Image Loading
गुरुवार, 29 सितम्बर, 2016 | 19:04 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • पुंछ में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़, 2-3 आतंकियों को घेरा, एक जवान घायल:...
  • भारत ने सर्जिकल स्ट्राइक की जानकारी 22 देशों के राजदूतों को दी: टीवी रिपोर्ट्स
  • जम्मू में एहतियातन सीमा से सटे गांव को खाली कराने का आदेश
  • सभी दलों की बैठक में DGMO ने कहा, जरूरत पड़ी तो हमले के लिए तैयार
  • पाकिस्तान के नकारने पर भारत सरकार जारी कर सकती है सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो:...
  • सर्जिकल स्ट्राइक पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का बयान, कांग्रेस पार्टी...
  • बॉर्डर पर तैनात सभी सैनिकों की छुट्टियां हुई रद्द
  • एक और खुशखबरी: अंडर-18 हॉकी एशिया कप में भारत ने पाकिस्तान को 3-1 से हराया
  • सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर नार्थ ब्लाक में सर्वदलीय बैठक शुरू
  • भारतीय सेना के सर्जिकल स्ट्राइक पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा, देश की...
  • सेना की सर्जिकल स्ट्राइक पर बोले केजरीवाल, 'भारत माता की जय'
  • वाघा बार्डर पर बीटिंग रिट्रीट रद्द की गई। (ANI)
  • पाक नहीं मान रहा था इसलिए पीएम नरेंद्र मोदी ने देर रात लिया हमले का फैसला।
  • उरी हमले का बदलाः हेलीकॉप्टर से LOC पारकर भारतीय सेना ने किया हमला, कई आतंकी...
  • भारतीय सेना ने LOC पारकर भीमबेर, केल, लिपा और हॉटस्प्रिंग सेक्टर में घुसकर आतंकी...
  • पीएम मोदी ने शाम 4 बजे सर्वदलीय बैठक बुलाई, पाकिस्तान से तनाव को लेकर होगी और...
  • भारतीय सेना की सर्जिकल स्ट्राइक की खबर के बाद सेंसेक्स में 555 अंकों और निफ्टी में...
  • पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने हमले की निंदा की। कहा, हम अपने देश की...
  • भारत ने कल पाकिस्तान से लगे एलओसी में किया सर्जिकल स्ट्राइक, लांचिंग पैड को...
  • डीजीएमओ रणबीर सिंह की प्रेस कांफ्रेंस: एलओसी पर एक महीने में पाकिस्तान की ओर से 20...
  • मोस्ट फेवर्ड नेशन (MFN) दर्जे पर होने वाली पीएम की समीक्षा बैठक टली, अगले हफ्ते होगी...
  • यूपी: सोनभद्र में रिहंद बांध के 11 दरवाजे खोले गए, निचले इलाके में रहने वाले...
  • करीना कपूर ने किया अपने बारे में एक बड़ा खुलासा, इसके अलावा पढ़ें बॉलीवुड जगत की...
  • बाजार अपडेटः 168 अंकों की तेजी के साथ खुला शेयर बाजार, सेंसेक्स 28,454 पर। निफ्टी भी 47...
  • पुजारा को लेकर अलग-अलग है कोच कुंबले और कोहली की सोच, इसके अलावा पढ़ें क्रिकेट और...
  • कर्क राशि वालों का आज का दिन भाग्यशाली साबित होगा, जानिए आपके सितारे क्या कह रहे...
  • वेटर, बस कंडक्टर से बने सुपरस्टार, क्या आपमें है ऐसा कॉन्फिडेंस? पढ़ें ये सक्सेस...
  • सवालों के घेरे में सीबीआई, रेल कर्मचारियों को सरकार का बड़ा तोहफा, सुबह की 5 खास...

उनका दोष बस यह है कि वे निम्न जाति के हैं

First Published:19-12-2012 10:15:01 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

पांच साल पहले जब मैं पूर्वी चंपारण के गांव रामपुर बैरिया गया, तो वहां के अल्लाहपुर टोला में रहने वाले गरीब लोग एक हादसे से गुजरे थे। आधी रात को उनकी झोपड़ियों पर मिट्टी का तेल छिड़ककर आग लगा दी गई थी। यह मामला अब तक न्यायालय में लंबित है। तब उन लोगों ने बताया था कि गांव में एक मस्जिद है, जहां नमाज के वक्त भी गरीब मुसलमानों को केहूनी लगाकर पीछे की सफ (लाइन) में धकेल दिया जाता है। बड़े लोग कहते हैं कि उनको हमारा बदन महकता है। हमारे बच्चों को भी मदरसे में तंग किया जाता है। उनका कहना था कि ये सारे जुल्म इसलिए हो रहे हैं कि वे बड़े लोगों की बैठ-बेगारी नहीं करना चाहते। यहां तक कि एक लड़की की शादी के समय बारातियों की यह कहकर पिटाई की गई कि रजील (छोटी जात) का दूल्हा मारुती कार में सवार होकर उनके दरवाजे से कैसे गुजर सकता है? शादी में बने पुलाव-गोश्त में भी बड़े लोगों ने मिट्टी मिला दी। थाने में शिकायत की, तो गरीब मुसलमानों को ही हाजत में बंद कर दिया गया। उन गरीब मुसलमानों ने मुङो अपने टोले में बनी फूस की मस्जिद भी दिखाई और बताया कि जब हम लोगों ने अपनी इस मस्जिद की तामीर की, तो उन लोगों ने आकर इसे यह कहते हुए गिरा दिया कि छोटे से इस गांव में दो अजान कैसे हो सकती हैं? यह भी झमेला पैदा किया कि इस मस्जिद की जमीन उनकी है। बाद में अधिकारियों के हस्तक्षेप से उनकी मस्जिद फिर से बनी।

बाद में मैंने अपने एमपी लैड के पैसे से उस गरीब बस्ती में एक सामुदायिक भवन बनवाया। इसी सामुदायिक भवन में मदरसा भी चलने लगा। इस टोले के लिए शिक्षा विभाग ने प्राथमिक विद्यालय भी स्वीकृत कर दिया। मुखिया को यह बात गवारा नहीं थी कि रजीलों के बच्चे पढ़ें-लिखें। इसलिए वह पैरवी-पैसे के बल पर उस स्कूल को अपने मुहल्ले में उठाकर ले गया। फिर रोज-रोज का झगड़ा चलने लगा और मामला हाईकोर्ट पहुंच गया। अपने नामांकन में पूरी जानकारी न देने के लिए मुखिया के खिलाफ चुनाव आयोग में शिकायत की गई। तफ्तीश में तेजी आई, तो हिंसा भी बढ़ी। पिछले दिनों अकबर अली नाम के एक विकलांग को पीट-पीटकर अधमरा कर दिया गया।

मुखिया और उनके समर्थकों के हमलावर होने का तात्कालिक कारण भले यह रहा हो, मगर बुनियादी सवाल यह है कि यदि इस्लाम धर्म मसावात (बराबरी) और भाईचारे का मजहब है, इसमें कोई जात-पात, ऊंच-नीच नहीं है, तब ये सारी बीमारियां हमें क्यों दिख रही हैं? कोई अपने को क्यों आला जात समझता है, तो किसी को अदना, हकीर-फकीर और रजील? यहां भी जात जन्मना क्यों बन गई है? और मरने के बाद भी पीछा क्यों नहीं छोड़ती? जिस तबके पर जुल्म हो रहा है, अंत में उसे आगे आना ही होगा।
(ये लेखक के अपने विचार हैं)

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
क्रिकेट स्कोरबोर्ड