Image Loading
बुधवार, 28 सितम्बर, 2016 | 14:02 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • लोढ़ा पैनल ने सुप्रीम कोर्ट को कहा, बीसीसीआई हमारे सुझावों और दिशा निर्देशों का...
  • पाकिस्तानी कलाकारों फवाद, माहिरा और अली जफर के भारत छोड़ने पर बॉलीवुड सितारों...
  • टीम इंडिया में गंभीर की वापसी, भारत-न्यूजीलैंड टेस्ट के टिकट होंगे सस्ते। इसके...
  • मौसम अलर्ट: दिल्ली-NCR वालों को गर्मी से नहीं मिलेगी राहत। रांची, लखनऊ और देहरादून...
  • भविष्यफल: तुला राशि वालों को आज परिवार का भरपूर सहयोग मिलेगा, मन प्रसन्न रहेगा।...
  • हिन्दुस्तान सुविचार: जीवन के बुरे हादसे या असफलताओं को वरदान में बदलने की ताकत...
  • सार्क में हिस्सा नहीं लेंगे पीएम मोदी, गंभीर की दो साल बाद टीम इंडिया में वापसी,...
  • क्रिकेटर बालाजी 'रजनीकांत' के फैन हैं, आज बर्थडे है उनका। उनकी जिंदगी से जुड़े...

पापा, आप नहीं समझोगे

अशोक सण्ड First Published:17-12-2012 10:40:09 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

बच्चनजी को याद कर सदी के महानायक जब अपने ‘बाबूजी’ की रचनाओं का पाठ करते हैं, तब सहसा कौंध जाता है कि वन्स अपॉन अ टाइम हिंदी बेल्ट में फादर को बाबूजी, पिताजी, बाउजी,अब्बा, वालिद पुकारने का रिवाज था। महाभारत के टीवी संस्करण ने फादर को शॉर्ट टाइम के लिए ‘पिताश्री’ जरूर बनाया, पर चहुंओर अब पापा का ही बोलबाला है।अलबत्ता आधुनिक घरानों में पापा या तो ‘पा’ बन गए या फिर ‘डैड’ की गति को प्राप्त हैं।

अंग्रेजी के फादर को हिंदी में बाप कहते हैं। फादर थोड़ा सफिस्टीकेटेड है, इस वजह से आज के दुलत्ती-मय युग में लात खाने से बचने के लिए मौका मुताबिक ‘बाप’ ही बनाए जाते हैं। फादर दो प्रकार के होते हैं। पहला जो जन्म देता है, अर्थात ‘बायोलॉजिकल फादर।’ दूसरा, जो किसी पाणिग्रहण करते ही ओरिजिनल को आउट कर कानूनन ‘इन’ हो जाता है। फादर-इन-लॉ।

बेचैन-हांफती जिंदगी में चैन की बंसी बाप भरोसे ही बजाई जा सकती है। कहा भी गया है-बड़े बाप के बेटे हैं, जब से जन्मे लेटे हैं। ऐसे सपूत ही फंस जाने पर ललकारते हैं, ‘शायद तुम नहीं जानते मेरा बाप कौन है..।’ पूरा घर अपने अंदर समेटे बाप घर का दरवाजा होते हैं। बाप छत होते हैं आसमान के विरुद्ध। अभेद्य दीवार होते हैं, खतरों के सामने। वेदना, विस्मय की मनोदशा में बाप ही याद आते हैं.. अरे बाप रे!

बेटे के परफॉर्मेस पर ही टिकी रहती है बाप की हैसियत। बेटा लायक, तो क्रेडिट उसकी मेहनत को। बिगड़ जाए, तो बाप जिम्मेदार। बेटे को गद्दीनशीं करने वाले अधिकतर बाप मुलायम किस्म के होते हैं। सख्त बाप बेटे की मोहब्बत को दीवार में चुनवा देते हैं।

अबूझ पहेली ‘कटोरे पे कटोरा..’ जीवन सूत्र हैं अब। दर्जी से सिले कपड़े पहनने, खजूर छाप घी खाने वाले बापों की ब्रांडेड कपड़े पहनने व कांटीनेंटल भोजन करने वाली संतानें ‘सुपर गोरी’ हैं। सीटी न बजा पाने वाले बाप के बेटे शंख बजा रहे हैं। अत: ‘पूज्य पिताजी’ से ‘माई डियर पापा’ की गति को प्राप्त बापों सावधान! पुराने मूल्यों और संस्कारों का हवाला दिया तो कदाचित सुनना पड़ेगा..‘पापा, आप नहीं समझोगे..।’

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड