Image Loading विधायिका के कार्यदिवस को बढ़ाया जा सकता है: राष्ट्रपति - LiveHindustan.com
रविवार, 01 मई, 2016 | 11:38 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • मजदूरों का असली दर्द समझना है तो पढ़ें शशि शेखर का ये ब्लॉग

विधायिका के कार्यदिवस को बढ़ाया जा सकता है: राष्ट्रपति

चेन्नई, एजेंसी First Published:30-11-2012 11:33:33 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

संसद और राज्य की विधानसभाओं में हंगामे की वजह से बार-बार बाधा उत्पन्न होने से नाराज राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने शुक्रवार को कहा कि विधायिका बैठक के कार्यदिवसों को बढ़ा सकती है जिससे विधायी कार्य समय पर संपन्न हो सकें।

मुखर्जी यहां तमिलनाडु विधानसभा के हीरक  जयंती समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि संसदीय लोकतंत्र का मूल सिद्धांत है कि बहुमत शासन करेगा और अल्पमत विरोध और प्रकट करेगा।

विधायिका द्वारा बजट और योजनागत प्रस्तावों पर चर्चा के लिए पर्याप्त समय नहीं देने पर मुखर्जी ने कहा कि कोई भी संसद अथवा विधानसभा को साल में छह महीने कार्य करने से नहीं रोकता।

उन्होंने कहा कि भारत के पहले बजट का आकार 293 करोड़ रुपये था लेकिन जब वह वित्त मंत्री थे तब उन्होंने 1० खरब रुपये का बजट पेश किया था।

मुखर्जी ने कहा कि बजट पर चर्चा का समय लगातार घटता जा रहा है।

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
ड्रेसिंग रूम के उम्दा माहौल से प्रदर्शन निखरा : ब्रेथवेटड्रेसिंग रूम के उम्दा माहौल से प्रदर्शन निखरा : ब्रेथवेट
कोलकाता नाइट राइडर्स के खिलाफ हरफनमौला प्रदर्शन करके दिल्ली डेयरडेविल्स की जीत के सूत्रधार रहे कार्लोस ब्रेथवेट ने इस सत्र में टीम के उम्दा प्रदर्शन का श्रेय ड्रेसिंग रूम के खुशनुमा माहौल और खिलाड़ियों के आपसी तालमेल को दिया।