Image Loading बदबूदार गीतों के गायक - LiveHindustan.com
बुधवार, 04 मई, 2016 | 03:33 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • आईपीएल 9: दिल्ली डेयरडेविल्स ने गुजरात लायंस को आठ विकेट से हराया।
  • आईपीएल 9: गुजरात लायंस ने दिल्ली डेयरडेविल्स के सामने 150 रन का लक्ष्य रखा
  • माल्या का त्यागपत्र प्रक्रिया के अनुरूप नहीं, इस पर वास्तविक हस्ताक्षर नहीं:...
  • राज्यसभा अध्यक्ष हामिद अंसारी ने प्रक्रियागत आधार पर विजय माल्या का इस्तीफा...
  • आईपीएल 9: दिल्ली डेयरडेविल्स ने गुजरात लायंस के खिलाफ टॉस जीता, पहले फील्डिंग का...
  • आगस्ता घूसकांड पर सोनिया गांधी के घर पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की बैठक: टीवी...
  • नीट मामलाः सुप्रीम कोर्ट ने राज्यों के इस साल अलग परीक्षा कराने की इजाजत पर...

बदबूदार गीतों के गायक

राजेन्द्र धोड़पकर First Published:02-01-2013 09:45:56 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

बदलते दौर के साथ कुछ चीजें अजीब हो गई हैं। पहले यह माना जाता था कि बाथरूम में गाने का हक सबको है, लेकिन रिकॉर्डिग स्टूडियो में गाने का हक उसी को है, जिसे गाना आता हो। अब जो फिल्मी गाने हैं, उन्हें सुनकर यह लगता है कि जैसे लड़कों के होस्टल के बाथरूम में इन्हें रिकॉर्ड कर लिया है। वैसे ही एक जमाने में सार्वजनिक शौचालयों में कुछ लोग अपने विचार प्रकट करते थे, जिनकी बदबू सार्वजनिक शौचालयों की आम बदबू से कम नहीं थी। अब मेरा खयाल है कि वे सारे लोग हिंदी फिल्मों में गाने लिखने लगे हैं और बचे हुए लोग टीवी के विभिन्न कॉमेडी कार्यक्रमों में आने लगे हैं। पहले शादी में बैंड बजाने वाले कुछ लोग तो अच्छे होते थे, लेकिन कुछ बैंड बहुत ही चालू टाइप के होते थे। इन चालू टाइप बैंड वालों की विशेषता यह थी कि उनके कई वाद्यों में से आवाज ही नहीं निकलती थी या उनसे कभी भी आवाज फूट पड़ती थी। ऐसे में वे कोई भी गाना बजाएं, उनके बैंड से धुन एक ही निकलती थी। अब ऐसे बैंडवाले फिल्मों में संगीतकार हो गए हैं। 17वीं सदी में औरंगजेब नामक समझदार बादशाह हुआ था, जो इस तरह के संगीत का निष्पक्ष और तटस्थ आलोचक हो सकता था। ये सारे संगीतवाले औरंगजेब की मृत्यु के कई सौ साल बाद पैदा हुए, इसलिए वे अपने उचित मूल्यांकन और इनाम से वंचित रहे। अब हमें इन्हें झेलना पड़ रहा है। मनमोहन सिंह से तो आप यह उम्मीद नहीं कर सकते कि वह यह काम करेंगे। वह कहेंगे ‘ठीक है’ और एक कमेटी बिठा देंगे।

यहां वैसे भी मुद्दा मनमोहन सिंह नहीं, यो यो हनी सिंह हैं। जैसे मनमोहन सिंह का बोलना जरूरी हो, तब भी वह नहीं बोलते, वैसे ही हनी सिंह को जब चुप रहना चाहिए, तब वह कथित गाने गाते हैं। अब समाज के आम लोगों ने हनी सिंह को चुप करने का बीड़ा उठा लिया है। 2012 के अंतिम दिन एक अच्छा काम हुआ कि जनता की भारी मांग पर हनी सिंह का कार्यक्रम रद्द कर दिया गया। यह वैसी ही खुशी है, जैसी तब होती है, जब आप पाते हैं कि कोई सार्वजनिक शौचालय साफ-सुथरा है और उसकी दीवारें चमचमा रही हैं।

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
पंत की आतिशी पारी से दिल्ली डेयरडेविल्स ने गुजरात लायंस को हरायापंत की आतिशी पारी से दिल्ली डेयरडेविल्स ने गुजरात लायंस को हराया
अपने गेंदबाजों के अनुशासित प्रदर्शन के बाद रिषभ पंत के 40 गेंद में 69 रन की बदौलत दिल्ली डेयरडेविल्स ने गुजरात लायंस को आठ विकेट से हराकर आईपीएल की अंकतालिका में दूसरे स्थान पर कब्जा कर लिया।