Image Loading
सोमवार, 20 फरवरी, 2017 | 09:39 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • पानीदारों की बस्ती में न पान रहा, न पानी: बीच चुनाव में - शशि शेखर, क्लिक कर पढ़ें
  • आज के हिन्दुस्तान में पढ़ें मिंट के संपादक आर सुकुमार का विशेष लेख: इन्फोसिस...
  • मौसम अलर्ट: दिल्ली-एनसीआर, पटना और लखनऊ में बादल छाए रहने की संभावना, देहरादून...
  • आज का भविष्यफल: तुला राशि वालों को मित्रों का सहयोग मिलेगा, अन्य राशियों का हाल...
  • आज के हिन्दुस्तान का ई-पेपर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें
  • हेल्थ टिप्स: इन 9 चीजों को खाने से चुटकियों में दूर होगी थकान, पूरी खबर पढ़ने के...
  • GOOD MORNING: कैश में दो लाख से अधिक के गहने खरीदने पर टैक्स लगेगा, शाहिद अफरीदी ने...

चिंता से मुक्ति की राह

First Published:09-12-2012 10:49:46 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

यह आज के युग की सबसे साधारण मानसिक क्रिया है। इसे आप और हम रोजाना करते हैं और अपना बहुमूल्य समय नष्ट करते हैं। विश्व में ऐसा कोई नहीं होगा, जिसने कभी चिंता न की हो। बच्चे, बूढ़े, जवान, सभी ने चिंता की चिता पर बैठकर अपने आपको जलाया है। चिंता करना तो जैसे हमारा स्वभाव बन चुका है। कई लोगों का मानना है कि चिंता करना अच्छी बात है, क्योंकि इससे आप सामने वाले के प्रति अपना प्यार व स्नेह जताते हैं। पर सच यह है कि चिंता हमारे काल्पनिक संकल्पों की उपज है, जो हमारे भीतर की कुदरती चेतना और रचनात्मकता को पूरी तरह से नष्ट कर देती है। हैरत की बात यह है कि हममें से अधिकतर लोग इस तथ्य से वाकिफ हैं कि चिंता करने से हमारे समय और शक्तियों का क्षय होता है, बावजूद इसके हम उससे मुक्त नहीं हो पाते। इसका सबसे मुख्य कारण यह है कि पीढ़ी दर पीढ़ी चिंता करने की एक प्रथा चली आ रही है। बचपन से ही माता-पिता बच्चों में यही संस्कार डालते हैं कि चिंता करना अच्छा है, परंतु यदि एकांत में बैठकर सोचें, तो हमें ज्ञात होगा कि चिंता हमारे अंदर डर की भावना उत्पन्न करती है, जबकि परवाह करना या देखभाल करना हमारे अंदर प्यार की भावना उत्पन्न करता है। चिंता और देखभाल में जमीन-आसमान का फर्क है।

वास्तव में, हम स्वार्थवश अपनी खुद की ही चिंता करते हैं, न कि किसी और की। इसका मूलभूत कारण है हमारे अंदर में पैठी असुरक्षा की भावना। आजकल हम अखबार, टेलीविजन के माध्यम से बुरी खबरों को पढ़, देखकर एक काल्पनिक भय में जीने लगते हैं। ऐसी मन:स्थिति के साथ जीना कई लोगों को अब मुश्किल लगने लगा है। ऐसे में, चिंता मुक्त होने का रामबाण इलाज है कि ‘वर्तमान में जीना सीखें।’ नकारात्मक भविष्य और पीड़ादायक भूतकाल के बारे में न सोचकर केवल अपने सुनहरे वर्तमान पर ध्यान केंद्रित करें।
ब्रह्मकुमार न्रिकुंज

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Jharkhand Board Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड