Image Loading मित्रों के लिए - LiveHindustan.com
गुरुवार, 05 मई, 2016 | 19:46 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के छठे और अंतिम चरण में 84.24 प्रतिशत मतदान: निर्वाचन...
  • यूपी बोर्ड का हाईस्कूल व इंटरमीडिएट रिजल्ट 15 मई को आएगा।
  • अन्नाद्रमुक ने स्कूटर मोपेड खरीदने के लिए महिलाओं को 50 प्रतिशत सब्सिडी देने,...
  • अन्नाद्रमुक ने तमिलनाडु विधानसभा चुनाव के लिए अपने घोषणापत्र में सब के लिए 100...
  • तमिलनाडुः अन्नाद्रमुक ने सभी राशन कार्ड धारकों को मुफ्त मोबाइल फोन देने का...
  • मध्यप्रदेश: सिंहस्थ कुंभ में तेज बारिश और आंधी से गिरे पांडाल, 4 की मौत
  • अगस्ता वेस्टलैंड मामला: पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी त्यागी के तीनों करीबी...
  • सेंसेक्स 160.48 अंक की बढ़त के साथ 25,262.21 और निफ्टी 28.95 अंक चढ़कर 7,735.50 पर बंद
  • वाईस एडमिरल सुनील लांबा होंगे नौसेना के अगले प्रमुख, 31 मई को संभालेंगे पद
  • यूपी सरकार ने केंद्र सरकार से बुंदेलखंड के लिए पानी के टैंकर मांगें-टीवी...
  • स्टिंग ऑपरेशन: हरीश रावत को सीबीआई ने सोमवार को पूछताछ के लिए बुलाया: टीवी...
  • नोएडा: स्कूल बसों और ऑटो की टक्कर में इंजीनियर लड़की समेत 2 की मौत। क्लिक करें

मित्रों के लिए

नीरज कुमार तिवारी First Published:13-12-2012 09:56:56 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

कौन है जिसे मित्रता प्यारी नहीं। लेकिन गिनने बैठें, तो आपको लगेगा कि आपके शुभचिंतक उतने नहीं, जितना आपका बुरा चाहने वाले हैं। आपके करीब रहने वाले लोगों, रिश्तेदारों में भी आपको ऐसे लोग मिल जाएंगे, जो आपकी तारीफ पर कुढ़ते हों, समृद्धि से चिढ़ते हों। क्या सचमुच ऐसा है? शायद बहुत कम। ज्यादातर मामलों में हम जिसे शत्रु मानते हैं, वह हमारी कल्पना का शत्रु होता है। मनोवैज्ञानिक चाल्र्स स्पीलबर्गर कहते हैं, जैसे-जैसे माहौल प्रतिस्पर्धी होता जा रहा है, काल्पनिक शत्रुओं की फौज तैयार होती जा रही है। हम खुद को भय और असुरक्षा से घिरा पाते हैं। ऐसे में, स्वाभाविक तौर पर हमें आस-पास के लोग षड्यंत्रकारी नजर आते हैं। दूसरे भी इसी माहौल में जी रहे हैं, इसलिए उनके लिए भी आप षड्यंत्रकारी ही हैं। बस बन गया तनाव का माहौल। ऐसा न हो, इसके लिए जरूरी है कि हम पहले खुद को भय और असुरक्षा की भावना से खाली करें। ऐसे लोगों से बचें, जिन्होंने नुक्स निकालने को अपना पेशा बना लिया है। नॉर्मन विन्सेंट पील लिखते हैं, ‘हर चीज गलत हो रही थी, हर चीज गलत थी और इसका एकमात्र कारण था कि मैं गलत था। मैं गलत सोच रहा था।’ यह चीज भी जरूरी है कि हम आलोचकों के आलोचक न बनें। अब्राहम लिंकन की बातों पर गौर करें। उन्होंने कहा कि एक दौर था, जब मुझे लगता कि आलोचक मुझ पर बेवजह की टीका-टिप्पणी करते हैं, मैं उन पर आगबबूला हो उठता था, लेकिन धीरे-धीरे मुझे समझ में आया कि वे आलोचक नहीं हैं, वे मेरे मित्र हैं। उनकी बातों पर मैंने विचारना शुरू किया, तो पाया कि उनकी कुछ बातें बिलकुल सही हैं। मुझ उन पर विचार करना चाहिए। हम भी ऐसा कर सकते हैं, हमारे खिलाफ जो भी बातें आएं, उन्हें पॉजिटिव तौर पर लें। वे सच हों या झूठ, पॉजिटिविटी ही फैलाएं। धीरे-धीरे हम पाएंगे कि मित्रों की संख्या बढ़ रही है।

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट