Image Loading
बुधवार, 28 सितम्बर, 2016 | 19:09 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • सुब्रत रॉय को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत, परोल 24 अक्टूबर तक बढ़ाई: टीवी रिपोर्ट्स
  • पाकिस्तान में होने वाला सार्क सम्मलेन रद्द, भारत, भूटान, अफगानिस्तान और...
  • सुप्रीम कोर्ट ने भारतीय मछुआरों की हत्या के आरोपी इटेलियन मरीन लैतोरे को...
  • उरी हमला: गिरफ्तार गाइड ने किया खुलासा, पाकिस्तानी सेना के आईटी एक्सपर्ट देते थे...
  • कैबिनेट का फैसला, रेलवे कर्मचारियों को मिलेगा 78 दिन का उत्पादकता बोनस: टीवी...
  • शहाबुद्दीन की जमानत रद्द करने की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में कल भी सुनवाई जारी...
  • लोढ़ा पैनल ने सुप्रीम कोर्ट को कहा, बीसीसीआई हमारे सुझावों और दिशा निर्देशों का...
  • पाकिस्तानी कलाकारों फवाद, माहिरा और अली जफर के भारत छोड़ने पर बॉलीवुड सितारों...
  • टीम इंडिया में गंभीर की वापसी, भारत-न्यूजीलैंड टेस्ट के टिकट होंगे सस्ते। इसके...
  • मौसम अलर्ट: दिल्ली-NCR वालों को गर्मी से नहीं मिलेगी राहत। रांची, लखनऊ और देहरादून...
  • भविष्यफल: तुला राशि वालों को आज परिवार का भरपूर सहयोग मिलेगा, मन प्रसन्न रहेगा।...
  • हिन्दुस्तान सुविचार: जीवन के बुरे हादसे या असफलताओं को वरदान में बदलने की ताकत...
  • सार्क में हिस्सा नहीं लेंगे पीएम मोदी, गंभीर की दो साल बाद टीम इंडिया में वापसी,...
  • क्रिकेटर बालाजी 'रजनीकांत' के फैन हैं, आज बर्थडे है उनका। उनकी जिंदगी से जुड़े...

हार के आगे

प्रवीण कुमार First Published:31-12-2012 07:24:17 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

फिल्म देख रहे थे वे। सेलवेस्टर स्टोलेन के एक संवाद पर ठहर गए थे। फिल्म खत्म हो गई, लेकिन वह संवाद दिमाग में घूमता रहा। दो बार हैवीवेट विश्व चैंपियन मुक्केबाज रॉकी ने फिल्म में कहा कि मारना उतना अहम नहीं है जितना सहना और चोट खा-खाकर उठना। इस संवाद ने उनकी सोच बदल दी।

दरअसल हम चोट खाने से डरते हैं और चोट खाकर अक्सर खुद पर तरस खाने लगते हैं और चाहते हैं कि हमें दुनिया की सहानुभूति मिले। विख्यात साइकालॉजिस्ट अल्बर्ट बेंडुरा ने कहा कि हम हारने के बाद जीत की प्रक्रिया से अधिक हार को लेकर खुद पर तरस खाने में व्यस्त रहते हैं। यह दौर जैसे ही थोड़ा लंबा खिंचता है हमारे अवचेतन में ये चीजें पैठ जाती हैं। बेंडुरा कहते हैं कि हार के बाद खुद को अपमानित समझने की सोच से हमें बचना चाहिए। आप सहन करने की ताकत बढ़ाएं तो आपके वार करने की ताकत खुद ब खुद बढ़ जाएगी।

जॉर्ज क्लूनी को 15 साल की उम्र में लकवा मार गया। उनकी एक आंख ने काम करना बंद कर दिया, उनका चयन बेसबॉल की टीम में नहीं हुआ। बगैर डिग्री लिए कॉलेज छोड़ने पर पिता ने साथ छोड़ा, जेब में एक पाई नहीं और हॉलीवुड को निकले। वहां भी प्रतिकूल स्थितियां मिलीं। सारी चोटों को उन्होंने जमा किया और आखिर चोट एक अदम्य ऊर्जा के तौर पर दिखी। ऐसा नहीं कि क्लूनी हमसे अलग हैं। उनकी तरह हम भी चोट खाते हैं, लेकिन इनसे हम कमजोर हो जाते हैं, ऊर्जावान नहीं।

हम दुनिया के सारे महान लोगों में एक बात कॉमन पाते हैं, वह यह कि वे खुद पर कभी तरस नहीं खाते। उनके लिए गिर कर उठना ज्यादा अहम है बनिस्पत गिरने से बचने के लिए सावधान मुद्रा में रहना। शायद ही कोई ऐसा सफल व्यक्ति हो जिसने जीवन में जीत से कम हार देखी हो। रॉकी भी तो केवल दो बार चैंपियन बने और हारे दर्जनों बार।

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड