Image Loading सरकार ने माना भारत में गरीब-अमीर की खाई बढ़ी - LiveHindustan.com
शुक्रवार, 29 अप्रैल, 2016 | 21:25 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • आईपीएल 9: गुजरात लायंस ने टॉस जीता, राइजिंग पुणे सुपरजाइंटस को पहले बल्लेबाजी का...
  • बिहार के आरा में कपड़े के मॉल में धमाका, कई लोग घायल: टीवी रिपोर्ट्स
  • अगस्ता वेस्टलैंड घोटाला: प्रवर्तन निदेशालय ने पूर्व सेना अध्यक्ष एस पी त्यागी...
  • क्लिक करें और पढ़ें खबर-40 हजार भारतीयों को जापान देगा नौकरी
  • पीएम की शैक्षणिक योग्यताओं के बारे में सभी आरटीआई आवेदनों का जवाब दें डीयू और...
  • मुरादाबाद: नारंगपुर गांव में किसान बोरवेल में गिरा, रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू
  • अगस्ता वेस्टलैंड पर बोले भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, देश को गुमराह कर रही है...
  • EPF पर 8.8 फीसदी ब्याद मिलेगा, ब्याज दर 8.7 से बढ़कर 8.8 फीसदी की गई: टीवी रिपोर्ट्स
  • EXCLUSIVE: दुनिया के सबसे अधिक अनपढ़ पाकिस्तान में हैंः तारेक

सरकार ने माना भारत में गरीब-अमीर की खाई बढ़ी

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:20-12-2012 10:12:13 PMLast Updated:20-12-2012 11:39:38 PM
सरकार ने माना भारत में गरीब-अमीर की खाई बढ़ी

सरकार ने गुरुवार को संसद में बताया कि 2004-05 से 2009-10 के बीच देश में उपभोक्ता खर्च और आय दोनों ही मानदंडों पर गरीब अमीर के बीच की खाई थोड़ा बढ़ी है। यह अंतर गांव और शहर दोनों जगह बढ़ा है।

संसदीय मामले और योजना राज्यमंत्री राजीव शुक्ला ने एक लिखित उत्तर में कहा कि राष्ट्रीय प्रतिदर्श सर्वेक्षण कार्यालय (एनएसएसओ) द्वारा एकत्र किए गए परिवार उपभोक्ता व्यय संबंधी आंकड़ों के आधार पर गिनी गुनांक के रूप में असमानता ग्रामीण क्षेत्रों में वर्ष 2004-05 के 0.27 से बढ़कर वर्ष 2009-10 में 0.28 हो गयी है जबकि शहरी क्षेत्र में इस दौरान 0.35 से बढ़कर 0.37 हो गयी।

वह इस सवाल का जवाब दे रहे थे कि क्या देश में असमानता बढ़ी है। मंत्री ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय अनुभव दर्शाते हैं कि विकास के आरंभिक चरण में विषमता बढ़ती है।
 उन्होंने कहा कि बेहतर आर्थिक बुनियाद, हाल में भारत ने जो उच्च आर्थिक वृद्धिदर को देखा है, उसने जनसमुदाय विशेषकर गरीबों और सीमांत लोगों के जीवनस्तर की गुणवत्ता पर निर्णायक प्रभाव डालने की क्षमता को बढ़ाया है।

ग्यारहवीं योजना के दौरान भी अधिकांश राज्यों ने टिकाऊ उच्च वृद्धि दर को देखा है जिसमें वे कमजोर राज्य भी शामिल हैं जिनकी वृद्धि दर में सुधार हुआ है।

उन्होंने कहा कि इन राज्यों में बिहार, ओडिशा, असम, राजस्थान, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, उत्तराखंड और कुछ हद तक उत्तर प्रदेश भी शामिल हैं। उपलब्ध आंकड़ों का हवाला देते हुए मंत्री ने कहा कि किसी भी राज्य ने 11वीं योजनावधि के दौरान छह प्रतिशत से कम की वृद्धि हासिल नहीं की।

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
 
|
 
 
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
आईपीएल 9: पुणे को लगा शुरुआती झटकाआईपीएल 9: पुणे को लगा शुरुआती झटका
राइजिंग पुणे सुपरजाइंटस को गुजरात लायंस के खिलाफ आईपीएल मैच में शुरुआती झटका लग गया है। समाचार लिखे जाने तक पुणे ने 9 ओवर में एक विकेट खोकर 70 रन बना लिए थे। अजिंक्य रहाणे 28 और स्टीवन स्मिथ 38 रन बनाकर क्रीज पर मौजूद थे।