिजाइनिंग का कोर्स करने के दौरान मुझे लगा कि इस क्षेत्र में परफेक्शन की कमी है। जो भी इस क्षेत्र में करियर बनाने आए, वह परफेक्ट होकर बाहर जाए। उसे इस क्षेत्र की पूरी-पूरी जानकारी हो। प्रोडक्शन से लेकर मार्केटिंग, मैनेजमेंट और रिटेल तक में उसकी पकड़ हो। इसी के तहत मैंने 2009 में डिजाइन सर्कल की स्थापना की। कोचिंग सेंटर का उद्देश्य सुपर 15 मॉडल के आधार पर फैशन एवं डिजाइनिंग में करियर बनाने के लिए देश के प्रतिष्ठित संस्थानों में प्रवेश के इच्छुक छात्र-छात्राओं को कोचिंग देना है, जहां निफ्ट/ एनआईडी/ एफडीडीआई में दाखिले के लिए तैयारी करवाई जाती है। यह सिलसिला बीते चार सालों से चल रहा है। अक्सर लोगों को यह लगता है कि डिजाइनर सपनों की दुनिया में विचरण करते हैं, लेकिन असलियत यह है कि उनका काम काफी चुनौतीपूर्ण होता है, क्योंकि बाजार की मांग के अनुरूप किसी खास प्रोडक्ट, सीजन और प्राइज को ध्यान में रख कर उन्हें काम करना पडम्ता है। पिछले कुछ वर्षों में यह क्षेत्र तेजी से बदला है। मेरा मानना है कि इस क्षेत्र में कामयाबी के लिए कोचिंग के साथ-साथ सही मार्गदर्शन की भी जरूरत है। जब तक सोच क्रिएटिव नहीं होगी आप कामयाब नहीं हो सकते। आप स्कैचिंग बढिया करते हैं, लेकिन दिमाग और हाथ दोनों बराबर चलने चाहिए। अगर तरक्की करनी है तो दिल-दिमाग दोनों खुले रखने होंगे। किसी इंस्टीटय़ूट से डिग्री तो हासिल कर लेंगे, लेकिन सिर्फ उससे काम नहीं चलेगा, जागरूकता बहुत जरूरी है। कौन-सा नया ट्रेंड आया है, इसकी जानकारी जरूरी है। आपकी ड्राइंग अच्छी है, नये ट्रेंड्स की जानकारी भी है, इस फील्ड के लोगों से आपकी जान-पहचान भी अच्छी है, लेकिन इंग्लिश भाषा पर पकड़ नहीं है तो भी आप पिछड़ जाएंगे।

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड