Image Loading
सोमवार, 05 दिसम्बर, 2016 | 14:01 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • अपोलो अस्पताल के प्रवक्ता ने कहा, सीएम जयललिता की हालत नाजुक। उन्हें ECMO और लाइफ...
  • बहते मिले लाखों रुपये के नोट तो नहर में यूं कूद पड़े लोग, क्लिक कर देखें वीडियो
  • विपक्ष के हंगामे के बाद लोकसभा की कार्यवाही दोपहर 12 बजे तक स्थगित
  • नोटबंदी पर विपक्ष के भारी हंगामे के बाद राज्यसभा की कार्यवाही 12 बजे तक स्थगित
  • पेट्रोटेक-2016: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि अगले 5 सालों में 30 हजार...
  • पाकिस्तानः कराची के रिजेंट प्लाजा होटल में आग लगने से 11 लोगों की मौत, 70 घायल
  • पढ़ें वरिष्ठ हिंदी लेखक महेंद्र राजा जैन का ये लेख, 'उनके लिए तो नाम में ही सब कुछ...
  • पढ़ें मिंट के संपादक आर सुकुमार का ब्लॉग, 'नए मानकों की तलाश करते कारोबार'
  • चेन्नईः जयललिता की सलामती के लिए समर्थक कर रहे हैं दुआ, अपोलो अस्पताल के बाहर...
  • एक ही नजर में शिखर धवन को भा गई थीं आयशा, भज्जी बने थे लव गुरु। क्लिक करके पढ़ें...
  • भविष्यफल: धनु राशिवाले आज आत्मविश्वास से परिपूर्ण रहेंगे और परिवार का सहयोग...
  • हेल्थ टिप्स: ये हैं हेल्दी लाइफस्टाइल के 5 RULE, डाइट में शामिल करने से पेट रहेगा फिट
  • GOOD MORNING: जयललिता को दिल का दौरा पड़ा, अस्पताल के बाहर जुटे हजारों समर्थक, अन्य बड़ी...

जिनका समर अभी शेष है

उर्मिल कुमार थपलियाल First Published:07-12-2012 07:30:18 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

वह इधर राजनीति और साहित्य, दोनों में सस्पेंड चल रहे थे। संसद स्वयं में खुदरा व्यापार हो चुकी थी और ‘भीतर खुंदक, बाहर समर्थन’ वाले वालमार्ट की गोद में लैपटॉप की तरह विराज चुके थे। अर्जुन जैसे केजरीवाल ने शरशैय्या पर लेटे अन्ना हजारे रूपी भीष्म पितामह को बाण द्वारा पानी पिलाने से ना-नुकर कर दिया था। उधर एक अन्य समर में मोदी मुगदर घुमाते हुए दूसरों के धर्म की हानि करने में लगे थे। राजनीति का हर गंजा अपनी चोटी खोलकर दूसरों की जड़ों और जटाओं में मट्ठा डालने में व्यस्त था। ऐसे में निठल्ला साहित्य करता तो क्या? वह हाशिये में चला गया। मेरे साहित्यिक मित्र स्थगित अवस्था में थे। साहित्य और राजनीति में उनका आना जाना था, अत: वह एक जगह अनुपस्थिति और दूसरी जगह वॉक आउट की स्थिति में थे। यानी सब चकाचक।

वैसे भी उनका साहित्य होल सेल किस्म का था। खुदरा व्यापार वृत्ति के कारण वह प्रत्येक अखबार और पत्रिका में छपते रहते थे। वह सूचना विभाग में थे और हर पत्रिका को विज्ञापन दिलवाते थे। सरकार में होने के कारण राजकवि होना उनकी नियति थी। एक बार उनके एक कवि मित्र ने लिख दिया- ‘खबरों का मुंह विज्ञापनों से बंद है।’ उन्होंने एक राजकीय पुरस्कार दिलाकर उस कवि का ही मुंह बंद करवा दिया।

इधर राजनीति में उनका पव्वा फिट नहीं हो रहा था, सो उन्होंने पूरी की पूरी बोतल फिट करने की कोशिश की। वह सरकारी सेवा में थे, सो सीधे राजनीति में कूदने से पहले कपड़े उतारना जरूरी था, सो वह राजनीति में पंचस्नान करते और किसी बड़े मंत्री के सूचना अधिकारी हो जाते। अभी उन्होंने अपने मंत्री का भाषण लिखा- विधेयक पास होकर रहेगा। साइकिल हो या हाथी, दोनों हमारी सवारी हैं और बारी-बारी से दरवज्जो पर खड़ी हैं। इसका तत्काल प्रभाव हुआ और वह सस्पेंड हो गए। यह उनका तीसरा सस्पेंशन था। यह सरकारी था, सो प्रभावहीन था। फिलहाल वह राजनीति से विमुख होकर साहित्य में सक्रिय हैं और प्राय: सभी दलों के लिए चुनावी नारे लिख रहे हैं। कहते हैं- उनका समर हमेशा की तरह अब भी शेष है।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Rupees
क्रिकेट स्कोरबोर्ड