Image Loading
शनिवार, 07 मई, 2016 | 02:08 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • आईपीएल 9: सनराइजर्स हैदराबाद ने गुजरात लायंस को पांच विकेट से हराया
  • खुशखबरी: दिल्ली में टीचर बनना है तो करें इस खबर पर क्लिक..
  • नेपाल ने कथित असहयोग के आरोप पर भारत से अपने राजदूत को वापस बुलाया।
  • आईपीएल 9: गुजरात लायंस ने हैदराबाद सनराइजर्स के सामने 127 रन का लक्ष्य रखा
  • आईपीएल 9: हैदराबाद सनराइजर्स ने गुजरात लायंस के खिलाफ टॉस जीता, पहले करेंगे...
  • PM मोदी पर बोले अरुण शौरी, लोगों को इस्तेमाल कर छोड़ देते हैं मोदी
  • पाकिस्तान क्रिकेट टीम के मुख्य कोच बने दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कोच मिकी अर्थर
  • अगस्ता मामला: स्वामी ने राज्यसभा में दिए दस्तावेज, राज्यसभा जल्द जारी करेगी...
  • कांग्रेस के आरोपों पर बीजेपी का सवाल- भ्रष्टाचार पर कार्रवाई राष्ट्रविरोधी...
  • आईसीएसई दसवीं और आईएससी 12वीं के नतीजे घोषित
  • कांग्रेस के हरीश रावत अपना बहुमत साबित करेंगे
  • केन्द्र सरकार उत्तराखंड विधानसभा में फ्लोर टेस्ट करने को तैयार: एजेंसी
  • अगस्ता घूसकांडः SC ने इतालवी कोर्ट के फैसले में नामित लोगों के खिलाफ FIR दर्ज कराने...
  • लोकतंत्र बचाओ मार्चः संसद मार्ग थाना पुलिस ने सोनिया, राहुल, मनमोहन, एंटनी और...
  • सुप्रीम कोर्ट में उत्तराखंड मामला 12बजे तक के लिये स्थगित

सीजन शादियों का अर्थात आज मेरे यार की शादी है

अशोक संड First Published:03-12-2012 06:40:32 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

आषाढ़ की महाएकादशी से लगातार चार महीने सोने वाले देवता पिछले दिनों जाग उठे। सोते अपने कुंभकरण महाराज भी पूरे छह महीने थे,  पर उनकी पहचान देवताओं की कटेगरी में नहीं है। देवता सोए, तो शादियों पर खास तौर से रोक लग गई। कालखंड चातुर्मास कहलाया। हरि जब जागे, तो घोषित कर दी गई देवोत्थान एकादशी। शयन अवधि में शुभ कार्य वर्जित। जागते ही बारात निकल पड़ती है शुभ कार्यों की। चतुर्दिक भ्रष्टाचार के समुद्र में घिरी इस धरा पर विवाह फिलहाल शुभत्व की गति को प्राप्त है। निमंत्रण पत्र पर अंकित शुभ विवाह इसका लिखित दस्तावेज है। हजारों युगल इस सीजन में आग के इर्द-गिर्द गोला बनाकर चतुभरुज हो जाएंगे। लिफाफों को बैग में ठूंसने की यही ऋतु है। सीजन मंत्रोचार न समझने वाले पंडिज्जी और कोलाहल करते बैंड बाजे वालों से लेकर डेकोरेटर, कैटरर, टेलर सभी का है। भले दूसरे दिन ही उतर जाए, पर मेंहदी कलाई से लेकर बाजू के छोर तक लगवानी है। मेंहदी लगाने वालों की भी चांदी। सीजन फिजूलखर्ची की बरसात का है। लग्नोदय सिर्फ उन सुमंगली-सुमंगलम का ही नहीं, जिनको साथ रहने के लिए फेरे लगाने हैं, दिन उनके भी फिरेंगे, जो कुछ समय पहले तक इक्के-तांगे में जुटी रहती थीं। चाबुक खाने वाली पीठ के सजने की बेला इसी सीजन में आती है।

मौसम बारातियों के सजने का भी है। शादियां रोज पहनने वाले कपड़ों में अटेंड नहीं की जाती। सर्दी में भी ब्लाउज का कट ‘लो’, हील ‘हाई। ’ भारत एक शादी प्रधान देश भी है। राजधानी में सीजन की शुरुआत में ही एक दिन में पचास हजार शादियां हुईं। बगैर दिल वाले निष्ठुर भी यहां दुल्हनियां ले आते हैं और विश्वामित्र सरीखे टाइटैनिक भी इस समंदर में डूब जाते हैं। इन दिनों घोड़ियों के हिनहिनाने व लड़कियों के ‘गिगिल’ करने का मौसम है। झूमते-रेंगते बारातियों की वजह से ट्रैफिक जाम होने का मौसम है। अनारकली डिस्को चली..से लेकर ये देश है वीर जवानों.. की धुन पर थिरकने का भी मौसम है। वाकई देश वीर-जवानों का है, जो शादी के हर सीजन में उस लड्डू को जरूर खाता है, जिसे खाने के बाद पछताने के ब्राइट चांस रहते हैं।

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
सनराइजर्स ने लायंस को पांच विकेट से हरायासनराइजर्स ने लायंस को पांच विकेट से हराया
मुस्तफिजुर रहमान और भुवनेश्वर कुमार की धारदार गेंदबाजी के बाद शिखर धवन की जुझारू पारी से सनराइजर्स हैदराबाद ने इंडियन प्रीमियर लीग मैच में आज यहां गुजरात लायंस को कम स्कोर वाले मैच में पांच विकेट से हरा दिया।