Image Loading
रविवार, 25 सितम्बर, 2016 | 14:21 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • KANPUR TEST: भारत की पारी घोषित, न्यूजीलैंड के सामने 434 रनों का लक्ष्य
  • उरी हमले पर मायावती ने साधा PM पर निशाना, दूसरों को नसीहत और खुद की फजीहत कराते हैं...
  • KANPUR TEST LIVE: रोहित शर्मा की फिफ्टी, स्कोर-331/5
  • पैरालंपिक के दिव्यांग खिलाड़ियों ने सामान्य खिलाड़ियों से बेहतर प्रदर्शन...
  • देश में शोक और आक्रोश है, दोषियों को सजा जरूर मिलेगी: पीएम मोदी
  • #Kanpur TEST: पुजारा 78 रन बनाकर ईश सोढ़ी की गेंद पर आउट, स्कोर-228/4
  • KANPUR TEST: कप्तान कोहली 18 रन बनाकर आउट, स्कोर-214/3
  • KANPUR TEST: भारत का दूसरा विकेट गिरा, विजय 76 रन बनाकर आउट
  • पढ़िए, शशि शेखर का ब्लॉग: 'असली भारत के हक में'
  • #INDvsNZ: कानपुर टेस्ट के तीसरे दिन के 5 टर्निंग प्वाइंट्स, खेल की दुनिया की टॉप 5 खबरें...
  • मौसम अलर्ट: दिल्ली-NCR में गर्म रहेगा मौसम। लखनऊ, पटना और रांची में बारिश की...
  • सुबह की शुरुआत करने से पहले जानिए अपना भविष्यफल, जानिए आज कैसा रहेगा आपका दिन
  • सुविचार: मनुष्य का स्वाभाव है कि जब वह दूसरों के दोष देख कर हंसता है, तब उसे अपने...
  • Good Morning: पाक को PM का करारा जबाव, बदहाल यूपी पर क्या बोले राहुल, और भी बड़ी खबरें जानने...

जैक फोस्टर, तुमने मुझे मरवा दिया

नीरज बधवार First Published:13-12-2012 09:57:33 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

जो लोग हिंदी लेखकों से शिकायत करते हैं कि वे उन्हीं घिसे-पिटे पांच-छह विषयों पर कलम चलाते हैं, ट्रैवल नहीं करते, दुनिया नहीं देखते हैं, उन्हें समझना चाहिए कि किसी भी तरह की मोबिलिटी पैसा मांगती है और जिन लेखकों की सारी जिंदगी दूसरों से पैसा मांगकर गुजर रही हों, वे मोबाइल होना तो दूर, एक सस्ता मोबाइल रखना तक अफोर्ड नहीं कर सकते।

यह लेख चूंकि फ्रेंच से हिंदी में अनुवाद नहीं है, लिहाजा यह स्वीकारने में मुझे भी कोई शर्म नहीं कि हिंदी लेखक होने के नाते ये सीमाएं मेरी भी हैं। पर इस बीच मेरे हाथ अमेरिकी एड गुरु जैक फोस्टर की किताब हाउ टु गेट आइडियाज लगी, जिसमें उन्होंने बताया कि लेखक को रूटीन में फंसकर नहीं रहना चाहिए। लॉस एंजिलिस के लेखक का जिक्र करते हुए उन्होंने बताया कि कैसे नौ साल की नौकरी के दौरान कुछ नया देखने के लिए वह अलग-अलग रास्तों से ऑफिस जाते थे।

मैं भी जोश में आ गया। पूछने पर किसी ने बताया कि कचरे वाले पहाड़ के बगल में जो मुर्गा मंडी है, उस रास्ते से चाहो, तो जा सकते हो। अगले दिन मैं उस सड़क पर था। कुछ ही चला था कि अचानक बड़े-बड़े गड्ढे आ गए। गाड़ी हिचकोले खाने लगी। कुछ गड्ढे तो इतने बड़े थे कि भ्रम हो रहा था कि यहां कोई उल्का पिंड तो नहीं गिरा। इससे पहले कि मैं कुछ समझ पाता गाड़ी उछलकर ऐसे ही एक छिपे गड्ढे से जा टकराई। जोरदार आवाज हुई। गाड़ी गरम होकर बंद हो गई। मेकैनिक ने बताया कि गड्ढे में लगने से इसका रैडिएटर व सपोर्ट सिस्टम टूट गया है। इंश्योरेंस के बावजूद दस-बारह हजार खर्चा आएगा। यह सुनते ही गाड़ी के साथ मैं भी धुआं छोड़ने लगा। दस हजार रुपये! मतलब अखबार में छपे 18-20 लेख। छह महीने की कमाई व बीस नए आइडियाज! जबकि मैं तो वहां नए आइडिया की तलाश में गया था। हे भगवान! रेंज बढ़ाने के लिए रूट बदलने के चक्कर में मैं आखिर क्यों पड़ा। रचनात्मकता साहस मांगती है, पर एक आइडिया के लिए दस हजार का नुकसान उठाने का साहस हिंदी लेखक में नहीं है। मैं ही बहक गया था। फोस्टर, तुमने मुझे मरवा दिया!

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड