Image Loading
गुरुवार, 29 सितम्बर, 2016 | 00:17 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • पाक ने फिर तोड़ा सीजफायर, जम्मू-कश्मीर के पुंछ में पाक की ओर से फायरिंग, भारत की...
  • पाक के रक्षा मंत्री का बयान, कहा- कश्मीर भारत से अलग होगा, आजादी की लड़ाई कश्मीर...
  • सुब्रत रॉय को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत, परोल 24 अक्टूबर तक बढ़ाई: टीवी रिपोर्ट्स
  • पाकिस्तान में होने वाला सार्क सम्मलेन रद्द, भारत, भूटान, अफगानिस्तान और...
  • सुप्रीम कोर्ट ने भारतीय मछुआरों की हत्या के आरोपी इटेलियन मरीन लैतोरे को...
  • उरी हमला: गिरफ्तार गाइड ने किया खुलासा, पाकिस्तानी सेना के आईटी एक्सपर्ट देते थे...
  • कैबिनेट का फैसला, रेलवे कर्मचारियों को मिलेगा 78 दिन का उत्पादकता बोनस: टीवी...
  • शहाबुद्दीन की जमानत रद्द करने की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में कल भी सुनवाई जारी...
  • लोढ़ा पैनल ने सुप्रीम कोर्ट को कहा, बीसीसीआई हमारे सुझावों और दिशा निर्देशों का...
  • पाकिस्तानी कलाकारों फवाद, माहिरा और अली जफर के भारत छोड़ने पर बॉलीवुड सितारों...
  • टीम इंडिया में गंभीर की वापसी, भारत-न्यूजीलैंड टेस्ट के टिकट होंगे सस्ते। इसके...
  • मौसम अलर्ट: दिल्ली-NCR वालों को गर्मी से नहीं मिलेगी राहत। रांची, लखनऊ और देहरादून...
  • भविष्यफल: तुला राशि वालों को आज परिवार का भरपूर सहयोग मिलेगा, मन प्रसन्न रहेगा।...
  • हिन्दुस्तान सुविचार: जीवन के बुरे हादसे या असफलताओं को वरदान में बदलने की ताकत...
  • सार्क में हिस्सा नहीं लेंगे पीएम मोदी, गंभीर की दो साल बाद टीम इंडिया में वापसी,...
  • क्रिकेटर बालाजी 'रजनीकांत' के फैन हैं, आज बर्थडे है उनका। उनकी जिंदगी से जुड़े...

इस सूर्योदय की सलामी में

उर्मिल कुमार थपलियाल First Published:04-01-2013 07:34:34 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

एक, दो, तीन, चार, पांच, छह, सात, आठ, नौ, दस, ग्यारह, बारह, तेरह.. नाच नाचकर माधुरी दीक्षित कब से बुला रही थी। अब जब सन तेरह आ गया, तो माधुरी खुद सीन से गायब हैं। इससे तो यही सिद्ध होता है कि हरजाई कभी रजाई नहीं ओढ़ते, ताकि जब चाहें, दगा देकर निकल लें। यह तो तय है कि अब की बार के जाड़ों में युवा आक्रोश ने पुलिस व प्रशासन, दोनों को कनटोपा पहना दिया है। भ्रष्टाचार वाले एजेंडे में अब बलात्कार है। सरकार ने भी बता दिया है कि कैरेक्टर जाए भाड़ में, इन दिनों पॉलिटिकली करेक्ट होना जरूरी है। नए साल की बलिहारी है। मधु-कैटभ व शुंभ-निशुंभ तक कुंभ नहाने जा रहे हैं। क्या सपा, क्या बसपा। सरकार से खफा होने पर दोनों का नफा। विपक्ष का आचरण ही यही है कि ‘कथनी, करनी गायब बातें बड़ी-बड़ी। भुस में आग लगाय जमालो दूर खड़ी।’ हमारे देश के राजनीतिक वयोवृद्धों का क्या? एन डी तिवारी का कहना है कि- ‘गो हाथ में जुंबिश नहीं, आंखों में तो दम है। रहने दो अभी सागर-ओ-मीना मेरे आगे।’ कुछ राजनेता होते हैं, जिनका बुढ़ापा कथक महाराजों जैसा मजे से कटता है।

सन चौदह को देखते हुए राजनीति की कोचिंग क्लासेज शुरू हो गई हैं। कुछ सनकी और व्यवस्था विरोधी नारेनुमा गीत गाने में लगे हैं कि ‘जिस देश में बकैती रहती है। जिस देश में दंगे रहते हैं। हम उस देश के वासी हैं। जिस देश में नंगे रहते हैं।’ अब ऐसे विघ्नसंतोषियों का जब फास्ट फूड कुछ नहीं कर सका, तो फास्ट ट्रैक क्या कर लेगा?
कुछ भी हो, नए साल के पांव भारी लगते हैं। लगता है कि युवा शक्ति सरकार के आसमान में धान बोकर रहेगी। चिराग का जिन्न बाहर निकला है, तो कुछ न कुछ तो करेगा ही। यह तो उत्तर आधुनिक उत्साह है, जो जड़ीले शलजमों को उखाड़ने में लगा है। कृष्ण भले ही अपनी द्वारिका में बिजी हों, लेकिन इस बार उन्हें फिर से कौरव सभा में कांपती द्रौपदी की मदद करनी ही होगी। यह नई शक्ति, नए उत्साह, हिम्मत और साहस का नवोदय है। किसे पता था कि युवा जनशक्ति का सूर्योदय इस दम-खम के साथ होगा? इस नए सूर्य को सलाम!

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड