Image Loading बूढ़े तो रखें हमउम्र का खयाल - LiveHindustan.com
सोमवार, 08 फरवरी, 2016 | 19:52 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • उत्तर प्रदेश: 50 आईपीएस अधिकारियां का तबादला, 21 जिलों के एसपी बदले
  • दिव्यांश मौत मामला: दिल्ली सरकार ने दिए सीबीआई जांच के आदेश
  • एयर इंडिया की दिल्ली-लंदन उड़ान को तकनीकी कारणों के चलते फ्रैंकफर्त की ओर मोड़...
  • नेपाल में मधेसी प्रदर्शनकारियों ने अपनी हडताल वापस ले ली और भारत-नेपाल सीमा पर...
  • देश की विकास दर धीमी पड़ी, विकास दर तीसरी तिमाही में 7.3 फीसदी, दूसरी तिमाही में...

बूढ़े तो रखें हमउम्र का खयाल

गोपाल चतुर्वेदी First Published:09-12-2012 10:50:27 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

देश की राजनीति का यह ध्रुव सत्य है। हमारी सियासत वृद्धाश्रम का पर्याय है। विश्वास न आए, तो कोई केंद्रीय मंत्रिमंडल की औसत आयु देख ले। बड़े-बूढ़ों का इतना सम्मान है यहां कि नेता का सियासी जन्म ही 40-50 की उम्र में होता है। वह सठियाने तक मंत्री बने, तो दूसरे आश्चर्य जताते हैं, ‘फलाने ने गजब की तरक्की की है! इतनी जल्दी जिम्मेदारी का पद पा लिया?’

बात में दम है। ‘फलाने’ की राजनीतिक आयु अभी 20 वर्ष ही तो है। कहीं असमय ही कंधे झुक न जाएं। सिर्फ स्थापित खानदानों के चिराग इस उसूल के अपवाद हैं। वे जन्मजात नेता होते हैं। सौभाग्य से उनकी संख्या बढ़ती जा रही है। सत्ता में महत्ता के बावजूद समाज में वृद्ध असुरक्षित हैं। कुछ संयुक्त परिवार के विघटन को इसका दोषी मानते हैं, तो कुछ नई पीढ़ी की महत्वाकांक्षा को। 80 के दशक में हर मां-बाप की हसरत थी कि उनका लाड़ला ‘डॉलर’ या ‘पाउंड’ कमाए। बेटे की विदेश में नौकरी को बुजुर्गवार अपनी इज्जत में इजाफा समझते। वह भूल जाते कि बेटा वहां बसा, तो वहीं का हो जाएगा। वाशिंगटन या लंदन से दिल्ली या लुधियाना पहुंचना, गाजियाबाद या मुंबई के समकक्ष नहीं है। किराये की कीमत कोई भूल भी जाए, तो छुट्टी की किल्लत है। बुढ़ापे को रोजमर्रा की देखभाल की दरकार है। पुराना सेवक तक सेफ नहीं है। कोई भरोसा नहीं है कि कब गटई दबाकर चंपत हो ले।
पारस्परिक संबंध जर्जर होने के भौतिक समय में बूढ़ों की दिक्कतें बढ़ी हैं। खून के रिश्ते स्नेह नहीं, लेन-देन पर निर्भर हैं। घर, जमीन-जायदाद झटककर कल तक के सगे भी एकाएक अजनबी बन जाते हैं। हम दूर के अपने रिश्तेदार वृद्ध के संकट से परिचित हैं। जब जाओ, वह विदेश में बसे बेटे का लाया लैपटॉप गर्व से हमें दिखाकर बताते कि अब वह उससे बस ‘चैट’ भर दूर हैं। एक दिन अचानक उन्हें दिल का दौरा पड़ा और वह चल बसे। सब अकेले आते और अकेले ही जाते हैं। पर इतने अकेले तो न जाएं। केंद्रीय मंत्रिमंडल औरों का न सही, अपने हमउम्रों का ही खयाल करे। हर शहर में कम से कम एक ढंग का वृद्धाश्रम ही बनवा दे।

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
कैसा रहा साल 2015
क्रिकेट
फिंच नहीं स्मिथ संभाल सकते हैं टी-20 वर्ल्डकप की कप्तानीफिंच नहीं स्मिथ संभाल सकते हैं टी-20 वर्ल्डकप की कप्तानी
ऑस्ट्रेलिया के ट्वेंटी-20 कप्तान एरन फिंच भारत की मेजबानी में होने वाले आगामी ट्वेंटी-20 विश्वकप में टीम की कमान नहीं संभालेंगे और उनकी जगह स्टीवन स्मिथ को कप्तान बनाया जा सकता है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड