Image Loading
सोमवार, 27 फरवरी, 2017 | 14:27 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • मऊ में बोले पीएम मोदी, देश के विकास के लिए यूपी का विकास जरूरी। पूरी खबर पढ़ने के...
  • यूपी चुनाव LIVE: एक बजे तक गोंडा में 36.7%, फैजाबाद में 41.18% मतदान। पूरी खबर पढ़ने के लिए...
  • नर्सरी एडमिशनः दिल्ली सरकार को झटका, स्कूलों की मर्जी से होगा दाखिला। पूरी खबर...
  • OSCARS 2017: 'मूनलाइट' को बेस्ट फिल्म का अवॉर्ड
  • चुनाव प्रचार के लिए जेल से बहार नहीं जा पाएंगे बसपा नेता मुख्तार अंसारी। दिल्ली...
  • आज के हिन्दुस्तान में पढ़ें मिंट के संपादक आर सुकुमार का विशेष लेख: रियायत के...
  • OSCARS: बेस्ट विजुअल इफेक्ट्स के लिए द जंगल बुक फिल्म को मिला अवॉर्ड
  • यूपी चुनाव: 5वें चरण के 51 सीटों पर मतदान जारी, पल-पल के अपडेट्स और चुनाव से जुड़ी हर...
  • मऊ में पीएम मोदी की रैली आज, वाराणसी में होंगी बीएसपी चीफ मायावती, गोरखपुर में...
  • मौसम अलर्ट: दिल्ली-एनसीआर, पटना, रांची और लखनऊ में रहेगी हल्की धूप, देहरादून में...
  • आज का भविष्यफल: मिथुन राशि वालों को प्रतियोगी परीक्षा एवं इंटरव्यू में सफलता...
  • आज के हिन्दुस्तान का ई-पेपर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।
  • #Oscars बेस्ट एक्टर इन सपोर्टिंग रोल का अवॉर्ड Mahershala Ali को, Moonlight के लिए मिला अवॉर्ड
  • हेल्थ टिप्स: जानें सौंफ के बेहद गुणकारी फायदे, ये बीमारियां रहेंगी दूर, पूरी खबर...
  • Good Morning: यूपी में पांचवें चरण की 51 सीटों पर वोटिंग आज, भारतीय मूल के एक्टर देव पटेल को...

खदान और चुगान की बहस में खुद गया पहाड़

वीरेन्द्र पैन्यूली, सामाजिक कार्यकर्ता First Published:03-12-2012 06:41:21 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

टीवी चैनलों में अवैध खनन और उनको ढोने के लिए नदियों के पाटों में खड़े जेसीबी डंपरों, ट्रकों, ट्रैक्टरों की तस्वीरें दिखाई जा रहीं हैं। अधिकारी, कर्मचारी, मंत्री, हाई-वे पर आते-जाते नदियों में होते हुए खनन देख रहें हैं। लेकिन वे सब चुप हैं। जंगलात विभाग तो बिल्कुल निष्क्रिय बना रहता है। उत्तराखंड में पहले जो अवैध खनन राम अंधेरे में किया जाता था, अब वह दिन दिहाड़े किया जा रहा है। इसके साथ ही खनन माफियाओं का दुस्साहस देखिए, वे बाधा बन रहे अधिकारियों को कुचल देने तक में नहीं हिचक रहें हैं। खनन माफियाओं के प्रति दिखाई गई कमजोरी का खामियाजा सरकारी अधिकारी या कर्मचारी ही नहीं भुगत रहें हैं, आम जनता भी भुगत रही है। खदान से छोड़े गड्ढों में बच्चे डूबे हैं, पुलिया, पुलों के पाए ढहे हैं, निजी मकानों, भवनों की नीवें चरमराई हैं, सड़कों को नुकसान हुआ है, वाहन चालक दुर्घटनाग्रस्त हुए हैं। कई पहाड़ी गांवों से लगातार शिकायतें आ रहीं हैं कि अवैध खनन से उनके गांवों को खतरा है। हाल में ही ऐसी पुकार उत्तरकाशी की यमुना घाटी के कई गांवों से आई हैं।

दूसरी ओर, सरकार की तरफ से भी इसे वैध बताया जा रहा है। खदान को चुगान बताकर जायज ठहराया जा रहा है। न इसे केंद्र सरकार रोक पा रही है और न ही राज्य सरकार। दो साल पहले पर्यावरण मंत्री जयराम रमेश का नदियों में खदान हो रहा है या चुगान, इस पर राज्य सरकार से टकराव हुआ था। केंद्र इसे चुगान मानता रहा है। उसने नदियों में खदान न होने देने की अपनी नीति के अनुरूप 2010 में लगभग पूरे साल ही राज्य की नदियों से रेत-बजरी निकालना रोक दिया था। न्यायालय भी सरकार की चुगान होने की दलीलों से ज्यादा सहमत नहीं लगते हैं। कुछ एक सरकारी वैज्ञानिकों के तर्कों को छोड़ दें, तो वैज्ञानिक परिभाषा में जो हो रहा है, उसे चुगान नहीं कहा जा सकता है। जो खनिज नदी सतह से निकाल कर लादे जा रहें हैं, वे चुगे जा रहें हैं, खोदे नहीं जा रहे, इस बात को वैज्ञानिक और कानूनी दृष्टि से सिद्ध करने के लिए जो काम करना चाहिए, वह हो नहीं रहा है।

न वैज्ञानिक, न अधिकारी और न सरकार किसी की भी इसमें दिलचस्पी नहीं है। वैसे इसे अब भी किया जा सकता है। इसके लिए नदियों में पिछले वर्षों की रेत-बजरी की सतह व अगले साल की सतह की मोटाई भी नापनी होगी। कुल अंतर ही सच बता देगा। स्थानीय लोग भी अब नदियों में अवैध खनन का विरोध कर रहे हैं। इससे क्षेत्र में असामाजिक तत्वों की बढ़ोतरी के अलावा, स्थानीय खेतों, रास्तों और पुलों को भी नुकसान हो रहा है। हमें यह भी समझना होगा कि नदियों में ज्यादा बजरी-पत्थर आना चिंता का विषय होना चाहिए। यह बताता है कि पहाड़ों में जलागम क्षेत्रों की स्थिति खराब होती जा रही है। इससे खेती और आवासीय क्षेत्रों को भी खतरा हो सकता है।
(ये लेखक के अपने विचार हैं)

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Jharkhand Board Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड