Image Loading
सोमवार, 27 मार्च, 2017 | 08:15 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • हेल्थ टिप्स: सीढ़ी चढ़ने से कम होता है हार्ट अटैक का खतरा, क्लिक कर पढ़ें
  • मौसम दिनभर: दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना, रांची और लखनऊ में होगी तेज धूप।
  • ईपेपर हिन्दुस्तान: आज का समाचार पत्र पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।
  • आपका राशिफल: मिथुन राशि वालों के आय में वृद्धि होगी, अन्य राशियों का हाल जानने के...
  • सक्सेस मंत्र: अवसर जरूर द्वार खटखटाते हैं, बस पहचानना आना चाहिए, क्लिक कर पढ़ें
  • टॉप 10 न्यूज: कश्मीर में आतंक-PDP मंत्री के घर पर हमला, दो पुलिसकर्मी हुए घायल, अन्य...

खोल के भीतर

नीरज कुमार तिवारी First Published:05-12-2012 10:08:10 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

वह तमाम बैठकों में वही कहते हैं, जो उनके बॉस के विचार होते हैं। बॉस बदलने के साथ ही उनके विचार बदल जाते हैं। हालांकि, अपने काम में वह माहिर समझे जाते हैं। बॉस की जरूरत का सौ प्रतिशत देना उनके बाएं हाथ का खेल है। लेकिन क्या यह पर्याप्त है? पामेला मेयर, जो एक सोशल नेटवर्किंग कंपनी की सीईओ और लेखिका हैं, उनका कहना है कि आज की ज्यादातर कंपनियों में मशीनी मानवों का बोलबाला है। वे काम में प्रोफशनली तौर पर रिच हैं, पर विचारों से खाली है। पामेला कहती हैं कि इससे पैसे तो फल रहे हैं, पर विचारों की फसल मार खा रही है। दरअसल, हम इस गफलत के शिकार हैं कि अपने वरिष्ठों की हां में हां मिलाना सही रणनीति है, जबकि यह हमेशा कारगर नहीं होता। किसी भी काम, मुद्दे और समस्या पर जब तक आप अपना दिमाग नहीं लगाते, विचार नहीं रखते आपका अस्तित्व मानव होने के नाते समझ से परे है। 17वीं सदी के महान विचारक बाल्तेशर ग्रेशियन ने कहा था कि आपको यह कोशिश नहीं करनी चाहिए कि आप किसी एक व्यक्ति पर ही निर्भर रहें, बल्कि आपको यह कोशिश करनी चाहिए कि कई व्यक्ति आप पर निर्भर रहें। भला यह हो कैसे? बाल्तेशर के शब्दों में, ‘खुद को सभी वायदों और एहसानों से मुक्त रखें।’ इससे आपकी जवाबदेही कहीं से कम नहीं होती है, बल्कि और बढ़ जाती है। यहां नारायण मूर्ति के विचार प्रासंगिक हैं। वह कहते हैं कि अगर आप मौलिक विचार रखते हैं, तो भले ही वे नहीं माने जाएं, पर आपको वे असम्मानित नहीं बना सकते। उनका कहना है कि आप मशीन से बेहतर हैं और यह बात आपको बार-बार साबित करनी पड़ती है। सच तो यह है कि हम कछुए की तरह कवच चाहते हैं। लेकिन अगर हमें वाकई अपनी स्वतंत्रता, मानसिक सुरक्षा कायम रखनी है, तो अपने विचारों के साथ जीना होगा। खुद को खोल के भीतर रखना अपने को क्षत-विक्षत करने जैसा है।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड