Image Loading
बुधवार, 28 सितम्बर, 2016 | 00:27 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • भारतीय टीम में गौतम गंभीर की वापसी, कोलकाता टेस्ट के लिए टीम में शामिल
  • इस्लामाबाद में होने वाले सार्क सम्मलेन में भाग नहीं लेंगे पीएम मोदी: MEA
  • पंजाब-हिमाचल सीमा पर संदिग्ध की तलाश, पठानकोट में संदिग्ध की तलाश जारी, पुलिस ने...
  • पाकिस्तान के हाई कमिश्नर अब्दुल बासित को विदेश मंत्रालय ने किया तलब, उरी हमले के...
  • CBI ने सुप्रीम कोर्ट से बुलंदशहर गैंगरेप केस में कथित बयान को लेकर यूपी के मंत्री...
  • दिल्लीः कॉरपोरेट मंत्रालय के पूर्व डीजी बी के बंसल ने बेटे के साथ की खुदकुशी,...
  • मामूली बढ़त के साथ खुला शेयर बाजार, सेंसेक्स 78.74 अंको की तेजी के साथ 28,373 और निफ्टी...
  • US Election Debate: ट्रंप की योजनाएं अमेरिका की अर्थव्यव्स्था के लिए ठीक नहीं, हमें सब के...
  • हावड़ा से दिल्ली की ओर जा रही मालगाड़ी पटरी से उतरी, सुबह की घटना, अभी रेल यातायात...
  • क्रिकेटर बालाजी 'रजनीकांत' के फैन हैं, आज बर्थडे है उनका। उनकी जिंदगी से जुड़े...

दूसरों के लिए मिसाल कायम कर गया जीने का जज्बा

नई दिल्ली, विवेक पांडेय First Published:29-12-2012 11:37:26 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

दिल्ली में चलती बस में गैंगरेप का शिकार हुई युवती जिंदगी की जंग भले ही हार गई, लेकिन मौत से लड़ने का उसका जज्बा औरों के लिए मिसाल बन गया। सफदरजंग अस्पताल में युवती का इलाज करने वाले डॉक्टर राजकुमार बताते हैं, 16 दिसंबर की रात जब छह दरिंदों की हवस का शिकार बनी युवती को इलाज के लिए अस्पताल लाया गया, तब उसकी हालत देख सजर्री में माहिर उनके हाथ कांप उठे। युवती के शरीर से काफी खून बह रहा था और वह दर्द से कराह रही थी। लेकिन उसमें जीने की अद्भुत चाह थी, जिसने उन्हें सर्जरी करने की हिम्मत दी।

राजकुमार के मुताबिक इलाज के दौरान युवती जब भी होश में आती, चिट्ठी लिखकर जीने की इच्छा जताती। यह पूछती कि उसके गुनाहगार सलाखों के पीछे गए कि नहीं। राजकुमार ने बताया कि युवती खुद को एक कामयाब डॉक्टर के रूप में स्थापित करना चाहती थी। वह अपने गांव के लोगों की सेवा करना चाहती थी। आगे चलकर कुछ कर दिखाने की उसकी इसी चाह ने उसकी सांसें बनाए रखी और वह 13 दिन तक जिंदगी से जद्दोजहद करती रही।

उन्होंने कहा कि युवती आज भले ही हमारे बीच नहीं है, लेकिन उसकी हिम्मत और हौसला आने वाली हर पीढ़ी के लिए मिसाल बनेगा। बलिया में रहने वाली युवती के रिश्ते की बहन भी बताती है कि युवती बचपन से ही काफी मजबूत दिल की थी। वह झूठ और बुराई से सख्त नफरत करती थी।

घर में जब भी कोई गलत बात होती, वह सबसे पहले आवाज उठाती। युवती के चाचा ने कहा, ‘मेरी भतीजी बहुत बहादुर थी। वह बचपन से ही डॉक्टर बनने के सपने देखती थी। उसकी यही ख्वाहिश थी कि गांव को एक अच्छा डॉक्टर मिले।’ गैंगरेप वाले दिन पीसीआर को युवती की सूचना देने वाले पेट्रोलिंग ऑफिसर जीत सिंह कहते हैं, ‘मैं अपने करियर में कई दर्दनाक हादसों का गवाह बन चुका हूं, लेकिन युवती के साथ हुई दरिंदगी को देखकर मेरी रूह कांप उठी। उसका दर्द मैं अंदर तक महसूस कर सकता था।’

सिंह के मुताबिक जब उन्होंने अखबारों और टीवी पर युवती के हिम्मत व हौसले की कहानी पढ़ी-देखी तो उनकी आंखें नम हो गईं। उन्हें यकीन ही नहीं हो रहा था कि इतनी बुरी हालत में भी मौत को मात देने का ऐसा जज्बा किसी में हो सकता है।

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड