Image Loading
बुधवार, 28 सितम्बर, 2016 | 10:38 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • पाकिस्तानी कलाकारों फवाद, माहिरा और अली जफर के भारत छोड़ने पर बॉलीवुड सितारों...
  • टीम इंडिया में गंभीर की वापसी, भारत-न्यूजीलैंड टेस्ट के टिकट होंगे सस्ते। इसके...
  • मौसम अलर्ट: दिल्ली-NCR वालों को गर्मी से नहीं मिलेगी राहत। रांची, लखनऊ और देहरादून...
  • भविष्यफल: तुला राशि वालों को आज परिवार का भरपूर सहयोग मिलेगा, मन प्रसन्न रहेगा।...
  • हिन्दुस्तान सुविचार: जीवन के बुरे हादसे या असफलताओं को वरदान में बदलने की ताकत...
  • सार्क में हिस्सा नहीं लेंगे पीएम मोदी, गंभीर की दो साल बाद टीम इंडिया में वापसी,...
  • क्रिकेटर बालाजी 'रजनीकांत' के फैन हैं, आज बर्थडे है उनका। उनकी जिंदगी से जुड़े...

डॉक्टर की हत्या के मामले में तीन गिरफ्तार

गाजियाबाद, एजेंसी First Published:17-12-2012 04:33:32 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

गाजियाबाद के श्याम पार्क इलाके से 21 नवंबर से लापता डॉंक्टर की हत्या के मामले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने उनके कब्जे से दो तमंचे, हत्या में प्रयुक्त कार और गला दबाने के लिए इस्तेमाल किया गया गमछा भी बरामद कर लिया है।

साहिबाबाद के थाना प्रभारी रामनाथ सिंह यादव ने बताया कि श्याम पार्क मेन की गंली नंबर तीन में डां शशि भूषण रहते थे। उनका वहीं रहने वाले धमेन्द्र चौधरी उर्फ पप्पू के साथ एक मकान के मालिकाना हक को लेकर विवाद चल रहा था जिसमें डां भूषण गवाह थे।

इस मामले में धमेन्द्र ने अदालत में गवाही न देने के लिए उन्हें धमकाया भी था। इसके बाद डां भूषण यहां से काम बंद कर गोवा चले गये थे। प्रापर्टी विवाद में ही 30 नवंबर को गवाही थी। धर्मेन्द्र को इस बात का डर था कि डॉक्टर की गवाही से विवादित मकान उसके हाथ से चला जाएगा।

यादव ने बताया कि डां शशि भूषण छठ पूजा पर यहां आए हुएं थे। इसी दौरान तीनों ने पूरी योजना बनाकर हत्या की साजिश रच डाली। धर्मेन्द्र के अलावा पकड़े गये दोनों आरोपियों पर इंदिरापुरम थाने में लूट और अन्य अपराध के मुकदमे दर्ज है। यादव के अनुसार धमेन्द्र चौधरी पूरी घटना के पीछे शामिल थे, जिसने डॉंक्टर की हत्या कर शव ठिकाने लगाने के लिए दोनों को एक लाख रुपये दिये गये थे। धमेन्द्र ने उन दोनों को 25 हजार रुपये भी दिये थे। डां भूषण उनमें से एक प्रवीण को पहले से जानते थे। वे उनकी कार में बैठ गए। इसके बाद रास्ते में उन दोनों ने डां भूषण के साथ बैठकर शराब पी और फिर कार लेकर मुरादनगर के रावली रोड होते हुए खिमावती गांव पहुंच गए। वहां उन्होंने डॉक्टर की गमछे से गला घोंट कर हत्या कर दी और शव को पास के ईख के खेत में फेंक दिया था।

इस बीच चार दिसंबर को मुरादनगर पुलिस ने ईख के खेत से शव बरामद किया मगर पहचान नहीं होने के चलते कुछ दिन बाद अंतिम संस्कार कर दिया गया था।

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड