Image Loading बदला और शांति - LiveHindustan.com
सोमवार, 02 मई, 2016 | 00:52 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • आईपीएल 9: मुंबई इंडियंस ने राइजिंग पुणे सुपरजाइंटस को आठ विकेट से हराया।
  • पद्मावती एक्सप्रेस हादसे की शिकार, 8 बोगियां पटरी से उतरीं, कई लोगों के जख्मी...
  • आईपीएल 9: राइजिंग पुणे सुपरजाइंटस ने मुंबई इंडियंस के सामने 160 रन का लक्ष्य रखा
  • आईपीएल 9: किंग्स इलेवन पंजाब ने गुजरात लायंस को 23 रन से हराया
  • आईपीएल 9: मुंबई इंडियंस ने टॉस जीता, राइजिंग पुणे सुपरजाइंटस को दिया पहले...
  • वाराणसी: अस्सीघाट पर पीएम मोदी के मंच पर शार्ट सर्किट से मचा हडकंप
  • IPL: पंजाब ने गुजरात को जीत के लिए दिया 155 रन का लक्ष्य

बदला और शांति

राजीव कटारा First Published:28-12-2012 07:31:34 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

अपनी सीट पर निढाल से वह बुदबुदाए जा रहे थे। ‘मैं उसे कतई नहीं छोड़ंगा। मुझे बदला लेना है। जब तक मैं बदला नहीं ले लेता। मेरे दिल में ठंडक नहीं पड़ेगी।’ क्या बदला लेने से ही हम शांत हो सकते हैं? सोशल साइकोलॉजिस्ट केविन कार्लस्मिथ का कहना था कि बदला हमें इसलिए चाहिए कि उससे हमें शांति मिलेगी। लेकिन उस मकसद के लिए बदला उलटा ही काम करता है। वह कॉलगेट यूनिवर्सिटी से जुड़े हुए थे। पिछले साल ही 44 साल की उम्र में कैंसर ने उन्हें हमसे छीन लिया। उनकी एक रिसर्च बेहद चर्चित रही है, ‘द पैराडॉक्सिकल कॉन्सिक्वेन्शेज ऑफ रिवेन्ज।’ दरअसल, कार्ल की रिसर्च कह रही थी कि ऊपर से ऐसा जरूर लगता है। लेकिन बदला लेने की सबसे बड़ी दिक्कत यह है कि हम लगातार उसी ‘शख्स’ के बारे में सोचते रहते हैं।

उससे हम पीछा नहीं छुड़ा पाते। उस शख्स से जुड़ा दुख या पीड़ा लगातार हमारे साथ चलती रहती है। लेकिन जब हम उसे ‘जाने भी दो कह कर’ आगे बढ़ जाते हैं, तो ज्यादा शांति महसूस करते हैं। हमें जिंदगी में आगे बढ़ना ही होता है। हम एक जगह पर अटक कर नहीं जी सकते। यह अटकाव हमारे जिंदगी के लिए अच्छा नहीं है। अगर कोई चीज हमें अटका कर रखती है, तो हमारा ही नुक्सान करती है। हमें जिंदगी में बहुत सारी चीजें करनी पड़ती हैं। बदला कभी हमारा मकसद नहीं हो सकता।

बिना भूले और भुलाए जिंदगी आगे नहीं बढ़ती। अगर हम उस पर ठीक से नहीं सोचते हैं, तो अपने लिए ही दिक्कत खड़ी करते हैं। होता यह है कि हमारी जिंदगी आगे बढ़ जाती है और हम कहीं ठहरे खड़े रह जाते हैं। मान लो वहीं खड़े रह कर हम बदला लेने में कामयाब भी हो जाएं। तब जो जिंदगी इतनी आगे निकल गई है, उसका क्या होगा? क्या अपने पिछड़ेपन से हमें कभी शांति मिल सकती है?

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
फिर चमका रोहित का बल्ला, मुंबई की आसान जीतफिर चमका रोहित का बल्ला, मुंबई की आसान जीत
आखिरी 12 ओवरों की कसी हुई गेंदबाजी और बाद में कप्तान रोहित शर्मा के आईपीएल के वर्तमान सत्र में लक्ष्य का पीछा करते हुए लगातार पांचवें अर्धशतक की बदौलत मुंबई इंडियन्स ने राइजिंग पुणे सुपरजाइंटस को आठ विकेट से हराकर अंकतालिका में दूसरा स्थान हासिल कर लिया।