Image Loading
मंगलवार, 06 दिसम्बर, 2016 | 11:35 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • जयललिता के सम्मान में और उनकी याद में राज्यसभा की कार्यवाही एक दिन के लिए स्थगित
  • क्लिक कर पढ़ें प्रसिद्ध इतिहासकार रामचंद्र गुहा का ब्लॉग, 'तब कैसे याद किए गए थे...
  • मौसम अलर्टः दिल्ली-एनसीआर, पटना, लखनऊ और देहरादून में कोहरे के बीच रहेगी हल्की...
  • जयललिता के अंतिम दर्शन करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जाएंगे चेन्नई
  • भविष्यफल: मेष राशिवालों को आज नौकरी के लिए साक्षात्कार आदि कार्यों के सुखद...
  • हेल्थ टिप्स: सर्दियों में ज्यादा बढ़ता है वजन, कम करने के ट्राई करें ये टिप्स
  • GOOD MORNING: AIADMK प्रमुख जयललिता का निधन, तमिलनाडु में 7 दिन का राजकीय शोक। अन्य बड़ी खबरों...
  • जयललिता का पार्थिव शरीर राजाजी हॉल पहुंचा। आज शाम चार बजे होगा अंतिम संस्कार।
  • तमिलानाडु: पन्नीरसेल्वम ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली
  • पीएम मोदी ने जयललिता के निधन पर दुख जताया, कहा- देश की राजनीति में बड़ी क्षति
  • तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता का निधन

तैरने वाला भूरा खरगोश

प्रज्ञा पाण्डेय First Published:27-11-2012 12:40:54 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
तैरने वाला भूरा खरगोश

आमतौर पर शांत रहने वाला भूरा खरगोश बहुत शर्मीला होता है। प्यारा-सा दिखाई देने वाला यह खरगोश बहुत तेज भागता है और जरूरत पड़ने पर पानी में तैरता भी है।

भूरे खरगोश को यूरोपीय खरगोश और पूर्वी जैक रैबिट भी कहा जाता है। वैसे तो यह आम खरगोशों की तरह ही होता है, लेकिन कुछ मामलों में यह दूसरी प्रजातियों से थोड़ा अनोखा होता है। इसके सिर और शरीर की लम्बाई 48 से 75 से.मी. और पूंछ की लम्बाई 7 से 13 से.मी. तक हो सकती है। शरीर का वजन 2.5 से 7 किलोग्राम हो सकता है। इस प्रजाति के खरगोश के कान बड़े-बड़े होते हैं, जो कम से कम 102 मि.मी. तक लम्बे होते हैं। इन खरगोशों के कान भूरे रंग के होते हैं और इनके कान के अंदर का भाग सफेद रंग का होता है। इनके पीछे के पैर लम्बे होते हैं।

इस खरगोश का पूरा शरीर पीले-भूरे, धुंधले भूरे रंग के फर से ढका रहता है। सफेद-भूरे रंग का फर इसके शरीर के निचले हिस्से में मौजूद रहता है। इसका चेहरा भूरा होता है और आंखों के चारों ओर काले घेरे होते हैं। इन खरगोशों के शरीर पर पाए जाने वाले फर सर्दियों में सफेद नहीं होते हैं, बल्कि और धुंधले भूरे होते जाते हैं। खोपड़ी की नासिका हड्डी चौड़ी, भारी और छोटी होती है।

ये यूरोपीय खरगोश शाकाहारी खाना पसंद करते हैं। गर्मियों के मौसम में ये घास, जड़ी-बूटियां और फसलों को खाते हैं, जबकि सर्दियों में इन्हें टहनियां, कलियां, पेड़ों की छाल और फल पसंद आते हैं। वैसे तो यह खरगोश अकेले ही रहता है, लेकिन जब यह खाना ढूंढ़ने निकलता है तो अपने दोस्तों को साथ लेकर जाता है। अपने दोस्तों के साथ भोजन करना इसे बहुत पसंद है। खाने को एक निश्चित जगह पर रख दिया जाता है और सब वहां से लेकर खाते हैं, लेकिन अगर खाना थोड़ा दूर रखा होता है तो सबसे ताकतवर खरगोश खाने को पहले खा लेता है। ये खरगोश यूरोप महाद्वीप, मध्य एशिया और मध्य-पूर्व में पाए जाते हैं। इनके अलावा ये उत्तरी, मध्य और पश्चिमी यूरोप में तथा पश्चिमी एशिया में भी पाए जाते हैं। ये घास-फूस में रहना पसंद करते हैं।

इनकी खासियत है कि ये तेज गति से दौड़ते हैं। कभी-कभी इनके दौड़ने की गति 56 कि.मी. प्रति घंटा भी होती है। लेकिन इस तरह तेज गति से ये केवल सीधी लाइन में ही दौड़ सकते हैं। लाल लोमड़ी, भेड़िया, जंगली बिल्ली और पक्षी भी इनका शिकार करते हैं। जब ये शिकारी इनका पीछा कर रहे होते हैं तो ये सीधी लाइन में न दौड़ कर कभी-कभी अपना रास्ता भी बदल लेते हैं। इस दौरान ये पानी में डुबकी भी लगाते हैं और तैर भी सकते हैं।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Rupees
क्रिकेट स्कोरबोर्ड