Image Loading पोलियो फ्री राज्य हो सकता है हरियाणा - LiveHindustan.com
गुरुवार, 11 फरवरी, 2016 | 01:36 | IST
 |  Image Loading
खास खबरें

पोलियो फ्री राज्य हो सकता है हरियाणा

कार्यालय संवाददाता गुड़गांव। First Published:15-04-2012 10:12:53 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

हरियाणा प्रदेश को पोलियो मुक्त राज्य का प्रमाण-पत्र मिलना लगभग तय है। प्रदेश में पिछले 27 महिनों से पोलियो का कोई भी मामला सामने नहीं आया है। यह बात हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री राव नरेन्द्र सिंह ने गुड़गांव गांव के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में पल्स पोलियो अभियान की शुरूआत करने के बाद कही। इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री व खेलमंत्री सुखबीर कटारिया ने बच्चों को पोलियो रोधी दवा पिलाकर अभियान की शुरूआत की।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि हरियाणा राज्य में आखिरी पोलियो का मामला 13 जनवरी 2010 में मेवात जिला के पुन्हाना में पाया गया था, उसके बाद से अब तक लगभग 27 महिनों बाद भी राज्य में पोलियो का कोई भी केस नहीं मिला है। यही स्थिति तीन वर्ष तक लगातार सुनिश्चि करने उपरान्त प्रदेश को पोलियो मुक्त राज्य का प्रमाण-पत्र मिल जाएगा। उन्होंने कहा कि उन्हें भरोसा है कि सरकार द्वारा पोलियो को जड़ से मिटाने के लिए किए जा रहे प्रयासों और लोगों के सहयोग से हरियाणा को पोलियो मुक्त राज्य का प्रमाण-पत्र मिलना तय है। स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि गुड़गांव गांव के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र की मरम्मत के लिए सात लाख रूपए की राशि जारी की जा चुकी है और अगर केन्द्र के सौंन्दर्यकरण के लिए ज्यादा राशि की जरूरत होगी तो उसके लिए भी स्वीकृति दे दी जाएगी।

तीन लाख बच्चे पिएंगे पोलियो ड्रॉप- जिला गुड़गांव में इस बार लगभग तीन लाख 18 हजार बच्चों को पोलियो रोधी दवा पिलाने का लक्ष्य रखा गया है, जिसके लिए 1387 बूथ बनाए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग सहित शिक्षा, इंडियन मैडीकल एसोसिएशन और विभिन्न स्वयं सहायता समूहों आदि के लगभग 5600 कर्मचारी व अधिकारी पल्स पोलियो अभियान में अपनी सेवाएं देंगे। अभियान के दौरान किसी भी परेशानी से निपटने के लिए 250 सुपरवाइजरों को नियुक्त किया गया है। गुड़गांव जिला में 16, 17 व 18 अप्रैल को विभागीय टीमें घर-घर जाकर दवा पीने से छूट गए पांच वर्ष तक के बच्चों को पोलियो रोधी दवा पिलाएंगी।  इस अवसर पर हरियाणा स्वास्थ्य सेवाएं निदेशक डा. पंकज वत्स, गुड़गांव के सिविल सर्जन डा. प्रवीण गर्ग, उप सिविल सर्जन डा. एम पी शर्मा व डा. शशि, डब्ल्यूएचओ के डा. धीरेन्द्र त्यागी, डा. एम पी सिंह, डा. पुष्पा, डा. आर पी दहिया तथा देवेन्द्र सिवाच व कुलदीप वशिष्ठ सहित गुड़गांव गांव व आसपास के गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे।

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
कैसा रहा साल 2015
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड