Image Loading
मंगलवार, 31 मई, 2016 | 11:22 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • एडमिरल सुनील लांबा बने नौसेना प्रमुख
  • महाराष्ट्र के केंद्रीय हथियार डिपो में आग, सेना के 17 लोगों की मौत: टीवी रिपोर्ट
  • शेयर बाजार: सेंसेक्स 103 अंक चढ़कर 26,828 पर खुला, निफ़्टी 8,205
  • श्रीलंकाई नेवी ने रामेश्वरम के पास भारतीय नौका पकड़ी, 7 भारतीय मछुआरे गिरफ्तार
  • विदेश मंत्री सुषमा स्वराज आज करेंगी अफ्रीकी छात्रों से मुलाकात
  • मध्यम दूरी तक मार करने वाली उत्तर कोरियाई मिसाइल का प्रक्षेपण विफल

मलिक ने गुमराह किया: शिंदे

नई दिल्ली, विशेष संवाददाता First Published:17-12-2012 11:37:35 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

केंद्र सरकार ने पाकिस्तान के सबसे बड़े झूठ को बेनकाब करते हुए कहा है कि लश्कर-ए-तैयबा के सरगना व मुंबई हमले के षड्यंत्रकारी हाफिज सईद को इस मामले में कभी गिरफ्तार ही नहीं किया गया। जबकि पाकिस्तान के गृह मंत्री भारत यात्रा के दौरान यह दावा करते रहे कि सईद को तीन बार मुंबई हमले में गिरफ्तार किया गया, लेकिन सबूतों के अभाव में वह छूट गया। मगर, इस नए खुलासे से पाकिस्तान की असलियत अब दुनिया के सामने आ गई है।

गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने पाकिस्तान के गृह मंत्री रहमान मलिक के भारत दौरे पर सोमवार को संसद में दिए बयान में यह खुलासा किया। उन्होंने कहा कि गत शुक्रवार को हुई बातचीत के दौरान मलिक ने उनसे कहा कि वह सईद की गिरफ्तारी के संदर्भ में दस्तावेज अपने साथ लेकर आए हैं। शिंदे के कहने पर मलिक ने उन्हें सईद की वर्ष 2002 और 2009 में की गई गिरफ्तारी से संबंधित दस्तावेज उपलब्ध कराए। 

गृह मंत्री ने कहा कि इन दस्तावेजों की जब जांच की गई तो पता चला कि दोनों मामलों में सईद की गिरफ्तारी 26./11 मुंबई हमले की बजाय अन्य कारणों से हुई थी।  शिंदे ने कहा कि वह सिर्फ यही कह सकते हैं कि इस बारे में मलिक को वहां के अधिकारियों ने गलत जानकारी दी। गृह मंत्री ने सदन में मलिक से विभिन्न मुद्दों पर हुई बातचीत का ब्योरा भी रखा।

 

 
 
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
Bihar Board Result 2016
Assembely Election Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
CEAT अवॉर्ड्स: कोहली बने साल के सर्वश्रेष्ठ टी-20 खिलाड़ीCEAT अवॉर्ड्स: कोहली बने साल के सर्वश्रेष्ठ टी-20 खिलाड़ी
भारत के स्टार बल्लेबाज विराट कोहली को साल का सिएट टी20 खिलाड़ी चुना गया जबकि पूर्व भारतीय कप्तान दिलीप वेंगसरकर को एक समारोह में आजीवन उपलब्धि पुरस्कार से नवाजा गया। इस दौरान कई पूर्व और वर्तमान खिलाड़ी भी उपस्थित थे।