Image Loading
सोमवार, 27 मार्च, 2017 | 23:55 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • पढ़ें रात 11 बजे की टॉप खबरें, शुभरात्रि
  • आपकी अंकराशि: क्लिक करें और पढ़ें कैसा रहेगा आपका कल का दिन
  • प्राइम टाइम न्यूज़: पढ़े अब तक की 10 बड़ी खबरें
  • नवरात्रि विशेष: नवरात्रि 28 मार्च से, पढ़ें इससे जुड़ी 10 खबरें
  • बच्चों को लेकर छलका करण का दर्द, पेरेंट्स को दी ये सलाह, यहां पढ़ें बॉलीवुड की 10...
  • हिन्दुस्तान Jobs: AIIMS पटना में असिस्टेंट प्रोफेसर के पदों पर होंगी नियुक्तियां,...
  • उत्तर-प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने राम गोविंद चौधरी को पार्टी के...
  • PM मोदी के गवर्नेंस मॉडल पर चल रहे हैं CM योगी, पढ़ें राज्यों से अब तक की 10 बड़ी ख़बरें
  • टॉप 10 न्यूज़: Video में देखें, शाम 6 बजे तक की देश की बड़ी खबरें
  • उत्तराखंड सरकार ने भूमि अधिग्रहण में हुए करीब 270 करेाड़ रुपये के घोटाले की...
  • INDvsAUS: तीसरे दिन का खेल खत्म, भारत को जीत के लिए 87 रन की जरूरत

काश! हम औपचारिक रूप से एलियन होते!

नीरज बधवार First Published:06-12-2012 07:09:54 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

एक राष्ट्र के रूप में भारत के साथ सबसे बड़ी दिक्कत यह है कि अपने आप में स्वतंत्र ग्रह न होकर हम इसी धरती का हिस्सा हैं, जिसके चलते हमें बाकी राष्ट्रों से मेल-मिलाप करना पड़ता है। अंतरराष्ट्रीय आयोजनों का हिस्सा बनना पड़ता है। अंतरराष्ट्रीय मापदंडों पर खरा उतरना पड़ता है, जिससे हम सफोकेशन फील करते हैं। हमें लगता है कि हमारी निजता भंग हो रही है। हमारे बेतरतीब होने को लेकर अगर कोई उंगली उठाता है, तो हमें लगता है कि वह ‘पर्सनल’ हो रहा है।

हमारी हालत उस शराबी पति की तरह हो जाती है, जो कल तक घर में बीवी-बच्चों को पीटता था और आज वह मोहल्ले में भी बेइज्जती करवाकर घर आया है। अब घर आने पर वह किस मुंह से कहे कि मोहल्ले वाले कितने गंदे हैं, क्योंकि पति के हाथों रोज पिटाई खाने वाली उसकी बीवी तो अच्छे से जानती है कि मेरा पति कितना बड़ा देवता है! उसके लिए ‘डिनायल मोड’ में रहना कठिन हो जाता है।

नाराजगी में वह घर बेचकर किसी निर्जन टापू पर चला जाता है। जहां वह ‘अपने तरीके’ से रहते हुए बीवी-बच्चों को पीटे व उसे शर्मिंदा करने वाला कोई न हो। मगर राष्ट्रों के लिए यह आसान नहीं होता। होता तो एक राष्ट्र के रूप में हम किसी और ग्रह पर शिफ्ट कर जाते, जहां हम अपने तरीके से जीते। विकास नीतियों की आलोचना करते हुए जहां कोई रेटिंग एजेंसी हमारी क्रेडिट रेटिंग न गिराती, सरकारी दखल पर इंटरनेशनल ओलंपिक कमेटी ओलंपिक से बेदखल न करती, ट्रांसपरेंसी इंटरनेशनल जैसी संस्था हमें भ्रष्टतम देशों में न शुमार करती। एमनेस्टी इंटरनेशनल मानवाधिकारों के हनन पर हमें न धिक्कारती।

और अगर कोई उंगली उठाता, तो हम उसे विपक्ष का षडय़ंत्र बताते, अंतरराष्ट्रीय एनजीओ का दलाल बताते, सांविधानिक संस्थाओं पर शक करते व आम आदमी के विरोध करने पर उसे 66 ए के तहत भावनाएं आहत करने का दोषी बता गिरफ्तार करवा देते। काश! हम स्वतंत्र ग्रह होते, तो दुनिया से बेफिक्र, अपने ‘डिनायल मोड’ में जीते व खुश रहते। वैसे भी दुनिया का हिस्सा होते हुए दुनिया को एलियन लगने से अच्छा है, हम औपचारिक रूप से एलियन होते!

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड