Image Loading
शनिवार, 07 मई, 2016 | 02:09 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • आईपीएल 9: सनराइजर्स हैदराबाद ने गुजरात लायंस को पांच विकेट से हराया
  • खुशखबरी: दिल्ली में टीचर बनना है तो करें इस खबर पर क्लिक..
  • नेपाल ने कथित असहयोग के आरोप पर भारत से अपने राजदूत को वापस बुलाया।
  • आईपीएल 9: गुजरात लायंस ने हैदराबाद सनराइजर्स के सामने 127 रन का लक्ष्य रखा
  • आईपीएल 9: हैदराबाद सनराइजर्स ने गुजरात लायंस के खिलाफ टॉस जीता, पहले करेंगे...
  • PM मोदी पर बोले अरुण शौरी, लोगों को इस्तेमाल कर छोड़ देते हैं मोदी
  • पाकिस्तान क्रिकेट टीम के मुख्य कोच बने दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कोच मिकी अर्थर
  • अगस्ता मामला: स्वामी ने राज्यसभा में दिए दस्तावेज, राज्यसभा जल्द जारी करेगी...
  • कांग्रेस के आरोपों पर बीजेपी का सवाल- भ्रष्टाचार पर कार्रवाई राष्ट्रविरोधी...
  • आईसीएसई दसवीं और आईएससी 12वीं के नतीजे घोषित
  • कांग्रेस के हरीश रावत अपना बहुमत साबित करेंगे
  • केन्द्र सरकार उत्तराखंड विधानसभा में फ्लोर टेस्ट करने को तैयार: एजेंसी
  • अगस्ता घूसकांडः SC ने इतालवी कोर्ट के फैसले में नामित लोगों के खिलाफ FIR दर्ज कराने...
  • लोकतंत्र बचाओ मार्चः संसद मार्ग थाना पुलिस ने सोनिया, राहुल, मनमोहन, एंटनी और...
  • सुप्रीम कोर्ट में उत्तराखंड मामला 12बजे तक के लिये स्थगित

काश! हम औपचारिक रूप से एलियन होते!

नीरज बधवार First Published:06-12-2012 07:09:54 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

एक राष्ट्र के रूप में भारत के साथ सबसे बड़ी दिक्कत यह है कि अपने आप में स्वतंत्र ग्रह न होकर हम इसी धरती का हिस्सा हैं, जिसके चलते हमें बाकी राष्ट्रों से मेल-मिलाप करना पड़ता है। अंतरराष्ट्रीय आयोजनों का हिस्सा बनना पड़ता है। अंतरराष्ट्रीय मापदंडों पर खरा उतरना पड़ता है, जिससे हम सफोकेशन फील करते हैं। हमें लगता है कि हमारी निजता भंग हो रही है। हमारे बेतरतीब होने को लेकर अगर कोई उंगली उठाता है, तो हमें लगता है कि वह ‘पर्सनल’ हो रहा है।

हमारी हालत उस शराबी पति की तरह हो जाती है, जो कल तक घर में बीवी-बच्चों को पीटता था और आज वह मोहल्ले में भी बेइज्जती करवाकर घर आया है। अब घर आने पर वह किस मुंह से कहे कि मोहल्ले वाले कितने गंदे हैं, क्योंकि पति के हाथों रोज पिटाई खाने वाली उसकी बीवी तो अच्छे से जानती है कि मेरा पति कितना बड़ा देवता है! उसके लिए ‘डिनायल मोड’ में रहना कठिन हो जाता है।

नाराजगी में वह घर बेचकर किसी निर्जन टापू पर चला जाता है। जहां वह ‘अपने तरीके’ से रहते हुए बीवी-बच्चों को पीटे व उसे शर्मिंदा करने वाला कोई न हो। मगर राष्ट्रों के लिए यह आसान नहीं होता। होता तो एक राष्ट्र के रूप में हम किसी और ग्रह पर शिफ्ट कर जाते, जहां हम अपने तरीके से जीते। विकास नीतियों की आलोचना करते हुए जहां कोई रेटिंग एजेंसी हमारी क्रेडिट रेटिंग न गिराती, सरकारी दखल पर इंटरनेशनल ओलंपिक कमेटी ओलंपिक से बेदखल न करती, ट्रांसपरेंसी इंटरनेशनल जैसी संस्था हमें भ्रष्टतम देशों में न शुमार करती। एमनेस्टी इंटरनेशनल मानवाधिकारों के हनन पर हमें न धिक्कारती।

और अगर कोई उंगली उठाता, तो हम उसे विपक्ष का षडय़ंत्र बताते, अंतरराष्ट्रीय एनजीओ का दलाल बताते, सांविधानिक संस्थाओं पर शक करते व आम आदमी के विरोध करने पर उसे 66 ए के तहत भावनाएं आहत करने का दोषी बता गिरफ्तार करवा देते। काश! हम स्वतंत्र ग्रह होते, तो दुनिया से बेफिक्र, अपने ‘डिनायल मोड’ में जीते व खुश रहते। वैसे भी दुनिया का हिस्सा होते हुए दुनिया को एलियन लगने से अच्छा है, हम औपचारिक रूप से एलियन होते!

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
सनराइजर्स ने लायंस को पांच विकेट से हरायासनराइजर्स ने लायंस को पांच विकेट से हराया
मुस्तफिजुर रहमान और भुवनेश्वर कुमार की धारदार गेंदबाजी के बाद शिखर धवन की जुझारू पारी से सनराइजर्स हैदराबाद ने इंडियन प्रीमियर लीग मैच में आज यहां गुजरात लायंस को कम स्कोर वाले मैच में पांच विकेट से हरा दिया।