Image Loading
गुरुवार, 30 मार्च, 2017 | 14:26 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • टीवी गॉसिप: कपिल के शो में दिखेंगी दिग्‍गज कॉमेडियन जॉनी लीवर की बेटी जैमी।...
  • सीएम योगी आदित्यनाथ ने विधानसभा के पहले भाषण में कहा, सदन को चर्चा का मंच बनाना...
  • आंध्र प्रदेश: पश्चिम गोदावरी जिले के मोगल्थुर इलाके में एक फूड प्रोसेसिंग...
  • स्वाद-खजाना: नवरात्रि स्पेशल रेसिपी- ऐसे बनाएं साबूदाना मूंगफली बौंडा, क्लिक कर...
  • टॉप 10 न्यूज: रविंद्र गायकवाड़ के समर्थन में शिवसेना, कहा-गुंडों की तरह बर्ताव कर...
  • ग्रेटर नोएडा में केन्या की लड़की पर हमलाः पुलिस ने कहा- किसी भी स्थानीय व्यक्ति...
  • स्पोर्ट्स-स्टार: विराट पर 'बेतुका' बयान देने वाले ब्रैड हॉज ने मांगी माफी, यहां...
  • हिन्दुस्तान Jobs: नेशनल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड में चाहिए 205 एडमिनिस्ट्रेटिव...
  • बॉलीवुड मसाला: कपिल और सोनी चैनल ने ढूंढ लिया सुनील का ऑप्शन, शो में होगी नई...
  • टॉप 10 न्यूज: सुप्रीम कोर्ट में आज तीन तलाक, निकाह-हलाला और बहुविवाह पर सुनवाई,...
  • हेल्थ टिप्स: लू के साथ-साथ मुहांसों से भी बचाता है कच्‍चा आम, पढें 5 फायदे
  • हिन्दुस्तान ओपिनियन: पाकिस्तान मामलों के विशेषज्ञ सुशांत सरीन का विशेष लेख-...
  • मौसम दिनभर: दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, रांची, पटना और देहरादून में होगी कड़ी धूप।
  • ईपेपर हिन्दुस्तान: आज का समाचार पत्र पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।
  • आपका राशिफल: मिथुन राशि वालों को किसी सम्‍पत्‍ति से आय के स्रोत विकसित हो सकते...
  • टॉप 10 न्यूज : महोबा रेल हादसा-महाकौशल एक्सप्रेस के 6 डिब्बे पटरी से उतरे, 9 घायल,...
  • सक्सेस मंत्र : कोई भी काम करने से पहले एक बार सोच लें, क्लिक कर पढ़ें

मोबाइल फोन और कम्प्यूटर इंसान की सेहत के दुश्मन

लंदन, एजेंसी First Published:15-05-2011 07:55:42 PMLast Updated:15-05-2011 08:00:42 PM
मोबाइल फोन और कम्प्यूटर इंसान की सेहत के दुश्मन

वायरलेस इंटरनेट कनेक्शन वाले मोबाइल फोन तथा कम्प्यूटर लोगों के स्वास्थ्य के लिए एक बड़ा खतरा हैं और स्कूलों में तत्काल इन पर प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए। एक सशक्त यूरोपीय ईकाई ने यह सिफारिश की है।

कौंसिल आफ यूरोप समिति ने इन सबूतों का अध्ययन किया है कि तकनीक का मानव पर बेहद बुरा विनाशकारी प्रभाव पड़ रहा है। समिति इस नतीजे पर पहुंची है कि बच्चों को इस बुरे प्रभाव से बचाने के लिए तत्काल कदम उठाने की जरूरत है। दी डेली टेलीग्राफ में यह खबर प्रकाशित हुई है।

अपनी रिपोर्ट में समिति ने कहा है कि जन स्वास्थ्य अधिकारी शुरूआत में एसबेस्टास, धूम्रपान और पेट्रोल में सीसे की मौजूदगी के खतरों का आकलन करने में कमजोर रहे थे लेकिन अब उसी गलती को दोहराने से बचना बेहद जरूरी है।

रिपोर्ट में वायरलेस फोन और बेबी मानिटर से पैदा होने वाले दुष्प्रभाव को रेखांकित किया गया है जिनमें समान तकनीक काम करती है और जिनका ब्रिटिश घरों में काफी प्रयोग किया जाता है।

रिपोर्ट में ऐसी आशंका जतायी गई है कि वायरलेस उपकरणों से निकलने वाला इलैक्ट्रोमैग्नेटिक विकिरण कैंसर पैदा कर सकता है और साथ ही मस्तिष्क के विकास को नुकसान पहुंचा सकता है।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड