Image Loading
बुधवार, 22 फरवरी, 2017 | 18:48 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • गाजियाबाद: भोजपुर एनकाउंटर केस में 4 आरोपी पुलिसवालों को आजीवन कारावास की सजा
  • लीबिया में ISIS के चंगुल से डॉक्टर समेत 6 भारतीयों को छुड़ाया गया, गोली लगने से...
  • शेयर बाजारः 94 अंकों की तेजी के साथ सेंसेक्स 28,856 पर, निफ्टी ने भी लगाई 26 अंकों की...
  • आज के हिन्दुस्तान में पढ़ें टेलीविजन पत्रकार अनंत विजय का विशेष लेखः परंपरा के...
  • यूपी चुनावः सीएम अखिलेश की बहराइच में रैली आज, जानें कौन दिग्गज कहां करेंगे...
  • सुबह खाली पेट खाएं अंकुरित चना, बीमारियां नहीं आएंगी पास, पढ़ें ये 7 टिप्स
  • आज का हिन्दुस्तान अखबार पढ़ने के लिए क्लिक करें।
  • राशिफलः कर्क राशिवालों की नौकरी में स्थान परिवर्तन के योग, आय में वृद्धि होगी,...
  • Good Morning: माल्या और टाइगर मेमन को भारत लाने की संभावना बढ़ी, अमर सिंह बोले-...

बूढ़े तो रखें हमउम्र का खयाल

गोपाल चतुर्वेदी First Published:09-12-2012 10:50:27 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

देश की राजनीति का यह ध्रुव सत्य है। हमारी सियासत वृद्धाश्रम का पर्याय है। विश्वास न आए, तो कोई केंद्रीय मंत्रिमंडल की औसत आयु देख ले। बड़े-बूढ़ों का इतना सम्मान है यहां कि नेता का सियासी जन्म ही 40-50 की उम्र में होता है। वह सठियाने तक मंत्री बने, तो दूसरे आश्चर्य जताते हैं, ‘फलाने ने गजब की तरक्की की है! इतनी जल्दी जिम्मेदारी का पद पा लिया?’

बात में दम है। ‘फलाने’ की राजनीतिक आयु अभी 20 वर्ष ही तो है। कहीं असमय ही कंधे झुक न जाएं। सिर्फ स्थापित खानदानों के चिराग इस उसूल के अपवाद हैं। वे जन्मजात नेता होते हैं। सौभाग्य से उनकी संख्या बढ़ती जा रही है। सत्ता में महत्ता के बावजूद समाज में वृद्ध असुरक्षित हैं। कुछ संयुक्त परिवार के विघटन को इसका दोषी मानते हैं, तो कुछ नई पीढ़ी की महत्वाकांक्षा को। 80 के दशक में हर मां-बाप की हसरत थी कि उनका लाड़ला ‘डॉलर’ या ‘पाउंड’ कमाए। बेटे की विदेश में नौकरी को बुजुर्गवार अपनी इज्जत में इजाफा समझते। वह भूल जाते कि बेटा वहां बसा, तो वहीं का हो जाएगा। वाशिंगटन या लंदन से दिल्ली या लुधियाना पहुंचना, गाजियाबाद या मुंबई के समकक्ष नहीं है। किराये की कीमत कोई भूल भी जाए, तो छुट्टी की किल्लत है। बुढ़ापे को रोजमर्रा की देखभाल की दरकार है। पुराना सेवक तक सेफ नहीं है। कोई भरोसा नहीं है कि कब गटई दबाकर चंपत हो ले।
पारस्परिक संबंध जर्जर होने के भौतिक समय में बूढ़ों की दिक्कतें बढ़ी हैं। खून के रिश्ते स्नेह नहीं, लेन-देन पर निर्भर हैं। घर, जमीन-जायदाद झटककर कल तक के सगे भी एकाएक अजनबी बन जाते हैं। हम दूर के अपने रिश्तेदार वृद्ध के संकट से परिचित हैं। जब जाओ, वह विदेश में बसे बेटे का लाया लैपटॉप गर्व से हमें दिखाकर बताते कि अब वह उससे बस ‘चैट’ भर दूर हैं। एक दिन अचानक उन्हें दिल का दौरा पड़ा और वह चल बसे। सब अकेले आते और अकेले ही जाते हैं। पर इतने अकेले तो न जाएं। केंद्रीय मंत्रिमंडल औरों का न सही, अपने हमउम्रों का ही खयाल करे। हर शहर में कम से कम एक ढंग का वृद्धाश्रम ही बनवा दे।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Jharkhand Board Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड