Image Loading हार के आगे - LiveHindustan.com
गुरुवार, 05 मई, 2016 | 21:41 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • आईपीएल 9: राइजिंग पुणे सुपरजाइंटस ने दिल्ली डेयरडेविल्स के खिलाफ टॉस जीता, पहले...
  • पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के छठे और अंतिम चरण में 84.24 प्रतिशत मतदान: निर्वाचन...
  • यूपी बोर्ड का हाईस्कूल व इंटरमीडिएट रिजल्ट 15 मई को आएगा।
  • अन्नाद्रमुक ने स्कूटर मोपेड खरीदने के लिए महिलाओं को 50 प्रतिशत सब्सिडी देने,...
  • अन्नाद्रमुक ने तमिलनाडु विधानसभा चुनाव के लिए अपने घोषणापत्र में सब के लिए 100...
  • तमिलनाडुः अन्नाद्रमुक ने सभी राशन कार्ड धारकों को मुफ्त मोबाइल फोन देने का...
  • मध्यप्रदेश: सिंहस्थ कुंभ में तेज बारिश और आंधी से गिरे पांडाल, 4 की मौत
  • अगस्ता वेस्टलैंड मामला: पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी त्यागी के तीनों करीबी...
  • सेंसेक्स 160.48 अंक की बढ़त के साथ 25,262.21 और निफ्टी 28.95 अंक चढ़कर 7,735.50 पर बंद
  • वाईस एडमिरल सुनील लांबा होंगे नौसेना के अगले प्रमुख, 31 मई को संभालेंगे पद
  • यूपी सरकार ने केंद्र सरकार से बुंदेलखंड के लिए पानी के टैंकर मांगें-टीवी...
  • स्टिंग ऑपरेशन: हरीश रावत को सीबीआई ने सोमवार को पूछताछ के लिए बुलाया: टीवी...
  • नोएडा: स्कूल बसों और ऑटो की टक्कर में इंजीनियर लड़की समेत 2 की मौत। क्लिक करें

हार के आगे

प्रवीण कुमार First Published:31-12-2012 07:24:17 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

फिल्म देख रहे थे वे। सेलवेस्टर स्टोलेन के एक संवाद पर ठहर गए थे। फिल्म खत्म हो गई, लेकिन वह संवाद दिमाग में घूमता रहा। दो बार हैवीवेट विश्व चैंपियन मुक्केबाज रॉकी ने फिल्म में कहा कि मारना उतना अहम नहीं है जितना सहना और चोट खा-खाकर उठना। इस संवाद ने उनकी सोच बदल दी।

दरअसल हम चोट खाने से डरते हैं और चोट खाकर अक्सर खुद पर तरस खाने लगते हैं और चाहते हैं कि हमें दुनिया की सहानुभूति मिले। विख्यात साइकालॉजिस्ट अल्बर्ट बेंडुरा ने कहा कि हम हारने के बाद जीत की प्रक्रिया से अधिक हार को लेकर खुद पर तरस खाने में व्यस्त रहते हैं। यह दौर जैसे ही थोड़ा लंबा खिंचता है हमारे अवचेतन में ये चीजें पैठ जाती हैं। बेंडुरा कहते हैं कि हार के बाद खुद को अपमानित समझने की सोच से हमें बचना चाहिए। आप सहन करने की ताकत बढ़ाएं तो आपके वार करने की ताकत खुद ब खुद बढ़ जाएगी।

जॉर्ज क्लूनी को 15 साल की उम्र में लकवा मार गया। उनकी एक आंख ने काम करना बंद कर दिया, उनका चयन बेसबॉल की टीम में नहीं हुआ। बगैर डिग्री लिए कॉलेज छोड़ने पर पिता ने साथ छोड़ा, जेब में एक पाई नहीं और हॉलीवुड को निकले। वहां भी प्रतिकूल स्थितियां मिलीं। सारी चोटों को उन्होंने जमा किया और आखिर चोट एक अदम्य ऊर्जा के तौर पर दिखी। ऐसा नहीं कि क्लूनी हमसे अलग हैं। उनकी तरह हम भी चोट खाते हैं, लेकिन इनसे हम कमजोर हो जाते हैं, ऊर्जावान नहीं।

हम दुनिया के सारे महान लोगों में एक बात कॉमन पाते हैं, वह यह कि वे खुद पर कभी तरस नहीं खाते। उनके लिए गिर कर उठना ज्यादा अहम है बनिस्पत गिरने से बचने के लिए सावधान मुद्रा में रहना। शायद ही कोई ऐसा सफल व्यक्ति हो जिसने जीवन में जीत से कम हार देखी हो। रॉकी भी तो केवल दो बार चैंपियन बने और हारे दर्जनों बार।    

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
आईपीएल: पुणे ने टॉस जीता, गेंदबाजी का फैसलाआईपीएल: पुणे ने टॉस जीता, गेंदबाजी का फैसला
चोटों से जूझ रही महेंद्र सिंह धौनी की कप्तानी वाली राइजिंग पुणे सुपरजाएंट्स टीम ने गुरुवार को इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के नौवें संस्करण के तहत फिरोज शाह कोटला मैदान पर मेजबान दिल्ली डेयरडेविल्स के साथ जारी मुकाबले में टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया है।