Image Loading
गुरुवार, 05 मई, 2016 | 23:34 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • आईपीएल 9: राइजिंग पुणे सुपरजाइंटस ने दिल्ली डेयरडेविल्स को सात विकेट से हराया
  • सिंहस्थ नगरी उज्जैन में आंधी-बारिश, 7 की मौत, 90 घायल, पढ़े पूरी रिपोर्ट
  • खेतान ने यूरोपीय बिचौलियों से धन लेने की बात स्वीकारी, क्लिक करें
  • आईपीएल 9: दिल्ली डेयरडेविल्स ने राइजिंग पुणे सुपरजाइंटस के सामने 163 रन का लक्ष्य...
  • आईपीएल 9: राइजिंग पुणे सुपरजाइंटस ने दिल्ली डेयरडेविल्स के खिलाफ टॉस जीता, पहले...
  • पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के छठे और अंतिम चरण में 84.24 प्रतिशत मतदान: निर्वाचन...
  • यूपी बोर्ड का हाईस्कूल व इंटरमीडिएट रिजल्ट 15 मई को आएगा।
  • अन्नाद्रमुक ने स्कूटर मोपेड खरीदने के लिए महिलाओं को 50 प्रतिशत सब्सिडी देने,...
  • अन्नाद्रमुक ने तमिलनाडु विधानसभा चुनाव के लिए अपने घोषणापत्र में सब के लिए 100...
  • तमिलनाडुः अन्नाद्रमुक ने सभी राशन कार्ड धारकों को मुफ्त मोबाइल फोन देने का...
  • मध्यप्रदेश: सिंहस्थ कुंभ में तेज बारिश और आंधी से गिरे पांडाल, 4 की मौत
  • अगस्ता वेस्टलैंड मामला: पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी त्यागी के तीनों करीबी...
  • सेंसेक्स 160.48 अंक की बढ़त के साथ 25,262.21 और निफ्टी 28.95 अंक चढ़कर 7,735.50 पर बंद
  • वाईस एडमिरल सुनील लांबा होंगे नौसेना के अगले प्रमुख, 31 मई को संभालेंगे पद
  • यूपी सरकार ने केंद्र सरकार से बुंदेलखंड के लिए पानी के टैंकर मांगें-टीवी...
  • स्टिंग ऑपरेशन: हरीश रावत को सीबीआई ने सोमवार को पूछताछ के लिए बुलाया: टीवी...
  • नोएडा: स्कूल बसों और ऑटो की टक्कर में इंजीनियर लड़की समेत 2 की मौत। क्लिक करें

मस्तिष्क की प्रसारण सेवा

रेनू सैनी First Published:25-12-2012 08:01:02 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

रेडियो की प्रसारण सेवा से तो सभी परिचित हैं, पर मस्तिष्क की भी एक प्रसारण सेवा होती है। मस्तिष्क में विचारों की प्रसारण सेवा लगातार जारी रहती है, जो हमें हर कार्य की सूचना देती है। यह प्रसारण सेवा ऐसी है, जिसे सिर्फ आप ही सुन और समझ सकते हैं। उसे सुनने के बाद आप अपने व्यवहार को दूसरों के सामने प्रकट करते हैं। यदि आपके दिमाग ने प्रसारित किया, ‘मैं खुश हूं’, तो आपको यही सुनाई देगा और आप वास्तव में खुश रहेंगे। इसके विपरीत यदि मस्तिष्क यह प्रसारित करता है कि ‘मैं बहुत दुखी हूं, मेरे जीने का कोई अर्थ नहीं है, मेरे लिए सब रास्ते बंद हो चुके हैं’, तो आप प्रत्यक्ष रूप से दुखी हो जाएंगे और यही मनोभाव आप दूसरों के सामने भी दर्शाएंगे। जो लोग ज्यादातर अपने मस्तिष्क में नकारात्मक व दुखी बातों को प्रसारित करते रहते हैं, कुछ समय बाद उनका स्वभाव ही नकारात्मक व दुखी सोच का हो जाता है। जेबोरियन जिबान कहते हैं कि ‘हम-आप अपने मस्तिष्क में जो विचार जमा करते हैं, वही हमारी आदतों में शुमार हो जाते हैं।

मात्र दो सप्ताह तक उन विचारों को मस्तिष्क में जमा रखने पर वे स्वभाव में बदल जाते हैं।’ कई लोग दुखी व नकारात्मक विचार अपने अंदर नहीं लाना चाहते, लेकिन वे उत्पन्न हो जाते हैं। अच्छे और बुरे विचारों का प्रसारण आपके हाथों में होता है। आप अपने बारे में बुरी बातें प्रसारित करेंगे, तो उससे निराशा, परेशानियां और तनाव ही मिलेगा। यदि अच्छे विचारों का प्रसारण आपके मस्तिष्क में होगा, तो सफलता मिलेगी। एक प्रसिद्ध विद्वान के अनुसार, ‘विल पॉवर से हम अपने मन के भय को दूर करते हैं, जबकि वेल पॉवर किसी चीज को हासिल करने के लिए एक जोश, एक जज्बा पैदा करता है। आपके पास जितना अधिक वेल पॉवर होगा, आप उतनी ही अधिक सफलता की ओर बढ़ेंगे।’ इसलिए दिमाग को ऐसा बनाएं कि वह अच्छी व सकारात्मक सूचनाएं प्रसारित कर सके।

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
कोहली-तेंदुलकर के बीच तुलना अनुचित है: युवराजकोहली-तेंदुलकर के बीच तुलना अनुचित है: युवराज
अनुभवी बाएं हाथ के बल्लेबाज युवराज सिंह को लगता है कि भारत के टेस्ट कप्तान विराट कोहली इस पीढ़ी के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज हैं लेकिन उनकी तुलना सचिन तेंदुलकर से करना अनुचित है क्योंकि दिल्ली के इस क्रिकेटर को मास्टर ब्लास्टर की बराबरी करने के लिए काफी मेहनत करनी होगी।