Image Loading
शनिवार, 25 मार्च, 2017 | 23:02 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • पढ़ें रात 11 बजे की टॉप खबरें, शुभरात्रि
  • अंकराशि: जानिए कैसा रहेगा आपके लिए 26 मार्च का दिन
  • जरूर पढ़ें: दिनभर की 10 बड़ी रोचक खबरें
  • प्राइम टाइम न्यूज़: पढ़े अबतक की 10 बड़ी खबरें
  • करीना से अपने रिश्ते पर पहली बार बोले शाहिद, 'सबसे बड़ा राज...', यहां पढ़ें बॉलीवुड...
  • हिन्दुस्तान जॉब : 12वीं पास के बच्चों को नौकरी देगा एचसीएल, क्लिक कर पढ़े
  • सीएम बनने के बाद पहली बार गोरखपुर पहुंचे योगी, हुआ भव्य स्वागत, पढ़ें राज्यों से...
  • यूपी सीएम ने कहा, कैलाश मानसरोवर यात्रियों को एक लाख का अनुदान देंगे, पूरी खबर...
  • इलाहाबाद: कौशाम्बी के पिपरी इलाके में छेड़खानी से दुखी बीए की छात्रा ने...
  • कैलाश मानसरोवर यात्रा के लिए 1 लाख रुपये सरकार देगी: सीएम योगी आदित्यनाथ
  • सीएम योगी आदित्य नाथ ने कहा- केंद्र की तरह यूपी में भी विकास को आगे बढ़ाना है
  • टॉप 10 न्यूज़: पढ़े अबतक की देश-विदेश और मनोरंजन की बड़ी खबरें
  • मोहद्दीपुर पहुंचे सीएम आदित्यनाथ योगी, महाराणा प्रताप कॉलेज में होगा अभिनंदन
  • यूपी: गोरखपुर पहुंचे सीएम आदित्यनाथ योगी
  • गैजेट-ऑटो अपडेट: पढ़ें अभीतक की 8 बड़ी खबरें
  • जेटली मानहानि मामला: पटियाला हाउस कोर्ट में सीएम अरविंद केजरीवाल और अन्य आप...
  • अभिनेता रजनीकांत ने तमिल समर्थक संगठनों के विरोध के मद्देनजर अपनी श्रीलंका...
  • #IndvsAus धर्मशाला टेस्ट DAY-1: ऑस्ट्रेलिया की पहली पारी 300 रन पर सिमटी
  • #IndvsAus धर्मशाला टेस्ट DAY-1: 57 रन बनाकर वेड आउट, जडेजा ने लिया 9वां विकेट, AUS स्कोर 298/9
  • स्पोर्ट्स अपडेटः 'चाइनामैन' कुलदीप के बारे में Interesting facts. पढ़ें, क्रिकेट की अभी तक...
  • बिहार में बदला मौसम का मिजाज, उत्तर बिहार में आंधी-तूफान, बारिश और ओला वृष्टि से...

छेड़खानी पर सख्त सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली विशेष संवाददाता First Published:01-12-2012 01:55:14 AMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

सुप्रीम कोर्ट ने महिलाओं से छे़डछाड़ को एक बड़े अपराध बताते हुए सरकार से इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए कानून बनाने को कहा है। कोर्ट ने कहा कि कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न रोकने के लिए संसद एक विधेयक पर विचार कर रही रही है, लेकिन यह छेड़छाड़ रोकने में सक्षम नहीं है। इसलिए, जब तक इस संबंध में कानून नहीं बनता, तब तक सभी राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों की सरकारें कुछ दिशानिर्देशों का पालन करेंगी।

शुक्रवार को यह फैसला देते हुए जस्टिस के.एस. राधाकृष्णन की पीठ ने कहा कि काम और पढमई के सिलसिले में ज्यादा से ज्यादा छात्राएं और महिलाएं बाहर निकल रही हैं। उन्हें सुरक्षा देना सभ्य और सुसंस्कृत समाज के लिए जरूरी है। बसों, मॉल और ट्रेनों में उनका अनुभव बडम दर्दनाक व भयावह होता है।

कोर्ट ने कहा कि देश में हर नागरिक को अनुच्छेद 21 (व्यक्तिगत आजादी और जीवन) के तहत सम्मान और गरिमा के साथ जीने का मौलिक अधिकार है। यौन प्रताड़ना, जैसे-छेड़छाड़ अनुच्छेद 14 और 15 के तहत दी गई गारंटियों का भी उल्लंघन है।

वर्तमान में छेड़छाड़ की शिकायतें आईपीसी की धारा-354 और 509 के तहत दर्ज की जाती हैं। ज्यादातर महिलाएं डर के कारण चुप्पी साध लेती हैं। ऐसे मामलों में तीन माह से लेकर एक साल की साधारण सजा का प्रावधन है।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड