Image Loading
बुधवार, 28 सितम्बर, 2016 | 05:30 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • भारतीय टीम में गौतम गंभीर की वापसी, कोलकाता टेस्ट के लिए टीम में शामिल
  • इस्लामाबाद में होने वाले सार्क सम्मलेन में भाग नहीं लेंगे पीएम मोदी: MEA
  • पंजाब-हिमाचल सीमा पर संदिग्ध की तलाश, पठानकोट में संदिग्ध की तलाश जारी, पुलिस ने...
  • पाकिस्तान के हाई कमिश्नर अब्दुल बासित को विदेश मंत्रालय ने किया तलब, उरी हमले के...
  • CBI ने सुप्रीम कोर्ट से बुलंदशहर गैंगरेप केस में कथित बयान को लेकर यूपी के मंत्री...
  • दिल्लीः कॉरपोरेट मंत्रालय के पूर्व डीजी बी के बंसल ने बेटे के साथ की खुदकुशी,...
  • मामूली बढ़त के साथ खुला शेयर बाजार, सेंसेक्स 78.74 अंको की तेजी के साथ 28,373 और निफ्टी...
  • US Election Debate: ट्रंप की योजनाएं अमेरिका की अर्थव्यव्स्था के लिए ठीक नहीं, हमें सब के...
  • हावड़ा से दिल्ली की ओर जा रही मालगाड़ी पटरी से उतरी, सुबह की घटना, अभी रेल यातायात...
  • क्रिकेटर बालाजी 'रजनीकांत' के फैन हैं, आज बर्थडे है उनका। उनकी जिंदगी से जुड़े...

मुख्यमंत्री के बयान का भाजपा ने किया विरोध

First Published:16-12-2012 11:34:32 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

नई दिल्ली। वरिष्ठ संवाददाता

मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के उस बयान पर भाजपा ने कड़ी आपत्ति जाहिर की है जिसमें कथित पर 600 रुपये में प्रति महीने पांच सदस्यों वाले परिवार को दाल और चावल जैसी बुनियादी आवश्यकताएं पूरी होने की बात की गई है। भाजपा नेता विजय गोयल ने अन्नश्री योजना शुरू करने के लिए मुख्यमंत्री दीक्षित को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि उनको आटे-दाल का भाव नहीं मालूम। वहीं मुख्यमंत्री ने कहा है कि उनके बयानों को संदर्भ से परे रखकर पेश किया गया है।

भाजपा नेता गोयल ने कहा कि दीक्षित कभी क्षुग्गियों, अवैध कालोनियों और गांव में नहीं गईं। इसलिए महिला होने के बावजूद उन्हें आटा और दाल का कुछ भी पता नहीं है। भाजपा नेता ने कहा कि कांग्रेसी सरकार चुनाव से पहले मतदाताओं को लुभाने के लिए इस योजना की शुरूआत की है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री दीक्षित का यह दावा है कि पांच सदस्यों वाले परिवार को चलाने के लिए 600 रुपये पर्याप्त हैं। इसका मतलब यह है कि एक व्यक्ति के लिए चार रुपये प्रतिदिन।

गोयल ने कहा कि इससे पहले योजना आयोग के उपाध्यक्ष मोंटेक सिंह अहलूवालिया ने भी कहा था कि ग्रामीण क्षेत्र में 27 और शहरी क्षेत्रों में 32 रुपये प्रतिदिन किसी परिवार का खर्च चलाने के लिए पर्याप्त है। उन्होंने सरकार की नकदी स्थांतरण योजना के लिए लोगों की पहचान किए जाने की योग्यता पर सवाल खड़े किए और कहा कि यह सिर्फ चुनाव में मतदाताओं को लुभाने का हथकंडा है।

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड