Image Loading
शनिवार, 03 दिसम्बर, 2016 | 01:30 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • CISF ने देश के अलग-अलग एयरपोर्ट से नोटबंदी के बाद अब तक 39.11 करोड़ कैश, 40 लाख रुपये की...
  • फॉर्मूला वन वर्ल्ड चैंपियन निको रोजबर्ग ने की रिटायरमेंट की घोषणा
  • आयकर विभाग ने पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिन्दर सिंह के खिलाफ विदेशी संपति...
  • दिल्ली हाईकोर्ट ने जनवरी में देश के अलग-अलग हिस्से से गिरफ्तार किए गए IS के 15...
  • ऐसे सरकारी कर्मचारी जो सरकारी आवास में तय अवधि के बाद भी रहते हैं तो उन्हें...
  • लोढ़ा कमेटी की सिफारिशों पर बोले बीसीसीआई सेक्रेटरी, बीसीसीआई के सदस्यों ने...
  • HT लीडरशिप समिट: नए कलाकारों की तारीफ करते हुए बिग-बी ने कहा, यंग जेनरेशन में काफी...
  • सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली-NCR के लिए पल्यूशन कोड को दी मंजूरी: ANI
  • आईपीएस ऑफिसर राकेश अस्थाना को सीबीआई के डॉयरेक्टर पद का अतिरिक्त प्रभार सौंपा...
  • HT लीडरशिप समिट: अलग पार्टी बनाने के सवाल पर बोले अखिलेश यादव, अलग पार्टी नहीं...
  • HT लीडरशिप समिट: सीएम अखिलेश यादव ने कहा, अगर मैं यूपी पार्टी अध्यक्ष होता तो अमर...
  • सीआईएससीई बोर्ड परीक्षाओं की DATE SHEET घोषित, 10वीं की परीक्षाएं 27 फरवरी और 12वीं की 6...
  • HT लीडरशिप समिट: वित्त मंत्री अरुण जेटली बोले, अर्थव्यवस्था में पहले जैसी पेपर...
  • 'कॉफी विद करण' में साथ आएंगे तीनों खान, शाहरुख ने कराया फैमिली फोटो शूट, देखें PICS।...
  • पाक सेना प्रमुख पर पढ़ें आज के हिन्दुस्तान का विशेष लेख: क्या बाजवा वाकई कुछ बदल...
  • भविष्यफल: कन्या राशिवालों का पारिवारिक जीवन सुखमय रहेगा। अन्य राशियों का हाल...
  • हेल्थ टिप्स: जिम जाने से भी फायदेमंद है रस्सी कूदना, पढ़ें ये 5 फायदे
  • GOOD MORNING: कोलकाता में सेना की तैनाती से नाराज हुईं ममता, शादीशुदा महिला रख सकेंगी...

भारतीय बाजार में घुसने का जुगाड़ भी घोटाला है

सीताराम येचुरी सांसद तथा सदस्य, माकपा पोलित ब्यूरो First Published:14-12-2012 08:03:52 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

अमेरिकी सीनेट के सामने पेश किए गए विवरण के अनुसार, खुदरा व्यापार की मल्टीनेशनल कंपनी वॉलमार्ट ने पिछले चार साल में ही लॉबिंग की अपनी गतिविधियों पर करीब 125 करोड़ रुपये खर्च किए हैं। इसमें ‘भारत में निवेश के लिए बाजार तक पहुंच बढ़ने’ पर लॉबिंग भी शामिल है। विपक्ष के हंगामे के बाद अब जाकर सरकार इसकी जांच कराने को मजबूर हुई है। इससे कुछ ही पहले, वाणिज्य मंत्रालय ने रिजर्व बैंक को इस आशय के आरोपों की जांच कराने के निर्देश दिए थे कि वॉलमार्ट ने किस तरह भारत में अपनी साझेदार भारती एंटरप्राइज के मालिकाना हक वाले स्टोर्स की एक श्रृंखला में दस करोड़ डॉलर का निवेश किया। मीडिया की रिपोर्टो के अनुसार, इस निवेश से वालमार्ट की हिस्सेदारी 49 फीसदी हो गई। याद रहे कि यह निवेश उस समय किया गया था, जब हमारे देश में बहुब्रांड खुदरा व्यापार में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश पूरी तरह से प्रतिबंधित था।

बहरहाल, सरकार संसद में वॉलमार्ट संबंधी आरोपों की जांच कराने के अपने निर्णय की घोषणा कर ही रही थी कि यह खबर आ गई कि वॉलमार्ट द्वारा लॉबिंग करने के लिए जिन फर्मो का उपयोग किया गया था, उनमें से एक फर्म पैटन बॉग्स ने 2008 में भारत-अमेरिका परमाणु सौदे को सिरे चढ़ाने के लिए भारतीय दूतावास की ओर से लॉबिंग करने का भी जिम्मा संभाला था। यह एक दिलचस्प तथ्य है कि 2009 के मार्च में भारत में अमेरिका के पूर्व-राजदूत, फ्रैंक वाइजनर विदेशी मामलों के सलाहकार की हैसियत से इस फर्म के साथ जुड़ गए। इसलिए यह जरूरी हो गया है कि सभी मल्टीनेशनल कंपनियों की इस तरह की गतिविधियों की जांच कराई जाए।

भारत में यह जांच ऐसे समय में होने जा रही है, जब वॉलमार्ट की दूसरे देशों में गतिविधियों की सघन जांच-पड़ताल पहले से ही जारी है। न्यूयॉर्क टाइम्स की हाल की एक रिपोर्ट के अनुसार, वॉलमार्ट को आठ साल पहले ही यह बताया जा चुका था कि वॉलमार्ट मैक्सिको ने उस देश में अपनी गतिविधियों के लिए जल्दी परमिट हासिल करने के लिए स्थानीय अधिकारियों को करोड़ों डॉलर की घूस खिलाई थी। इसी प्रकार, कितने ही देशों में वॉलमार्ट को एक के बाद दूसरी मजदूर विरोधी नीतियों के लिए भारी आलोचना का सामना करना पड़ रहा है।

इसे देखते हुए सरकार की यह जिम्मेदारी बनती है कि बहुब्रांड खुदरा व्यापार में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश को अमल में लाने से पहले वह वॉलमार्ट की लॉबिंग करने और अन्य गतिविधियों की जांच पूरी हो जाने दे। वैसे भी फेमा कानून में जो संशोधन किए गए हैं, उनके संसदीय अनुमोदन तक सरकार को इंतजार करना ही होगा। विचित्र बात है कि इन संशोधनों को अब तक राज्यसभा के सामने लाया ही नहीं गया है, जबकि सरकार को इस कानून के तहत नियमों व नियमनों में हरेक संशोधन को अनुमोदन के लिए संसद के दोनों सदनों में लाना होगा।
(ये लेखक के अपने विचार हैं)

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Rupees
क्रिकेट स्कोरबोर्ड