Image Loading
शुक्रवार, 09 दिसम्बर, 2016 | 13:14 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • INDvsENG: इंग्लैंड की पारी 400 रनों पर सिमटी, अश्विन ने छह और जडेजा ने लिए चार विकेट
  • अभी कितनी ट्रेनें देरी से चल रही हैं और कितनी हैं रद्द। ताजा हाल जानने के लिए...
  • INDvsENG: इंग्लैंड को लगा 9वां झटका, बॉल को अश्विन ने किया OUT
  • नोटबंदी भारत का सबसे बड़ा घोटाला है, सरकार चर्चा से घबरा रही हैः राहुल गांधी
  • नोटबंदी को लेकर विपक्ष के हंगामे के बाद लोकसभा की कार्यवाही 11.30 बजे तक के लिए...
  • INDvsENG: इंग्लैंड को लगा 8वां झटका, राशिद को जडेजा ने किया OUT
  • INDvsENG: इंग्लैंड को लगा सातवां झटका, वोक्स को जडेजा ने किया OUT
  • सेना को विवाद में घसीटने से दुखी रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने प.बंगाल की...
  • INDvsENG: इंग्लैंड को लगा छठा झटका, स्टोक्स को अश्विन ने किया OUT
  • मौसम अलर्टः उत्तर भारत में कड़ाके की ठंड। दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना, रांची और...
  • मिथुन राशिवालों की तरक्की के मार्ग खुलेंगे, आय बढ़ेगी। क्या कहते हैं आपके...
  • ये TIPS आजमाएंगे तो तुरंत दूर होगी एसिडिटी, जानें ये 5 जरूरी बातें
  • घने कोहरे के कारण 67 ट्रेनें लेट, 30 ट्रेनों के समय में बदलाव और दो ट्रेनें रद्द की...
  • GOOD MORNING: अब कर्मचारियों को वेतन से PF कटवाना जरूरी नहीं होगा, देश-दुनिया की बड़ी...

चीन के बदले रूप पर किसिंजर की सोच

गौरीशंकर राजहंस, पूर्व सांसद और पूर्व राजदूत First Published:02-01-2013 09:46:45 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

अमेरिका के पूर्व विदेश मंत्री हेनरी किसिंजर ने बीते साल के अंतिम दिनों में चीन के बारे में जो कुछ कहा, वह बताता है कि अमेरिका में चीन के बारे में किस तरह की राय बन रही है। गौरतलब है कि हेनरी किसिंजर हमेशा से चीन के प्रशंसक रहे हैं। उनसे जब यह पूछा गया कि चीन में जो नए नेताओं का चुनाव हुआ है, उससे चीन की राजनीति में कितना परिवर्तन आएगा और क्या यह देश अमेरिका का मित्र बन पाएगा?

इस वाला के उत्तर में किसिंजर का कहना था कि संसार के दो बड़े देश अमेरिका और चीन में राष्ट्रपति का चुनाव लगभग एक ही समय पर हुआ है। फर्क इतना है कि अमेरिका का राष्ट्रपति अपने देश में करीब-करीब सर्वशक्तिमान है और उसके अधिकारों पर पार्लियामेंट द्वारा बहुत कम अंकुश लगाया जा सकता है। परंतु चीन का राष्ट्रपति उतना स्वतंत्र नहीं है। उसे हर बात पर पोलित ब्यूरो की स्टैंडिंग कमेटी की मंजूरी लेनी होती है।

चीन के नए राष्ट्रपति शी जीनपिंग के बारे में पूछे जाने पर किसिंजर ने कहा कि उनकी तीन-चार बार मुलाकात शी से हुई है। वह उदारवादी विचारधाराओं के समर्थक हैं। किसिंजर ने कहा कि शी के पिताजी का संबंध सेना के शीर्ष अफसरों से बहुत ही मधुर था। अत: इस बात की पूरी उम्मीद की जानी चाहिए कि शी का सेना पर पूरा नियंत्रण रहेगा। परंतु सच्चई यह है कि काफी अर्से से चीन में सेना और सिविल सरकार के बीच रस्साकसी चल रही है और यह कहना बहुत कठिन है कि क्या शी सेना पर पूरा नियंत्रण प्राप्त कर सकेंगे। असल में, शी का विरोध हू जिंताओ के समर्थक कर रहे हैं। यह दिखाने के लिए कि सेना की असली कमान भी शी के हाथों में है, शी ने देश के परमाणु संयंत्रों के प्रमुख को अचानक जनरल का पद दे दिया। कोई चाहकर भी उनका विरोध नहीं कर सका।

हेनरी किसिंजर चाहे जो भी कहें, चीन में नए प्रधान ली केक्वीयांग और शी के बीच रस्साकसी जारी है। चीन के निवर्तमान प्रधानमंत्री वेन जियाबाओ पर यह आरोप लगा था कि उन्होंने भ्रष्ट तरीके से अकूत धन अर्जित कर लिया है और अधिकतर धन विदेशी बैंकों में जमा है। यद्यपि उन्होंने इन आरोपों का खंडन किया, पर दाग तो उन पर लग ही गया। इसलिए शी ने पदभार ग्रहण करते ही कहा कि वह सेना और सिविल सरकार, दोनों में भ्रष्टाचार को समाप्त कर देंगे। अपना पक्ष और भी अधिक मजबूती से रखने के लिए प्रधानमंत्री ली ने कहा कि कहने और करने में बहुत अंतर है। यदि भ्रष्टाचार का समूल नाश करना है, तो जल्दी से जल्दी शीर्ष पदों से सफाई करनी होगी।

किसिंजर चाहे जो कुछ कहें, चीन में एक तरह से अंदर ही अंदर सत्ता संघर्ष चल रहा है। लेकिन आश्चर्य की बात यह है कि किसिंजर ने इस पर जरा भी प्रकाश नहीं डाला कि अपने पड़ोसियों के साथ चीन जो दादागिरी कर रहा है, उसके बारे में नए राष्ट्रपति और नए प्रधानमंत्री का क्या रुख होगा?
(ये लेखक के अपने विचार हैं)

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Rupees
क्रिकेट स्कोरबोर्ड