Image Loading गलत मत कदम बढ़ाओ, सोचकर चलो - LiveHindustan.com
रविवार, 01 मई, 2016 | 00:18 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • पेट्रोल 1.06 रुपये प्रति लीटर जबकि डीजल 2.94 रुपये प्रति लीटर महंगा हुआ
  • पेट्रोल डीजल महंगा हुआ।
  • आईपीएल 9: सनराइजर्स हैदराबाद ने रॉयल चैलेंजर्स बैंगलौर के सामने 195 रन का लक्ष्य...
  • रितिक के साथ विवाद में कंगना का बयान दर्ज, साइबर पुलिस ने दर्ज किया बयान, कंगना ने...
  • आईपीएल 9: रॉयल चैलेंजर्स बैंगलौर ने सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ टॉस जीता, पहले...
  • मुंबई: कमाठीपुरा में इमारत ढही, 3 लोगों की मौत, क्लिक कर पढ़े विस्तार से
  • आईएएस अधिकारी की तीन राज्यों में 800 करोड़ की संपत्ति, क्लिक कर पढ़ें विस्तार से

गलत मत कदम बढ़ाओ, सोचकर चलो

First Published:26-12-2012 09:28:55 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

कुछ लोग हड़बड़ी में कुछ भी कह-बोल देते हैं और कोई भारी गड़बड़ हो जाती है। कई लोग ऐसी गलती नहीं करते, वे हर काम काफी सोच-समझकर, पूरा वक्त लेकर करते हैं और ज्यादा भारी गड़बड़ कर देते हैं।

हमारा सौभाग्य है कि हमारी सरकार चलाने वालों पर हम यह आरोप नहीं लगा सकते कि वे अगंभीरता से जल्दबाजी में फैसले करते हैं। वे सड़क पार करते वक्त पहली कक्षा में बताए मुताबिक पहले दाहिनी तरफ देखते हैं, फिर बाईं तरफ, फिर दाएं देखते हैं, फिर बाएं देखते हैं, फिर दाहिनी और बाईं तरफ देखते हैं और आखिरी बार दाहिनी तरफ देखकर सड़क पार करते हैं। यह बात और है कि इस बीच एक बस दाएं से चली आती है और उन्हें टक्कर मारकर चली जाती है।

हमारे गृह मंत्री के घर के बाहर आग लग जाए, तो वह तुरंत पानी की बाल्टी लेकर नहीं दौड़ेंगे। वह सोचेंगे कि अगर आज मैं पानी की बाल्टी लेकर दौड़ा, तो कल असम में कहीं आग लगेगी, तो मुझसे यह उम्मीद की जाएगी कि मैं बाल्टी लेकर दौड़ूंगा। परसों महाराष्ट्र में आग लग सकती है, उसके अगले दिन माओवाद ग्रस्त बस्तर के जंगलों में आग लगेगी, तो मैं कहां-कहां दौड़ूंगा। फिर वे तय करते हैं कि पानी की बाल्टी लेकर दौड़ना अच्छा फैसला नहीं होगा? इस बीच हो सकता है कि उनके घर सहित दो-चार घर और जल जाएं।

ऐसी ही दूर की सोच प्रधानमंत्री की भी है। वह सोचेंगे कि पहले देख लेते हैं कि आग कितनी दूर तक फैलती है। हो सकता है कि वह अपने आप ही बुझ जाए। दो दिन बाद भी आग जलती रही, तो वह सोचेंगे कि पानी डाला जाए, या फूंक मारी जाए। गंभीर विचार के बाद वह तय करेंगे कि पानी ही ठीक रहेगा। फिर यह विचार करेंगे कि कितना पानी डाला जाए, एक चम्मच काफी होगा, एक ग्लास डालना होगा या एक बाल्टी की जरूरत होगी।

सलाह करने के बाद वह तय करेंगे कि कुछ भी किया जाए, कोई फर्क नहीं पड़ेगा क्योंकि आग में सब कुछ जलकर राख हो चुका है। पर उन्हें बताया जाएगा कि बतौर पीएम उन्हें कुछ तो करना होगा। तब वह चम्मच भर पानी ले जाकर अंगारों पर डालेंगे और पूछेंगे- ‘ठीक है?’
राजेन्द्र धोड़पकर

 

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
वार्नर की तूफानी पारी, सनराइजर्स का बड़ा स्कोरवार्नर की तूफानी पारी, सनराइजर्स का बड़ा स्कोर
डेविड वार्नर शतक से चूक गए लेकिन उनकी एक और कप्तानी पारी तथा केन विलियमसन के साथ शतकीय साझेदारी की मदद से सनराजइर्स हैदराबाद ने बारिश से प्रभावित आईपीएल मैच में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू के खिलाफ पांच विकेट पर 194 रन का बड़ा स्कोर बनाया।