Image Loading
बुधवार, 25 मई, 2016 | 03:04 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • आईपीएल पहला क्वालीफायरः आरसीबी ने गुजरात लायंस को चार विकेट से हराया
  • आईपीएल पहला क्वालीफायरः आरसीबी को 15 गेंदों पर जीतने के लिए चाहिए 15 रन
  • आईपीएल पहला क्वालीफायरः आरसीबी ने 15 ओवर में छह विकेट खोकर 110 रन बनाए
  • आईपीएल पहला क्वालीफायरः आरसीबी ने 11 ओवर में छह विकेट खोकर 81 रन बनाए
  • आईपीएल पहला क्वालीफायरः आरसीबी का पांचवां विकेट 29 रन के स्कोर पर गिरा
  • आईपीएल पहला क्वालीफायरः आरसीबी का चौथा विकेट गिरा, स्कोर 28/4 (4.5 ओवर)
  • आईपीएल पहला क्वालीफायरः गुजरात लायंस ने लगातार गेंदों पर आरसीबी को दो झटके दिए
  • आईपीएल पहला क्वालीफायरः आरसीबी ने 3 ओवर में एक विकेट खोकर 25 रन बनाए
  • आईपीएल पहला क्वालीफायरः गुजरात लायंस ने 20 ओवर में 158 रन बनाए
  • आईपीएल पहला क्वालीफायरः गुजरात लायंस ने 15 ओवर में चार विकेट पर 104 रन बनाए
  • देखें VIDEO: सलमान और अनुष्का की फिल्म 'सुलतान' का ट्रेलर जारी
  • आईपीएल पहला क्वालीफायरः गुजरात लायंस ने 10 ओवर में तीन विकेट पर 58 रन बनाए
  • आईपीएल पहला क्वालीफायरः गुजरात लायंस के दो विकेट सिर्फ 6 रन पर गिरे
  • केंद्र एक्ट ईस्ट नीति के तहत असम और पूर्वोत्तर के अन्य राज्यों को उनके त्वरित...
  • शपथ ग्रहण समारोह: देश का आदिवासी समाज सर्बानंद पर गर्व करता है-पीएम मोदी
  • असम में बीजेपी के 6 और असम गण परिषद के 2 और बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट के 2 मंत्रियों ने...
  • सात राज्य नीट के लिए तैयार, दिल्ली की अभी सहमति नही: जे पी नड्डा
  • सर्बानंद सोनोवाल ने असम के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली
  • असम में सर्बानंद सोनोवाल का शपथ ग्रहण समारोह: पीएम मोदी भी पहुंचे
  • असम के मुख्यमंत्री के शपथ ग्रहण समारोह में अमित शाह समेत कई बड़े नेता पहुंचे
  • नजफगढ़ में विमान दुर्घटनाग्रस्त नहीं हुआ, विमान की इमरजेंसी लैंडिंग कराई गई
  • लखनऊ, चंडीगढ़, फरीदाबाद, अगरतला समेत 13 नए शहर स्मार्ट सिटी के लिए चुने गए
  • राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने NEET अध्यादेश पर किए हस्ताक्षर
  • इसी सप्ताह आएगा 10वीं का परीक्षा परिणामः सीबीएसई
  • शेयर बाजार: सेंसेक्स 10 अंक फिसलकर 25,220 पर खुला, निफ़्टी 7731
  • दिल्ली: खराब मौसम के कारण करीब 24 उड़ानें डाइवर्ट हुईं और 12 देर से पहुंचीं
  • बिहार- एमएलसी मनोरमा देवी की जमानत याचिका पर सुनवाई, कोर्ट ने मांगी केस डायरी

कम अपराध के आकड़ों में उलझी व्यवस्था

दिनेश पाठक, स्थानीय संपादक, हिन्दुस्तान, कानपुर First Published:16-12-2012 10:54:21 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

तब चौधरी चरण सिंह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे व एन एस सक्सेना आईजी, पुलिस। पुलिस तब भी मुकदमे दर्ज करने के प्रति बेहद लापरवाह थी। जब सक्सेना साहब को पुलिस प्रमुख की जिम्मेदारी मिली, तो उन्होंने आदेश दिए कि जितने भी फरियादी थाने आएं, उनके मामले जरूर दर्ज किए जाएं। पुलिस ने मुकदमा दर्ज करना शुरू किया, तो राज्य में हो रहे अपराध दस्तावेजों में आए और सही सूरत दिखने लगी। मुख्यमंत्री ने आईजी को बुलाकर पूछा, तो उन्होंने सच बताकर संसाधन बढ़ाने की मांग की। मांगें मानी भी गईं। लेकिन अब न चौधरी चरण सिंह रहे, और न एन एस सक्सेना।

पुलिस अफसर हों या शासन में बैठे आईएएस, कम पुलिस बल के बावजूद बेहतर कानून-व्यवस्था के दावे से कोई परहेज नहीं करता। यह सब बेहतरीन इसलिए दिखाई दे रहा है कि पुलिस अपराध को दर्ज करने से परहेज करती है। गंभीर अपराध को हल्की धाराओं में दर्ज करना उसकी फितरत में शामिल है। सबको पता है  कि जमीनी असलियत दर्ज नहीं हो रही। दर्ज वही मामले हो रहे हैं, जो अफसरों के लिए सुविधाजनक हैं। यह सब इसलिए हो रहा है कि आला अफसर अपराध की समीक्षा करते समय भी सच का सामना करने को तैयार नहीं हैं। हर हाल में अपराध पिछले साल से कम दिखना चाहिए। बढ़ा, तो खैर नहीं। उनकी साख इन्हीं आंकड़ों से जुड़ी है। थानेदार से लेकर डीएसपी, एसपी, डीआईजी तक के मन को यही भाता है।

कोई यह नहीं सोचता कि अपराध छिपाकर वह कैसे समाज की रचना करना चाहता है। हकीकत में जितने अपराध हो रहे हैं, उनके दर्ज होने से लगेगा कि अचानक बाढ़ आ गई। सच यह है कि इसका फायदा असल में किसी को नहीं मिल रहा। सरकार को भी नहीं। हां, क्षण भर के लिए उन अफसरों को जरूर लाभ दिखता है, जिनके लिए यह कुरसी बचाने का शॉर्टकट है। हां, अपराधियों को इसका सीधा फायदा जरूर मिल रहा है।
रास्ता एक ही तरह से निकल सकता है। बस यह तय करना होगा कि अपराध के आंकड़े बढ़ने पर किसी के खिलाफ कार्रवाई नहीं होगी। अलबत्ता, अपराधियों के न पकड़े जाने पर सजा जरूर मिलेगी। सच सामने आने पर पुलिस विभाग पर काम के बोझ को समझने में भी सरकार को सुविधा होगी। पुलिस बल का विस्तार, संसाधनों का विकास आदि उसी आधार पर होगा, उसी के अनुरूप कार्रवाई होगी। अपराधियों की तलाश तेज होगी। खुलासे पर नीचे से ऊपर तक दबाव रहेगा। भारत सरकार के मानक के मुताबिक, एक लाख की आबादी पर 145 पुलिसकर्मी होने चाहिए। इस हिसाब से उत्तर प्रदेश में 1.11 लाख पुलिसकर्मी कम हैं। सच सामने आएगा, तो संख्या बढ़ाने का सरकारों पर दबाव बनेगा। पर अभी जो हो रहा है, आखिर कब तक चलेगा? जब आबादी बढ़ रही है, पढ़े-लिखे बेरोजगार बढ़ रहे हैं, संसाधन बढ़ रहे हैं, खुलापन बढ़ रहा है, तो भला अपराध कम होने की कल्पना हम कैसे कर सकते हैं?

 

 
 
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
Jharkhand Board Result 2016
Assembely Election Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
आईपीएल 9: डिविलियर्स ने आरसीबी को फाइनल में पहुंचायाआईपीएल 9: डिविलियर्स ने आरसीबी को फाइनल में पहुंचाया
शीर्ष क्रम के धुरंधरों की नाकामी से एक समय बैकफुट पर पहुंचे रायल चैलेंजर्स बेंगलूर ने गुजरात लायन्स को चार विकेट से हराकर आईपीएल नौ के फाइनल में प्रवेश किया।