Image Loading
रविवार, 29 मई, 2016 | 02:14 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • भ्रष्टाचार दीमक की तरह है, सपने को चूर चूर करने की ताकत भ्रष्टाचार में: पीएम मोदी
  • बिना कारण देश को निराशा के गर्त में धकेलना दुर्भाग्यपूर्ण: पीएम मोदी
  • लोकतंत्र में विरोध स्वाभाविक है, एक तरफ विकासवाद है तो दूसरी तरफ विरोधवाद है:...
  • मोदी सरकार के दो साल: 'नई सुबह' कार्यक्रम में बोले पीएम मोदी, चुनी हुई सरकार का...
  • केजरीवाल और पीएम मोदी लोगों को बेवकूफ बना रहे हैं: राहुल गांधी
  • आप विधायक वंदना ने विधानसभा उपाध्यक्ष पद से इस्तीफा दिया, निगम उपचुनाव में हार...
  • दिल्ली में राहुल गांधी की अगुवाई में बिजली और पानी को लेकर कांग्रेस का प्रदर्शन
  • उत्तराखंड के सीएम हरीश रावत का दावा, जल्द ही सामने आएगी सीडी, भाजपा नेताओं का भी...
  • मोदी सरकार के दो साल: 'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ' पर बोले अमिताभ, जहां नारी की पूजा होती...
  • मोदी सरकार के दो साल पर बोले केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली, विकास की कोशिश लगातार...
  • उत्तराखंड: टिहरी जिले के घनसाली में बादल फटा, गैंगर गांव के घरों, दुकानों में...
  • वी नारायणसामी पुडुचेरी में कांग्रेस विधायक दल के नेता निर्वाचित, मुख्यमंत्री...
  • बिहार बोर्ड इंटर आर्ट्स का रिजल्ट मार्कशीट के साथ जानने के लिए बने रहें livehindustan.com...
  • बिहार बोर्ड इंटर आर्ट्स का रिजल्ट सबसे पहले हमारे पास, क्लिक कर देखें रिजल्ट
  • कांग्रेस पी चिदंबरम, ऑस्कर फर्नांडिस, जयराम रमेश, अंबिका सोनी, विवेक तन्खा, कपिल...
  • बिहार बोर्ड का रिजल्ट आया, आप भी देखें अपना रिजल्ट यहां click कर
  • बिहार बोर्ड इंटर आर्ट्स का रिजल्ट आया। सिर्फ 56.40 % रहा परिणाम। पिछली साल के...
  • CBSE 10वीं रिजल्ट: CGPA से ऐसे निकालें अपना पर्सेन्टज....Click Here
  • CBSE Class X results: 96.36 प्रतिशत लड़कियां पास हुईं जबकि 96.11 प्रतिशत लड़के पास हुए हैं।
  • भाजपा झूठा जश्‍न मना रही है, इस सरकार ने कोई नए रोजगार नहीं दिएः चिदंबरम
  • पी चिदंबरम ने मोदी सरकार की योजनाओं पर उठाए सवाल, बोले- दो साल में देश का बुरा हाल

जन आंदोलन का जीवित रूप थे राजनारायण

शतरुद्र प्रकाश, समाजवादी नेता First Published:30-12-2012 07:56:33 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

दिल्ली की ठिठुरती ठंड में नौजवान जिस तरह इंडिया गेट पर जुटे व राष्ट्रपति भवन में जाने की कोशिश की, उससे 40 बरस पुराना एक वाकया याद आ गया। काशी हिंदू विश्वविद्यालय के जनतंत्रीकरण व शिक्षा में आमूल परिवर्तन की अपनी मांग राष्ट्रपति को बताने के लिए हम कुछ छात्रों ने तीन नवंबर 1971 को राष्ट्रपति भवन में प्रवेश किया। हम नारा लगाते हुए अंदर घुसे। सुरक्षाकर्मियों ने बंदूकें तान ली थीं, पर जान की किसको परवाह थी! गिरफ्तार करके हम लोगों को तिहाड़ जेल भेजा गया। राजनारायण तब राज्यसभा सदस्य थे। उनके हस्तक्षेप से हम लोगों को रिहा किया गया। रिहाई के बाद राष्ट्रपति के बुलावे पर राजनारायण के साथ हमने उन्हें अपनी बात बताई। अन्य बातों के अतिरिक्त राष्ट्रपति ने हमसे कहा, मैं तो मेहमान हूं, राष्ट्रपति तो आते-जाते रहेंगे, राष्ट्रपति भवन देश और जनता की अमानत है। 

ऐसे मौकों पर राजनारायण हमेशा याद आते हैं। बगैर सत्याग्रह व संघर्ष के वह लोकतंत्र को बेजान मानते थे। अपने पथ के अकेले पथिक थे- एक पैर जेल में, दूसरा पैर रेल में। जेल के बाहर रहने पर एक ही स्थान पर दो दिन ठहरना उनके लिए मुश्किल था। वह रमता जोगी-बहता पानी थे। वह काशी के थे। भारतीय राजनीति के कबीर थे। कबीर भी काशी के थे। जो घर जारे आपना चलै हमारे साथ..।  

राम मनोहर लोहिया उनके आदर्श व प्रेरणा, दोनों थे। उनके समाजवादी विचारों को साकार करने में वह जीवनर्पयंत लगे रहे। उनके व्यक्तित्व में हनुमान का बल था। लोहिया के जीवित रहते उन्होंने कई ऐतिहासिक सत्याग्रह व आंदोलन किए। 1956 में काशी विश्वनाथ मंदिर में हरिजन प्रवेश आंदोलन, अंग्रेजी हुकूमत की महारानी विक्टोरिया की काशी में लगी मूर्ति का भंजन आंदोलन, गरीबों को रोटी दिलाने के लिए विधानसभा में सत्याग्रह, जो जमीन को जोते-बोए, उसको जमीन का मालिक बनाने के लिए सत्याग्रह, आदि। लोहिया की मृत्यु के बाद भी उन्होंने कई आंदोलन किए।

1971 में वह रायबरेली से लोकसभा का चुनाव इंदिरा गांधी से हार गए। उन्होंने चुनाव को रद्द करने के लिए इलाहाबाद हाइकोर्ट में चुनाव याचिका दाखिल की, तो सब लोग उन पर हंसे। लेकिन जब इलाहाबाद उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति जगमोहन लाल सिन्हा का फैसला आया, तो एक नया इतिहास बन गया। चुनाव रद्द हो गया। उस फैसले के बाद जय प्रकाश नारायण के संपूर्ण क्रांति के आंदोलन में ऐसा जबर्दस्त उबाल आया कि देश में भूचाल आ गया था। देश में आपातकाल लगाना पड़ा और इसके बाद राजनारायण ने उसी रायबरेली से इंदिरा गांधी को चुनाव हराकर एक इतिहास रचा। वह आजीवन व्यवस्था परिवर्तन के लिए संघर्षरत रहे। मनमाफिक व्यवस्था बनाने के लिए खुद की बनाई व्यवस्था को तोड़ने में उन्हें कोई मोह न हुआ। दिल्ली के जंतर-मंतर पर जमा हो रहे नौजवानों को इसी जज्बे की जरूरत है।
(ये लेखक के अपने विचार हैं)

 

 
 
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
Bihar Board Result 2016
Assembely Election Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
कोहली की चुनौती के लिए तैयार है सनराइजर्स का सबसे सफल गेंदबाजकोहली की चुनौती के लिए तैयार है सनराइजर्स का सबसे सफल गेंदबाज
सनराइजर्स हैदराबाद के शुक्रवार को दूसरे क्वालीफायर में गुजरात लायंस पर चार विकेट की जीत के साथ फाइनल में जगह बनाने के बाद तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार ने कहा कि उनकी टीम खिताबी मुकाबले में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर की चुनौती से निपटने के लिए तैयार हैं।