Image Loading
बुधवार, 28 सितम्बर, 2016 | 15:44 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • उरी हमला: गिरफ्तार गाइड ने किया खुलासा, पाकिस्तानी सेना के आईटी एक्सपर्ट देते थे...
  • कैबिनेट का फैसला, रेलवे कर्मचारियों को मिलेगा 78 दिन का उत्पादकता बोनस: टीवी...
  • शहाबुद्दीन की जमानत रद्द करने की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में कल भी सुनवाई जारी...
  • लोढ़ा पैनल ने सुप्रीम कोर्ट को कहा, बीसीसीआई हमारे सुझावों और दिशा निर्देशों का...
  • पाकिस्तानी कलाकारों फवाद, माहिरा और अली जफर के भारत छोड़ने पर बॉलीवुड सितारों...
  • टीम इंडिया में गंभीर की वापसी, भारत-न्यूजीलैंड टेस्ट के टिकट होंगे सस्ते। इसके...
  • मौसम अलर्ट: दिल्ली-NCR वालों को गर्मी से नहीं मिलेगी राहत। रांची, लखनऊ और देहरादून...
  • भविष्यफल: तुला राशि वालों को आज परिवार का भरपूर सहयोग मिलेगा, मन प्रसन्न रहेगा।...
  • हिन्दुस्तान सुविचार: जीवन के बुरे हादसे या असफलताओं को वरदान में बदलने की ताकत...
  • सार्क में हिस्सा नहीं लेंगे पीएम मोदी, गंभीर की दो साल बाद टीम इंडिया में वापसी,...
  • क्रिकेटर बालाजी 'रजनीकांत' के फैन हैं, आज बर्थडे है उनका। उनकी जिंदगी से जुड़े...

नए भारत के इस बीज को सींचने की जरूरत

वृंदा करात, सांसद और सदस्य माकपा पोलित ब्यूरो First Published:27-12-2012 07:11:20 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

यदि दिल्ली पुलिस और सरकार ने अपने बुनियादी कर्तव्य सही तरीके से निभाए होते, तो सिंगापुर के माउंट एलिजाबेथ हॉस्पिटल में पल-पल जिंदगी की दर्दनाक जंग लड़ रही छात्र आज अपनों के बीच सुरक्षित हंस-बोल रही होती। उदाहरण के तौर पर, यदि पूर्व में लिए गए फैसले के मुताबिक, काले शीशे वाली बसों के मालिकों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की गई होती, तो इतना वीभत्स कांड न हो पाता। लेकिन फिर भी दिल्ली के शीर्ष पुलिस अधिकारी, जिन्हें गाइडलाइन्स पालन न करने के लिए सजा मिलनी चाहिए, अपनी तारीफ में खुद ही कसीदे गढ़े जा रहे थे और गृह मंत्री उनके बचाव में उतर आए। बल्कि सुशील कुमार शिंदे ने तो युवा प्रदर्शनकारियों की ही तुलना माओवादियों से कर डाली।

इस मर्मातक घटना के बाद देश और राजधानी दिल्ली में लोगों का गुस्सा फूटना लाजिमी था। दिल्ली में महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराधों का आलम यह है कि सिर्फ एक साल में 600 बलात्कार की घटनाएं दर्ज की गई हैं, जिनमें से आधे से अधिक तो छोटी बच्चियों के साथ यह क्रूरता हुई। हर दिन हजारों औरतों को सड़कों पर, बसों व मेट्रो में तरह-तरह की यौन प्रताड़ना का शिकार बनना पड़ता है। कामकाजी महिलाएं खास तौर पर निशाने पर होती हैं। लेकिन महिला संगठनों की लगातार कोशिशों के बावजूद इस मामले में सरकार व प्रशासन की तरफ से षड्यंत्रपूर्वक खामोशी ओढ़ी जाती रही। दिल्ली में आज जो नारे सुनाई पड़ रहे हैं, वे इस बात के संकेत हैं कि अब चुप्पी बर्दाश्त नहीं की जाएगी और इसीलिए हम इस आंदोलन का दिल से स्वागत करते हैं।

दिल्ली की सड़कों पर हजारों नौजवान लड़के आज पीड़ित लड़की के लिए इंसाफ की मांग कर रहे हैं। मुमकिन है कि इस आंदोलन से युवकों में संवेदनशीलता आए और वे महिलाओं को उपभोग की वस्तु की बजाय उन्हें बराबरी की नजर से देखें, यदि महिला साथी के साथ कुछ गलत होता हुआ उन्हें दिखे, तो वे खुलकर उसका साथ दें, अपने घरों में भी अपनी बहनों के साथ होने वाले किसी तरह के भेदभाव को खत्म कराएं व दहेज की मांग न करें। आखिर महिलाओं के खिलाफ बढ़ती हिंसा और यौन अपराधों के लिए पुरुष ही दोषी हैं। इसलिए सबसे महत्वपूर्ण बात है पुरुषों, खासकर नौजवानों के नजरिये का बदलना और उम्मीद है कि यह आंदोलन इस लिहाज से असरदार छाप छोड़ेगा।

इस आंदोलन की सबसे अहम और गौर करने लायक बात यह है कि इसमें हजारों की संख्या में युवतियों ने खुद-ब-खुद भाग लिया है। पीड़िता जिस दर्द से गुजर रही है, उसकी टीस आज तमाम युवतियों के चेहरे पर है। दरअसल, सार्वजनिक जगहों पर मिले निजी अनुभवों की पीड़ा ने इन्हें एक सूत्र में बांधा है। यही नहीं, इस आंदोलन में भागीदारी से उन्हें जरूर यह साहस मिला है कि वे अब अपने घरों में भी खुद के साथ होने वाले किसी भेदभाव पर सवाल पूछेंगी।
(ये लेखिका के अपने विचार हैं)

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड