Image Loading चिंता से मुक्ति की राह - LiveHindustan.com
मंगलवार, 03 मई, 2016 | 23:44 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • आईपीएल 9: दिल्ली डेयरडेविल्स ने गुजरात लायंस को आठ विकेट से हराया।
  • आईपीएल 9: गुजरात लायंस ने दिल्ली डेयरडेविल्स के सामने 150 रन का लक्ष्य रखा
  • माल्या का त्यागपत्र प्रक्रिया के अनुरूप नहीं, इस पर वास्तविक हस्ताक्षर नहीं:...
  • राज्यसभा अध्यक्ष हामिद अंसारी ने प्रक्रियागत आधार पर विजय माल्या का इस्तीफा...
  • आईपीएल 9: दिल्ली डेयरडेविल्स ने गुजरात लायंस के खिलाफ टॉस जीता, पहले फील्डिंग का...
  • आगस्ता घूसकांड पर सोनिया गांधी के घर पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की बैठक: टीवी...
  • नीट मामलाः सुप्रीम कोर्ट ने राज्यों के इस साल अलग परीक्षा कराने की इजाजत पर...

चिंता से मुक्ति की राह

First Published:09-12-2012 10:49:46 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

यह आज के युग की सबसे साधारण मानसिक क्रिया है। इसे आप और हम रोजाना करते हैं और अपना बहुमूल्य समय नष्ट करते हैं। विश्व में ऐसा कोई नहीं होगा, जिसने कभी चिंता न की हो। बच्चे, बूढ़े, जवान, सभी ने चिंता की चिता पर बैठकर अपने आपको जलाया है। चिंता करना तो जैसे हमारा स्वभाव बन चुका है। कई लोगों का मानना है कि चिंता करना अच्छी बात है, क्योंकि इससे आप सामने वाले के प्रति अपना प्यार व स्नेह जताते हैं। पर सच यह है कि चिंता हमारे काल्पनिक संकल्पों की उपज है, जो हमारे भीतर की कुदरती चेतना और रचनात्मकता को पूरी तरह से नष्ट कर देती है। हैरत की बात यह है कि हममें से अधिकतर लोग इस तथ्य से वाकिफ हैं कि चिंता करने से हमारे समय और शक्तियों का क्षय होता है, बावजूद इसके हम उससे मुक्त नहीं हो पाते। इसका सबसे मुख्य कारण यह है कि पीढ़ी दर पीढ़ी चिंता करने की एक प्रथा चली आ रही है। बचपन से ही माता-पिता बच्चों में यही संस्कार डालते हैं कि चिंता करना अच्छा है, परंतु यदि एकांत में बैठकर सोचें, तो हमें ज्ञात होगा कि चिंता हमारे अंदर डर की भावना उत्पन्न करती है, जबकि परवाह करना या देखभाल करना हमारे अंदर प्यार की भावना उत्पन्न करता है। चिंता और देखभाल में जमीन-आसमान का फर्क है।

वास्तव में, हम स्वार्थवश अपनी खुद की ही चिंता करते हैं, न कि किसी और की। इसका मूलभूत कारण है हमारे अंदर में पैठी असुरक्षा की भावना। आजकल हम अखबार, टेलीविजन के माध्यम से बुरी खबरों को पढ़, देखकर एक काल्पनिक भय में जीने लगते हैं। ऐसी मन:स्थिति के साथ जीना कई लोगों को अब मुश्किल लगने लगा है। ऐसे में, चिंता मुक्त होने का रामबाण इलाज है कि ‘वर्तमान में जीना सीखें।’ नकारात्मक भविष्य और पीड़ादायक भूतकाल के बारे में न सोचकर केवल अपने सुनहरे वर्तमान पर ध्यान केंद्रित करें।
ब्रह्मकुमार न्रिकुंज

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट