Image Loading
शुक्रवार, 27 मई, 2016 | 19:47 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • आईपीएल 9: सनराइजर्स हैदराबाद ने टॉस जीता, पहले फील्डिंग का फैसला
  • सीबीएसई दसवीं क्लास का रिजल्ट कल दोपहर 2 बजे घोषित होगा
  • गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, जिस दिन जीएसटी बिल पास होगा, हमारी विकास दर 1.5 से 2...
  • यूपी: स्पेन में बनी टेल्गो ट्रेन का ट्रायल रन बरेली और भोजीपुरा रेल रूट पर हुआ
  • इशरत जहां से जुड़ी फाइलें नहीं मिलीं, गृह मंत्रालय से कुछ फाइलें गायब हुईं थीं,...
  • सीबीआई ने NCERT के अंडर सेक्रेटरी हरीराम को रिश्वत लेते रंगे हाथो गिरफ्तार किया: ANI
  • केन्द्र सरकार के संस्कृति मंत्रालय ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस से जुड़ी 25 और...
  • हरियाणा सरकार ने की घोषणा, पीपली बस ब्लास्ट शामिल लोगों के बारे में सूचना देने...
  • 286 अंक चढ़ा सेंसेक्स, 26,653.60 पर हुआ बंद
  • विशेषज्ञ समिति ने नई शिक्षा नीति का मसौदा मानव संसाधन मंत्रालय को सौंपा
  • उत्तर प्रदेश में सीएम कैंडिडेट के नाम पर शाह बोले, जनता तय करेगी कौन होगा उनका...
  • NEET: सुप्रीम कोर्ट का केंद्र सरकार द्वारा लाये गए अध्यादेश पर रोक लगाने से इनकार।

पत्थरों से सजे भारी गहने

सोनी तिवारी First Published:01-12-2012 03:15:26 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
पत्थरों से सजे भारी गहने

शादियों का मौसम शुरू हो चुका है। महिला हो या पुरुष शादी के आयोजनों में सब सुंदर दिखना चाहते हैं। सुंदरता में चार चांद लगाने के लिए गहने पहने जाते हैं। लेकिन कतई जरूरी नहीं है कि आप सोने के गहने पहनें। बाजार में असली और नकली पत्थरों के गहनों की बड़ी रेंज मौजूद है। इनमें महंगे और सस्ते हर तरह के गहने हैं। सोनी तिवारी की रिपोर्ट।

शादी ब्याह में महिलाएं भारी भरकम गहने पहनना पसंद करती हैं। पिछले कुछ समय से सोने के खालिस गहनों का चलन थोड़ा कम हो गया है। इनकी जगह पत्थर के गहनों ने ले ली है। असली और नकली हर तरह के पत्थरों से सजे गहने लोकप्रिय हो रहे हैं।  रंगीन पत्थरों के प्रयोग के चलते ये काफी आकर्षक नजर आते हैं। साथ ही पत्थरों के इस्तेमाल से ज्वेलरी भी काफी भारी नजर आती है।

इन गहनों में महिलाओं के कान, अंगुलियों व गले में पहनने वाले आभूषण शामिल हैं। इनमें सबसे ज्यादा रूबी का इस्तेमाल किया जाता है। ये देखने में  बेहद आकर्षक लगती है और शाही लुक देती है। अमूमन लोग सगाई की अंगूठी में रूबी लगवाना ही पसंद करते हैं।

महिलाएं ही नहीं, पुरुषों के ब्रेसलेट व अंगूठियों में भी बड़े पैमाने पर सेमी प्रेशियस स्टोन्स जैसे टोपाज, अम्बर, एक्वामरीन आदि पत्थरों का प्रयोग किया जा रहा है। अंगूठियों व गले के लिए बनने वाले आभूषणों में क्रिस्टल, अमेरिकन डायमंड व ऑस्ट्रेलियन डायमंड का प्रयोग बड़े पैमाने पर हो रहा है। ये देखने में असली हीरे की तरह लगते हैं पर इनकी कीमत बेहद कम होती है।

अमेरिकन डायमंड से बनी सोने की अंगूठी देखने में असली हीरे की अंगूठी की तरह लगती है। गले और कान के आभूषणों में भी अमेरिकन डायमंड का इस्तेमाल किया जाता है। प्राकृतिक मोती के आभूषण तो काफी महंगे हैं पर आपको अप्राकृतिक तौर पर तैयार किया गया मोती 100 से 1500 रुपये तक मिल जाता है। महिलाओं में जहां मोती की मालाओं का चलन तेजी से बढ़ा है वहीं पुरुष मोती की अंगूठी पहनना पसंद कर रहे हैं।

पीबी सोसाइटी ज्वेलर्स के चेयरमैन महेश चंद्र जैन बताते हैं कि आभूषण बाजार में देसी और विदेशी रत्नों का प्रयोग पिछले कुछ समय में काफी तेजी से बढ़ा है। देश में जयपुर कीमती रत्नों के बड़े बाजारों में से एक है। उत्तर भारत में ज्यादातर रत्न यहीं से आते हैं। चांदनी चौक में बुलियन के कारोबारी श्री किशन के अनुसार ज्वेलर्स पर डिजाइनिंग का दबाव काफी अधिक बढ़ गया है। पत्थर वाले गहने कम सोने में बेहतर और आकर्षक तरीके से तैयार हो जाते हैं। ये लंबे समय तक टिकते भी हैं और हर तरह के परिधानों के साथ फबते हैं। इसीलिए ग्राहक इन्हें खूब पसंद करते हैं।

अगर आप महंगे गहने नहीं खरीदना चाहते हैं तो आसानी से आपको लोकल बाजार में नकली पत्थरों से सजे गहने कम कीमत में मिल जाएंगे। आप अपनी पसंद के हिसाब से इन्हें चुन सकते हैं। ये देखने में बिलकुल असली गहनों जैसे चमकदार और आकर्षक लगते हैं।

 
 
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
Bihar Board Result 2016
Assembely Election Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
PAK गेंदबाज अकरम बोले, PAK गेंदबाज अकरम बोले, 'अगर कोहली को करनी पड़ती गेंदबाजी तो...'
अपने समय में बल्लेबाजों के लिए खौफ माने जाने वाले पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज वसीम अकरम का मानना है कि अगर उन्हें विराट कोहली को गेंदबाजी करनी होती तो उन्हें इसकी चिंता रहती।