Image Loading
बुधवार, 22 फरवरी, 2017 | 18:54 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • गाजियाबाद: भोजपुर एनकाउंटर केस में 4 आरोपी पुलिसवालों को आजीवन कारावास की सजा
  • लीबिया में ISIS के चंगुल से डॉक्टर समेत 6 भारतीयों को छुड़ाया गया, गोली लगने से...
  • शेयर बाजारः 94 अंकों की तेजी के साथ सेंसेक्स 28,856 पर, निफ्टी ने भी लगाई 26 अंकों की...
  • आज के हिन्दुस्तान में पढ़ें टेलीविजन पत्रकार अनंत विजय का विशेष लेखः परंपरा के...
  • यूपी चुनावः सीएम अखिलेश की बहराइच में रैली आज, जानें कौन दिग्गज कहां करेंगे...
  • सुबह खाली पेट खाएं अंकुरित चना, बीमारियां नहीं आएंगी पास, पढ़ें ये 7 टिप्स
  • आज का हिन्दुस्तान अखबार पढ़ने के लिए क्लिक करें।
  • राशिफलः कर्क राशिवालों की नौकरी में स्थान परिवर्तन के योग, आय में वृद्धि होगी,...
  • Good Morning: माल्या और टाइगर मेमन को भारत लाने की संभावना बढ़ी, अमर सिंह बोले-...

अश्विनी आदि हैं गण्ड मूल के नक्षत्र

First Published:25-03-2013 10:18:37 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

गण्ड मूल के नक्षत्रों में जन्म लेने वाले जातकों पर क्या प्रभाव पड़ता है?
- कुसुमलता, झरिया, झारखंड
‘जातका भरणम’, ‘जातक पारिजात’ और ‘ज्योतिष पाराशर’ ग्रंथों में गण्डांत या गण्ड मूल नक्षत्रों का उल्लेख है। मुख्यत: वे नक्षत्र, जिनसे राशि और नक्षत्र दोनों का ही प्रारम्भ या अंत होता है, वे इस श्रेणी में आते हैं। इस तरह अश्विनी, आश्लेषा, मघा, ज्येष्ठा, मूल और रेवती नामक नक्षत्र गण्ड मूल नक्षत्र हैं। इन सभी नक्षत्रों के स्वामी या तो बुध हैं या केतु। शास्त्रों में इन सभी नक्षत्रों में जन्म लेने वाले जातकों के लिए जन्म से ठीक 27वीं तिथि को मूल शांति आवश्यक बताई गई है। वैसे इन नक्षत्रों में जन्म लेने वाले जातकों के जीवन में किसी तरह की नकारात्मक स्थिति होती है, ऐसा नहीं है। लेकिन इन जातकों के लिए धन-हानि और अर्जित निधि को खोने की आशंकाएं बनी रहती है। अश्विनी, मघा और मूल नक्षत्र के चतुर्थ चरण में जन्म लेने वाले जातक जीवन में सफल होते हैं, वहीं रेवती नक्षत्र के तृतीय चरण में जन्म लेने वाले जातक भाग्यशाली होते हैं।

अष्टगंध क्या है? इसका क्या महत्व है?
- प्रभु दयाल, बक्सर, बिहार
कर्मकांड और भिन्न-भिन्न देवी-देवताओं के यंत्र को लिखते समय अष्टगंध का प्रयोग होता है। अष्टगंध जैसा कि नाम से जाहिर है, आठ प्रकार की वस्तुओं को मिला कर ही बनता है। लेकिन विद्वानों में इसे लेकर मतभेद हैं। शैव संप्रदाय के लोग इनमें ये वस्तुएं प्रमुख मानते हैं- चंदन, अगरू, कपरूर, तमाल, पानी या जल, कंकु, कुशीत और कुष्ठ। इसके ठीक विपरीत- कुंकुम, अगरू, चंद्रभाग, कस्तूरी, त्रिपुरा, गोरोचन, तमाल और जल को बराबर-बराबर हिस्सों में मिला कर बनने वाली वस्तु को अष्टगंध कहते हैं। शाक्त और कहीं-कहीं शैव इसे ही अष्टगंध के रूप में स्वीकार करते हैं। वैष्णवों को चंदन, अगरू, हीरवेर, कुष्ठ, कुंकुम, सेव्यका, जटामांसी और मुर द्वारा बनाई गई अष्टगंध सर्वाधिक प्रिय है। कालिकापुराण में इसका विस्तार से वर्णन है। बिल्कुल चूर्ण की बनी हुई, आग में भस्म के रूप में बदल चुकी हो या फिर अच्छी तरह छान कर बनाई गई गंध देवी-देवताओं को विशेष प्रकार का सुख प्रदान करने वाली मानी गई है।
(इस दूसरे प्रश्न का समाधान पं. भानुप्रतापनारायण मिश्र ने दिया है)

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Jharkhand Board Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड