Image Loading
शुक्रवार, 30 सितम्बर, 2016 | 05:18 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • सेना की सर्जिकल स्ट्राइक पर बोले केजरीवाल, 'भारत माता की जय'
  • उरी हमले का बदलाः हेलीकॉप्टर से LOC पारकर भारतीय सेना ने किया हमला, कई आतंकी...
  • भारतीय सेना ने LOC पारकर भीमबेर, केल, लिपा और हॉटस्प्रिंग सेक्टर में घुसकर आतंकी...
  • करीना कपूर ने किया अपने बारे में एक बड़ा खुलासा, इसके अलावा पढ़ें बॉलीवुड जगत की...
  • पुजारा को लेकर अलग-अलग है कोच कुंबले और कोहली की सोच, इसके अलावा पढ़ें क्रिकेट और...
  • कर्क राशि वालों का आज का दिन भाग्यशाली साबित होगा, जानिए आपके सितारे क्या कह रहे...
  • वेटर, बस कंडक्टर से बने सुपरस्टार, क्या आपमें है ऐसा कॉन्फिडेंस? पढ़ें ये सक्सेस...

चुपचाप गाली दे, ..वरना समन जारी होगा

के पी सक्सेना First Published:27-11-2012 07:25:41 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

मैं उधर पहुंचा, तो देखा कि मौलाना धूप में चारपाई पर बैठे पड़ोस के एक बच्चे को पढ़ा रहे थे। मुझे सुनाई दिया, जैसे कह रहे हों कि ‘क’ से केजरीवाल, ‘ख’ से खुर्शीद, ‘ग’ से गडकरी..। मुझे देखकर बच्चों को रफा-दफा किया और चारपाई पर बिठाते हुए बोले, ‘इस सुहानी धूप में तुम्हें ‘जीकेटी’ काली चाय पिलाता हूं। नहीं समझे? जिंजर (अरदक), काली मिर्च, तुलसी वाली। इससे जाड़ों में नाक से गले तक का पैसेज एकदम विधानसभा मार्ग जैसा साफ रहता है।’ अंदर अपनी इस स्पेशल चाय का ऑर्डर फेंककर मौलाना ने पुड़िया का बुरादा मुंह में झोंका और मूंछें पोंछकर बोले, ‘भाई मियां, अखबार भी अजीब शै है। कुछेक न्यूजें पढ़कर छींकें आने लगती हैं। छपा है एक जगह कि दिग्विजय को समन। वह जनाब भाजपा वाले नितिन गडकरी के खिलाफ कुछ अंट-संट बोले, तड़ से समन जारी हो गया कि 21 दिसंबर को कोर्ट में हाजिर हो। हो जाएंगे। कौन-सा फांसी चढ़ा दोगे? जिनके फांसी चढ़ने के आदेश हुए पड़े हैं, उन्हीं को कौन-सा चढ़ा दिया।

एक कसाब ही तो निपटा है, बाकी देश की छाती पर दंड पेल रहे हैं। अभी तो साहब वह रस्सी ही नहीं बांटी गई है, जिससे उन्हें फांसी दी जाए। जहां तक दिग्गी राजा का सवाल है, समन जारी न किया जाए। हर पार्टी में एक न एक ऐसा होना चाहिए, जो औल-फौल और ऐन-गैन बककर पार्टी को लग्घे पर उठाए रहे। अपने दिग्विजय महाराज तो फिर इस काम में माहिर हैं। जो मुंह में आया, प्रेस में झोंक दिया।’ महकती हुई गरमागरम चाय आ गई। मौलाना एक सुड़पी लेकर शुरू हो गए, ‘अदालत और समनों पर चल रहा है यह देश। दनादन समन जारी। कोर्ट में हाजरी दो। न भी दो, तो कोई हर्ज नहीं। टांय-टांय फिस्स.. जुमार्ना एक अठन्नी का नहीं। आपस में गाली गलौज करते रहो। भाई मियां, राजनीति का ऐसा घिनौनापन न मैंने पहले देखा, न अब्बा ने। पब्लिक का डर न हो, तो सरेराह एक-दूसरे की धोती खींच लें। फिर भी फा है कि सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा। अल्ला करे कि और अच्छा होता रहे। कीचड़ कालिख..जिन्दाबाद।’

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
|
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड