Image Loading विश्व का टॉप लेखक - LiveHindustan.com
गुरुवार, 05 मई, 2016 | 00:47 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • आईपीएल 9: केकेआर ने किंग्स इलेवन पंजाब को 7 रन से हराया
  • पठानकोट आतंकी हमले में मारे गए चार आतंकवादियों के शव चार महीने बाद दफनाए गए।
  • आईपीएल 9: केकेआर ने किंग्स इलेवन पंजाब के सामने 165 रन का लक्ष्य रखा
  • वीडियो में देखें कैसे पकड़ा गया 6 फीट का अजगर..
  • आईपीएल 9: किंग्स इलेवन पंजाब ने केकेआर के खिलाफ टॉस जीता, पहले फील्डिंग का फैसला
  • हेलीकॉप्टर घोटाले में जांच उन लोगों की भूमिका पर केन्द्रित होगी जिनका नाम इटली...
  • भारत द्वारा खरीदे गए हेलीकाप्टर का परीक्षण नहीं हुआ था क्योंकि वह उस समय विकास...
  • जॉब अलर्ट: SBI करेगा प्रोबेशनरी ऑफिसर के 2200 पदों पर भर्तियां
  • गायत्री परिवार के प्रणव पांड्या राज्यसभा के लिए मनोनीत: टीवी रिपोर्ट्स
  • सेंसेक्स 127.97 अंक गिरकर 25,101.73 पर और निफ्टी 7,706.55 पर बंद
  • टी-20 और वनडे रैंकिंग में टीम इंडिया लुढ़की
  • यूपी के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ सुप्रीम कोर्ट के जज बने। मप्र व...
  • बरेली में मेडिकल के छात्र का अपहरण, बदमाशो ने घर वालो से मांगी 1 करोड़ की फिरौती
  • राज्य सभा की अनुशासन समिति ने विजय माल्या की सदस्यता तत्काल खत्म करने की...
  • उत्तराखंड मामलाः केंद्र ने SC में कहा, बहुमत परीक्षण पर कर रहे विचार, शुक्रवार को...

विश्व का टॉप लेखक

सुधीश पचौरी, हिंदी साहित्यकार First Published:08-12-2012 06:45:49 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

हिंदी में विश्व लेखक होने लगे हैं। वे विश्व में रहते हैं। विश्व उनमें रहता है। वे विश्व की कहते हैं। विश्व उनकी कहता है। विश्व में सात-आठ अरब लोग नहीं होते। तीन-चार मित्र लेखक होते हैं। बाकी दुनिया अस्तित्वहीन होती है। हिंदी के ऐसे सेमी-फॉरेन लेखक फॉरेन में छपते रहते हैं। यह भी उन्हीं के बताए मालूम पड़ता है, वरना हिंदी वाला तो लोकल की भी खबर नहीं रखता, ग्लोबल की क्या रखेगा? और वह फॉरेन लेखक ही क्या, जो अपनी खबर को दूसरे के लिए जरूरी न बना दे। ऐसे लेखक जब भी मिलते हैं, तो यह बताना नहीं भूलते कि इधर उनकी उस कहानी का जर्मन में अनुवाद हो रहा है, उधर उसी किताब का फ्रेंच में अनुवाद हो रहा है।

अंग्रेजी में तो कब की छप ही चुकी है। फिन्नी में उस पर फिल्म बन रही है। बनाने वाले हैं मार्टिन स्कार्सिस, कांट्रेक्ट हो गया है। अगले महीने हॉलीवुड जाना है। अनूदित लेखकों की एक श्रेणी ही बन चली है। उनकी सेमी-फॉरेन कृतियों का हिंदी में अनुवाद कब होगा? कब हमें देखने को मिलेंगी? ऐसे लेखक हिंदी को मुंबई लोकल की तरह भीड़ से भरा देख ग्लोबल लाइन पकड़ते हैं। लोकल से ग्लोबल होने की प्रक्रिया में दिल्ली और उसके दूतावासों की महती भूमिका है। कई दूतावासों का दिल हिंदी की दीन दशा देखकर हर शाम द्रवित होता रहता है।

वे हिंदी के प्रतिभापुत्र-पुत्रियों की ‘कारयित्री’ प्रतिभा को ‘भावयित्री’ प्रतिभा तक ले जाने को उद्यत रहते हैं। जिस माल का अपने यहां कोई लेवल नहीं होता, वही उन्हें भाता है। इससे सिद्ध होता है कि फॉरेन का ‘टेस्ट’ भी उतना ही घटिया है, जैसा कि अपने यहां है। साहित्य की विश्व रिटेल मंडी में सब माल बाईस पसेरी बिकता है। दिल्ली में विश्व लेखक बनने के कई मार्ग हैं।

शांति मार्ग और चाणक्यपुरी इस काम में बड़ी भूमिका निभाते हैं। एक तरल-सी शाम को दुभाषिए अपने परिसर में हिंदी लेखक की प्रतिभा को अपनी भाषा में इस तरह बताते हैं, ‘आवर  कंट्री में बी यूअर जैसा हो ड़हा है, एक लेकक हो गया है, जो एक्जेक्टली आपके ङौसा लिकते है। क्यू नई हमाड़ा आफका एक-एक राइटर का आडान-पड्रान, यू नो एक्सचेंज हो झाए? इन दिनों हमारा आफका फ्रेंडशिप भौत इंपोर्टेट है!’ हिंदी वाला अपनी हिंदी को विदेशी की खातिर तोड़-फाड़कर कह उठता है- ‘ओ या..या! स्यूअर -स्यूअर! मेरा ये किताब हय, वो किताब हय, कितना है, इडर हिंडी में क्वालिटी नहीं है।

इडर ब्लडी हिंडी वाला कोच्छ नहीं जानता। आप कितना जानता, इसलिए अब आप ही कराता।’ ऐसे होनहार विश्व लेखक की आंखों में तुरंत विदेश यात्रा डॉलर और विदेशी गर्ल से दोस्ती का दरवाजा बेआहट खुलता है। हिंदी के लेखक की कल्पना में विश्व ‘सेक्स शराब और डॉलर’ में तैरता रहता है। वह गोता मारने को व्याकुल है। विश्व कोटि का लेखक विश्व कोटि की बातें उचारता है। इस क्रम में हिंदी ‘ब्लडी हिंदी’ हो जाती है। वह रुपये की बात न कर डॉलर-यूरो की बात करता है और बोरखेस-मारकेस के बारे में इस तरह बताता है, जैसे वे उसके पढ़ाए बच्चे हों। जब वह ब्लडी हिंदी में लौटता है, तो देखता है कि उसकी सीट लपके पहले ही हड़प चुके हैं। वह सोचता है : काश! वह हिंदी में न होकर स्पेनी में होता, तो विश्व का टॉप लेखक जरूर होता।

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
उथप्पा और रसेल ने दिलाई केकेआर को जीत उथप्पा और रसेल ने दिलाई केकेआर को जीत
कप्तान गौतम गंभीर और रोबिन उथप्पा की शतकीय साझेदारी और बाद में आंद्रे रसेल की उम्दा गेंदबाजी से कोलकाता नाइटराइडर्स ने आज यहां किंग्स इलेवन पंजाब पर सात रन से जीत दर्ज की आईपीएल नौ की अंकतालिका में शीर्ष स्थान हासिल किया।