Image Loading
शुक्रवार, 06 मई, 2016 | 05:18 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • आईपीएल 9: राइजिंग पुणे सुपरजाइंटस ने दिल्ली डेयरडेविल्स को सात विकेट से हराया
  • सिंहस्थ नगरी उज्जैन में आंधी-बारिश, 7 की मौत, 90 घायल, पढ़े पूरी रिपोर्ट
  • खेतान ने यूरोपीय बिचौलियों से धन लेने की बात स्वीकारी, क्लिक करें
  • आईपीएल 9: दिल्ली डेयरडेविल्स ने राइजिंग पुणे सुपरजाइंटस के सामने 163 रन का लक्ष्य...
  • आईपीएल 9: राइजिंग पुणे सुपरजाइंटस ने दिल्ली डेयरडेविल्स के खिलाफ टॉस जीता, पहले...
  • पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के छठे और अंतिम चरण में 84.24 प्रतिशत मतदान: निर्वाचन...
  • यूपी बोर्ड का हाईस्कूल व इंटरमीडिएट रिजल्ट 15 मई को आएगा।
  • अन्नाद्रमुक ने स्कूटर मोपेड खरीदने के लिए महिलाओं को 50 प्रतिशत सब्सिडी देने,...
  • अन्नाद्रमुक ने तमिलनाडु विधानसभा चुनाव के लिए अपने घोषणापत्र में सब के लिए 100...
  • तमिलनाडुः अन्नाद्रमुक ने सभी राशन कार्ड धारकों को मुफ्त मोबाइल फोन देने का...
  • मध्यप्रदेश: सिंहस्थ कुंभ में तेज बारिश और आंधी से गिरे पांडाल, 4 की मौत
  • अगस्ता वेस्टलैंड मामला: पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी त्यागी के तीनों करीबी...
  • सेंसेक्स 160.48 अंक की बढ़त के साथ 25,262.21 और निफ्टी 28.95 अंक चढ़कर 7,735.50 पर बंद
  • वाईस एडमिरल सुनील लांबा होंगे नौसेना के अगले प्रमुख, 31 मई को संभालेंगे पद
  • यूपी सरकार ने केंद्र सरकार से बुंदेलखंड के लिए पानी के टैंकर मांगें-टीवी...
  • स्टिंग ऑपरेशन: हरीश रावत को सीबीआई ने सोमवार को पूछताछ के लिए बुलाया: टीवी...
  • नोएडा: स्कूल बसों और ऑटो की टक्कर में इंजीनियर लड़की समेत 2 की मौत। क्लिक करें

संविधान को चुनौती

First Published:28-11-2012 10:01:59 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

मुंबई के शिवाजी पार्क में, जहां शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे का दाह संस्कार हुआ था, वहीं पर बाल ठाकरे का स्मारक बनाने की मांग पर शिवसैनिक अड़े हुए हैं। शिवसेना नेताओं का कहना है कि वे सरकार की नहीं सुनेंगे और अगर अदालत का भी आदेश होगा, तो उसे नहीं मानेंगे। अब महाराष्ट्र सरकार को तय करना है कि उसके लिए उसका अपना राजधर्म ज्यादा महत्वपूर्ण है या शिवसैनिकों की जिद। महाराष्ट्र में किसी की सरकार हो, शिवसेना की एक समानांतर सत्ता कम से कम मुंबई में जरूर चलती आई है। यह इस बात से भी जाहिर हुआ कि बाल ठाकरे का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। फेसबुक पर टिप्पणी के मामले में जैसी कार्रवाई हुई, उससे पता चलता है कि पुलिस अधिकारियों के लिए भी सरकारी नियमों से ज्यादा शिवसेना की सत्ता मायने रखती है। महाराष्ट्र में शिवसेना-भाजपा गठबंधन सिर्फ एक कार्यकाल सत्ता में रहा, पर कांग्रेसी और कांग्रेस-राकांपा गठबंधन सरकार ने अपनी प्रतिष्ठा की कीमत पर भी शिवसेना की महत्ता बनाए रखी। शिवसेना एक ऐसा संगठन है और बाल ठाकरे एक ऐसे नेता थे, जो खुलेआम ऐसे बयान दे देते थे, जो देश के कानूनों और संविधान की अवहेलना करता हो। शिवसेना के प्रमुख और बाल ठाकरे के पुत्र उद्धव ठाकरे कह रहे हैं कि शिवसैनिक हिंसा पर उतारू न हों, इसका एकमात्र तरीका यही है कि उनकी मांग मान ली जाए। शिवाजी पार्क में स्मारक बनाने में एक दिक्कत यह है कि हाईकोर्ट ने शिवाजी पार्क को ‘शांति क्षेत्र’ घोषित कर रखा है, जहां किसी किस्म का शोर नहीं हो सकता। अगर बाल ठाकरे का स्मारक बन जाए, तो यह इलाका शांत नहीं रह पाएगा। इसी आधार पर कई नागरिक भी वहां स्मारक का विरोध कर रहे हैं। बृहन्मुंबई नगरपालिका ने दो वैकल्पिक जगहें सुझाई हैं, लेकिन शिवसेना के लिए यह सिर्फ भावनात्मक नहीं, बल्कि शक्ति-परीक्षण का भी मुद्दा बन गया है। बाल ठाकरे के निधन के बाद यह पहला बड़ा मुद्दा है, जिस पर सरकार और शिवसेना आमने-सामने है। अगर सरकार इस मुद्दे पर झुक जाती है, तो पूरे देश में, खासकर सूबे में यह संदेश जाएगा कि शिवसेना का आतंक और उसकी सत्ता बरकरार है। शिवसेना का अस्तित्व ही आतंक और संविधानेतर सत्ता पर निर्भर है, इसलिए शिवसेना इस बात पर झुक जाएगी, यह नामुमकिन-सा लगता है। ऐसे में, महाराष्ट्र सरकार के पास अब दो विकल्प हैं- वह सख्ती से शिवसेना के सामने अड़ जाए या फिर शिवसेना के आगे झुककर शांति का सौदा कर ले।

अगर मामला अदालत में जाता है और अदालत शिवाजी पार्क में स्मारक के लिए मंजूरी नहीं देती है, तब फिर सरकार क्या करेगी? किसी भी सरकार को अपनी और अदालत की अवहेलना करने वाले बयान का सख्ती से जवाब देना ही चाहिए। न शिवसेना इतना ताकतवर संगठन है और न ही बाल ठाकरे इतने लोकतांत्रिक नेता थे, जितना दिखाई देता है। शिवसेना की ताकत ज्यादातर महाराष्ट्र सरकार की बनाई हुई है, क्योंकि वह उसके लिए उपयोगी संगठन है। शिवसेना मुंबई के बाहर मजबूत नहीं है, इसलिए एक कमजोर विपक्ष है और विपक्ष की जगह वही घेरे रहे, इसमें कांग्रेस-राकांपा का स्वार्थ है। मुंबई में शिवसेना अल्पसंख्यकों और गैर-मराठियों को डराए रखती है, जिसका चुनावी फायदा मिल सकता है। लेकिन संविधान का सम्मान न करने वाले संगठन को बढ़ावा देने की बड़ी कीमत महाराष्ट्र ने चुकाई है। महाराष्ट्र देश के समृद्ध राज्यों में से है, पर धीरे-धीरे उसका क्षय हो रहा है। क्या महाराष्ट्र सरकार से यह उम्मीद की जाए कि वह संकीर्ण स्वार्थ से उठकर अपने सांविधानिक कर्तव्यों का पालन करेगी?

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
कोहली-तेंदुलकर के बीच तुलना अनुचित है: युवराजकोहली-तेंदुलकर के बीच तुलना अनुचित है: युवराज
अनुभवी बाएं हाथ के बल्लेबाज युवराज सिंह को लगता है कि भारत के टेस्ट कप्तान विराट कोहली इस पीढ़ी के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज हैं लेकिन उनकी तुलना सचिन तेंदुलकर से करना अनुचित है क्योंकि दिल्ली के इस क्रिकेटर को मास्टर ब्लास्टर की बराबरी करने के लिए काफी मेहनत करनी होगी।