Image Loading
रविवार, 11 दिसम्बर, 2016 | 15:25 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • खराब दृश्यता के कारण यूपी के बहराइच में नहीं उतरा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का...
  • INDvsENG: इंग्लैंड को लगा तीसरा झटका, बिना खाता खोले मोइन अली आउट
  • INDvsENG: इंग्लैंड को लगा तीसरा झटका, बिना खाता खोले मोइन अली आउट
  • INDvsENG: इंग्लैंड को लगा दूसरा झटका, 18 रन बनाकर कुक आउट
  • मुंबई टेस्टः दूसरी पारी में इंग्लैंड को लगा पहला झटका, भुवनेश्वर की पहली ही गेंद...
  • मुंबई टेस्टः 631 रन बनाकर ऑलआउट हुई टीम इंडिया, पहली पारी में 231 रन की बढ़त
  • मुंबई टेस्टः 235 रन बनाकर आउट हुए विराट कोहली, स्कोर- 615/9
  • मुंबई टेस्ट: इंग्लैंड के खिलाफ जयंत यादव ने लगाया करियर का पहला टेस्ट शतक।...
  • मुंबई टेस्ट में भारतीय टेस्ट कप्तान विराट कोहली ने लगाया दोहरा शतक, स्कोर- 558/7
  • मुंबई टेस्टः चौथे दिन का खेल शुरू, दोहरे शतक की ओर बढ़े कोहली
  • पढ़ें शशि शेखर का ब्लॉग, हम गिरे, गिरकर उठे, उठकर चले
  • Good Morning: पार्थिव ने कैसे की धौनी की कॉपी, वीरू को FANS ने क्यों किया TROLL समेत खेल की अन्य...
  • राशिफल: मेष और धनु के लिए बढ़िया हफ्ता, कर्क और सिंह बरतें सावधानी, क्लिक कर जानिए...
  • कोहरे के कारण 111 ट्रेनें रद्द, राजधानी एक्सप्रेस भी 20 घंटे तक लेट, क्लिक कर देखें...
  • Sunday Health Tips: पेट को दें हर रोज 15 घंटे आराम, रहेंगे खतरनाक रोग दूर
  • Good Morning: जानिए कहां बाथरूम से मिला 5.7 करोड़ कैश और 32kg सोना, देश और दुनिया की बड़ी ख़बरें...
  • मौसम अलर्ट: दिल्ली, यूपी और बिहार में पारा 12 डिग्री के आसपास, जबरदस्त कोहरा,...
  • कर्नाटक में इनकम टैक्स का छापा, 5 करोड़ 70 लाख के नए नोट जब्त, 90 लाख के पुराने नोट भी...
  • यूपी: आज़म खां के बेटे और बसपा नेता नसीमुद्दीन सिद्दीकी के भाई को भी सपा ने दिया...
  • यूपी: शिवपाल यादव ने घोषित किए 23 विधानसभा प्रत्याशी
  • AIADMK के नेताओं ने शशिकला से पार्टी का नेतृत्व करने का आग्रह किया।

प्रतिरोध के प्रतीकों में सिमट जाने के खतरे

सदानंद शाही, प्रोफेसर, काशी हिंदू विश्वविद्यालय First Published:06-01-2013 08:05:06 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

दिसंबर की आखिरी रात एक मोमबत्ती जुलूस में शामिल हुआ। यह जुलूस काशी हिंदू विश्वविद्यालय के सिंह द्वार पर स्थित महामना मदनमोहन मालवीय की प्रतिमा से रात 12.00 बजे शुरू हुआ। जुलूस संत रविदास गेट तक गया और वहां से लौटकर महामना की प्रतिमा तक आया। जुलूस में कुछ अध्यापक, बीस-पच्चीस लड़कियां व दो सौ लड़के शामिल थे। मोमबत्तियां महामना की प्रतिमा के चारों तरफ लगा दी गईं। आयोजकों ने एक-दो वक्तव्य दिए व राष्ट्रगान के साथ रात एक बजे जुलूस विसर्जित हो गया। यह जुलूस दिल्ली में घटी गैंग रेप की घटना के विरुद्ध आयोजित किया गया था। रेप की घटनाएं आए दिन होती रहती है, पर दिल्ली की इस घटना के विरुद्ध पूरे देश में विरोध का जो माहौल बना, वह अभूतपूर्व है। मोमबत्तियों की कांपती हुई लौ से निकली रोशनी ने उम्मीद का एक वातावरण बनाया है। मोमबत्ती जुलूसों का जो सिलसिला निकल पड़ा, उसने बहुसंख्यक समाज को आंदोलित किया। नतीजा यह हुआ कि प्रतिरोध की चेतना मोमबत्ती जुलूस के प्रतीक में रूपांतरित हो गई। प्रतिरोध के प्रतीक में बदल जाने की दिक्कत यह होती है कि हमारी सक्रियताएं प्रतीकों से नियंत्रित होकर रह जाती हैं व चेतना में जो परिवर्तन होना चाहिए, वह होने से रह जाता है।

जिस जुलूस की मैंने चर्चा की, उसमें घटी एक घटना से मेरा ध्यान इस ओर गया। जब आयोजकों के वक्तव्य हो रहे थे, तब जुलूस में एक लड़की ने जबरदस्ती घुसकर अपनी बात कही। उसने कहा कि जिस प्रवृत्ति के खिलाफ हमने जुलूस निकाला, उसके लक्षण यहीं प्रकट हो रहे हैं। बार-बार कहा जा रहा था कि लड़कियां लड़कियों में रहें। यानी स्त्री स्वाभिमान व सम्मान के सवाल पर आयोजित इस विरोध-प्रदर्शन में भी आशंका बनी हुई है और लड़कियों की भलाई लड़कियों के साथ रहने में है। कुल मिलाकर लड़की ने हमारे समाज में मौजूद उस पाखंड की ओर ध्यान दिलाया, जिसके सहारे हम एकदम विरोधी विचारों से जीवन में तालमेल स्थापित कर लेते हैं। स्त्री सम्मान के लिए हो रहे विरोध प्रदर्शन में भी शामिल हो लेते हैं और ऐसी हरकतों में भी शामिल हो जाते हैं, जो स्त्री सम्मान की राई-छाई करने वाला होता है।

हाल में शशि थरूर ने बयान दिया कि हादसे की शिकार लड़की हमारे बीच नहीं है, इसलिए उसका नाम छिपाने की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि नए कानून को उस लड़की का नाम देकर उसे सम्मान देना चाहिए। जब से यह बयान मीडिया में आया है, कुछ लोग इसे लेकर राजनीति करने लगे। राजनीति इतनी प्रौढ़ कब होगी कि विरोधी की कही सही बात का स्वागत कर सके? मेरे विचार से यह सार्थक सुझाव है। दुर्व्यवहार का शिकार सामाजिक रूप से लांछित व अपमानित क्यों महसूस करे व दुर्व्यवहार करने वाला गौरवान्वित? हम ऐसा पाखंड मुक्त समाज क्यों नहीं बना सकते, जिसमें बर्बर को बर्बर कहा-समझा जा सके?
(ये लेखक के अपने विचार हैं)

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Rupees
क्रिकेट स्कोरबोर्ड