Image Loading
गुरुवार, 26 मई, 2016 | 22:00 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • संजय बांगड़ को आगामी जिम्बाब्वे सीरीज के लिए भारतीय क्रिकेट टीम का कोच बनाया...
  • अमेरिकाः डोनाल्ड ट्रंप ने राष्ट्रपति पद के वास्ते रिपब्लिकन नामांकन हासिल...
  • यूपी के सहारनपुर से पीएम मोदी LIVE: डॉक्टरों की रिटायरमेंट की उम्र 65 साल करेंगे
  • यूपी के सहारनपुर से पीएम मोदी LIVE: डॉक्टर महीने में गरीबों को एक दिन दें
  • यूपी के सहारनपुर से पीएम मोदी LIVE:बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना पूरे देश के लिए है
  • दिल्ली पुलिस ने मर्सीडीज हिट एंड रन मामले में एक किशोर के खिलाफ किशोर न्याय...
  • यूपी के सहारनपुर से पीएम मोदी LIVE:यूपी के सारे गांवों को रोशन करूंगा
  • यूपी के सहारनपुर से पीएम मोदी LIVE: 18 हजार गांवों में एक बिजली के खंभे तक नहीं है
  • यूपी के सहारनपुर से पीएम मोदी LIVE: 300 दिनों में 7 हजार गांवों तक बिजली पहुंची
  • यूपी के सहारनपुर से पीएम मोदी LIVE: पिछली सरकार के मुकाबले सड़क बनाने की रफ्तार...
  • यूपी के सहारनपुर से पीएम मोदी LIVE:मेरे किसी नेता या मंत्री ने भ्रष्टाचार नहीं...
  • यूपी के सहारनपुर से पीएम मोदी LIVE: दो साल में भ्रष्टाचार का एक आरोप नहीं
  • यूपी के सहारनपुर से पीएम मोदी LIVE: गन्ना किसानों का बकाया मिले इसकी हमने व्यवस्था...
  • यूपी के सहारनपुर से पीएम मोदी LIVE: देश के गरीब के जीवन में बदलाव आए, ऐसे हम देश का...
  • यूपी के सहारनपुर से पीएम मोदी LIVE:2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य
  • यूपी के सहारनपुर से पीएम मोदी LIVE: हमने किसान हित की नीति बनाई
  • यूपी के सहारनपुर से पीएम मोदी LIVE: अब राज्य में 65% धन और केंद्र में 35% धन रहेगा
  • यूपी के सहारनपुर से पीएम मोदी LIVE:यह देश बदल रहा है, लेकिन कुछ लोगों का दिमाग नहीं...
  • यूपी के सहारनपुर से पीएम मोदी LIVE: मैंने दो साल में उन कामों को हाथ में लिया जो...
  • यूपी के सहारनपुर से पीएम मोदी LIVE: आज देश के लोगों को काम का हिसाब देने आया हूं
  • सहारनपुर से पीएम मोदी LIVE: दो साल में देश ने हमारे काम को देखा
  • मोदी सरकार के दो साल: सहारनपुर में बड़ी रैली को संबोधित कर रहे हैं पीएम मोदी
  • यूपी के सहारनपुर में बीजेपी की रैली: यूपी में बीजेपी का 14 वर्षों का वनवास खत्म...
  • यूपी के सहारनपुर में बीजेपी की रैली: मोदी के दिल में किसानों का दर्द छलकता है-...
  • यूपी के सहारनपुर में बीजेपी की रैली: मोदी सरकार ने फसल बीमा योजना लागू की-राजनाथ...
  • यूपी के सहारनपुर में बीजेपी की रैली: बीजेपी सरकार में जनता के प्रति जवाबदेही-...
  • यूपी के सहारनपुर में बीजेपी की रैली: बीजेपी सरकार में पारदर्शिता है- राजनाथ सिंह
  • यूपी के सहारनपुर में बोले केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह - जनता से नजरें चुराकर...
  • मोदी सरकार के दो साल पूरे होने पर पीएम मोदी रैली को संबोधित करने सहारनपुर पहुंचे
  • कांगो में कुछ भारतीयों की दुकानों पर हमला, कुछ भारतीय घायल। गृह मंत्रालय के...
  • हरियाणा में रोडवेज की बस में धमाका, 9 लोग घायल
  • मानसून पर मौसम विभाग का पूर्वानुमान, केरल में 7 जून को मानसून पहुंचेगा
  • जम्मू कश्मीर के नौगांव में सुरक्षा बलों ने तीन आतंकवादियों को मार गिराया।
  • शेयर बाजार: सेंसेक्स 353 अंक चढ़कर इस साल के उच्चत्तम स्तर 26,260 पर पंहुचा, निफ़्टी 8026
  • पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट ने नवसृजित पिछड़ा वर्ग (सी) श्रेणी के तहत जाटों तथा...
  • मुंबईः केमिकल फैक्ट्री में धमाका, तीन लोगों की मौत, 20 से अधिक लोग घायल
  • गर्मी से परेशान एक शख्स ने सूरज के खिलाफ पुलिस में की शिकायत
  • बीजेपी और पीएम मोदी ने जो वादे किए थे वो पूरे नहीं हुए हैं: मनीष तिवारी (कांग्रेस)
  • मोदी सरकार के 2 सालः 14 विवाद, जिन पर हुआ हंगामा
  • कैसे रहे मोदी सरकार के दो साल? जानें आम जनता और एक्सपर्ट्स की राय

मालदीव के रवैये को उसकी नजर से देखिए

अवधेश कुमार, वरिष्ठ पत्रकार First Published:29-11-2012 10:42:38 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

मालदीव सरकार ने भारतीय कंपनी जीएमआर के साथ माले के इब्राहीम नसीर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के विकास के लिए किया गया 25 वर्ष का समझौता रद्द कर दिया है। यह घटना गहरी चिंता में डालने वाली है। हालांकि अंतरराष्ट्रीय कानून के अनुसार, मालदीव को इसका वित्तीय दंड भुगतना पड़ सकता है। जीएमआर अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में क्षतिपूर्ति का मामला दायर करने की बात कह चुकी है। यह परियोजना 51 करोड़, 40 लाख डॉलर की है, जिसमें 70 प्रतिशत कर्ज शामिल है। जाहिर है, कर्ज पर भारी ब्याज चुकाना पड़ता है, अत: न्यायालय में कंपनी अपने निवेश, विस्तार आदि का एक-एक विवरण देगी और मालदीव सरकार के लिए कठिनाइयां पैदा हो जाएंगी। भारत सरकार ने भी इस रवैये को अनुचित कहा है। लेकिन मालदीव सरकार टस से मस होने को तैयार नहीं। उसने एक सप्ताह के अंदर जीएमआर को देश छोड़ने का आदेश दे दिया है। सवाल यह है कि आखिर हमसे सघन रूप से जुड़े इस पड़ोसी देश को हमारी नाराजगी तक की परवाह क्यों नहीं है? यह हमारी विदेश नीति के लिए परीक्षा की घड़ी है।

मालदीव के भूगोल के सामरिक महत्व को देखते हुए उसका हमसे दूर जाना किसी आघात से कम नहीं होगा। इसलिए सरकार की पूरी कोशिश होनी चाहिए कि मालदीव किसी तरह हमसे दूर न जाए। जीएमआर के साथ मालदीव सरकार का तनाव लंबे समय से चल रहा था, उसके खिलाफ रैलियां हो रही थीं, पर पता नहीं क्यों हमारा विदेश मंत्रलय सक्रिय नहीं हुआ। मालदीव सरकार ने जीएमआर पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है। वहीद नासिर के नेतृत्व वाली नई सरकार के मंत्री हवाई अड्डे के निजीकरण के बाद धांधली की बात कहते रहे हैं। नई सरकार इससे संबंधित संविदा को अवैध करार दे रही है। उसने कई बातें उठाई हैं। मसलन, हवाई अड्डे से बाहर जाने वाले प्रत्येक यात्री पर 25 डॉलर का विकास शुल्क लगाना गलत है और पार्लियामेंट ने इसकी अनुमति भी नहीं दी थी। इसी तरह, हवाई अड्डे पर अन्य शुल्क मुक्त दुकानों सहित अन्य व्यावसायिक गतिविधियों का भी विरोध होता रहा है।

कहा जा रहा है कि पिछली फरवरी में नई सरकार के सत्ता संभालने के बाद से ही मालदीव में भारत विरोधी भावनाएं विस्तार लेती रही हैं। सवाल यह है कि इतना बड़ा विरोध क्या सिर्फ सरकार बदलने के कारण हुआ? हमें निरपेक्ष होकर इस पर विचार करना चाहिए। हमारे देश की कंपनियों को बाहर काम मिलता है, तो उन्हें वहां संविदा के अनुरूप काम करते रहने की स्थिति भी होनी चाहिए, पर यह आवश्यक नहीं कि किसी कंपनी का हित ही वहां भारतीय हित हो। वहां यदि भारत विरोधी भावना वर्तमान सरकार के अंदर बढ़ी है, तो ऐसा क्यों हुआ? इसका भी विचार हमें करना चाहिए। अन्य पड़ोसियों की तरह मालदीव भी हमसे दूर न जाए, यह हमारा ही दायित्व है।
(ये लेखक के अपने विचार हैं)

 

 
 
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
Bihar Board Result 2016
Assembely Election Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
बांगड़ होंगे जिम्बाब्वे सीरीज के लिए भारतीय टीम के कोचबांगड़ होंगे जिम्बाब्वे सीरीज के लिए भारतीय टीम के कोच
भारत और रेलवे के पूर्व आल राउंडर संजय बांगड़ को राष्ट्रीय क्रिकेट टीम के आगामी जिम्बाब्वे दौरे के लिए गुरुवार को कोच नियुक्त किया गया जबकि भरत अरुण और आर श्रीधर को सहयोगी स्टाफ में कोई जगह नहीं दी गई।