Image Loading योग के नए रास्ते - LiveHindustan.com
सोमवार, 08 फरवरी, 2016 | 19:49 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • उत्तर प्रदेश: 50 आईपीएस अधिकारियां का तबादला, 21 जिलों के एसपी बदले
  • दिव्यांश मौत मामला: दिल्ली सरकार ने दिए सीबीआई जांच के आदेश
  • एयर इंडिया की दिल्ली-लंदन उड़ान को तकनीकी कारणों के चलते फ्रैंकफर्त की ओर मोड़...
  • नेपाल में मधेसी प्रदर्शनकारियों ने अपनी हडताल वापस ले ली और भारत-नेपाल सीमा पर...
  • देश की विकास दर धीमी पड़ी, विकास दर तीसरी तिमाही में 7.3 फीसदी, दूसरी तिमाही में...

योग के नए रास्ते

अमृत साधना First Published:02-12-2012 07:12:22 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

योग एक लोकप्रिय मार्ग रहा है और चूंकि योग भारत में पैदा हुआ, फूला और फला, सो इसके इर्द-गिर्द भी एक यौगिक आभामंडल है। रहस्यमय योगियों की कहानियां, उनकी असाधारण सिद्धियां हवा में तैरती रहती हैं। योग, जो अब तक छिपा हुआ था, मीडिया की कृपा से अब सार्वजनिक फैशन बन गया है। पर अक्सर किसी चीज का जब हद से ज्यादा प्रसार होता है, तो उसकी गहराई की ओर ध्यान नहीं जाता। यही दुर्घटना घटी है योग के साथ। योग का जो शारीरिक पहलू है, वह लोकप्रिय हुआ और यह बात ही विस्मृत हो गई कि यह सीढ़ी है, मंजिल नहीं। इस पर पांव रखकर जाना कहीं और है। क्या आप सीढ़ी पर घर बसा सकते हैं?

योगासन एक शारीरिक क्रिया है और किसी हद तक स्वास्थ्य के लिए भी लाभप्रद है। पर उसी को संपूर्ण योग मान लेना योगशास्त्र केसाथ अन्याय है। योग के जरिये जो चेतना के उच्चतर तल विकसित हो सकते हैं, उन तलों के बारे में किसी को पता नहीं है। योग है मन की उथल-पुथल का थम जाना, चित्तवृत्ति निरोध, ताकि मन के पार जाने का द्वार खुल सके। योग अनुशासन है। योग का अर्थ है अपने आप से जुड़ना। मन की  बिखरी हुई ऊर्जा को इकट्ठा करके सूत्र में बांधने का नाम है योग।

सिर्फ योगासन करने से यह सूत्र निर्मित नहीं हो सकता। आधुनिक मनुष्य को जरूरत है भावनाओं का रेचन करने की। पतंजलि के समय इसकी जरूरत नहीं थी, क्योंकि तब लोग सीधे-सादे थे। पर आज योग में नए पहलू जोड़ने होंगे।  योग नियंत्रण सिखाता है, नियंत्रण यानी दमन। आज हमारी जरूरत है भावों को विसर्जित करने की, उन्हें अभिव्यक्त कर रूपांतरित करने की। जब तक मैंने ओशो के सक्रिय ध्यान नहीं किए, अपने भावों की सफाई नहीं की, तब तक मेरे जीवन में कोई आनंद नहीं था। योग के नए रास्ते खोजने होंगे, तभी योग पुन: पुरानी गरिमा प्राप्त कर सकता है।

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
कैसा रहा साल 2015
क्रिकेट
फिंच नहीं स्मिथ संभाल सकते हैं टी-20 वर्ल्डकप की कप्तानीफिंच नहीं स्मिथ संभाल सकते हैं टी-20 वर्ल्डकप की कप्तानी
ऑस्ट्रेलिया के ट्वेंटी-20 कप्तान एरन फिंच भारत की मेजबानी में होने वाले आगामी ट्वेंटी-20 विश्वकप में टीम की कमान नहीं संभालेंगे और उनकी जगह स्टीवन स्मिथ को कप्तान बनाया जा सकता है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड