Image Loading
शुक्रवार, 09 दिसम्बर, 2016 | 17:04 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • INDvsENG: दूसरे दिन का खेल खत्म, पहली पारी में भारत का स्कोर 146/1
  • INDvsENG: भारत 100 के पार, मुरली का अर्धशतक
  • दिल्लीः एक्सिस बैंक के चांदनी चौक ब्रांच में 8 नवंबर से अब तक अलग-अलग खातों में 450...
  • पटना से दिल्ली जाने वाली राजधानी एक्सप्रेस हुई रद। संपूर्ण क्रांति नियमित रूप...
  • नोटबंदी नीति की गोपनीयता पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से मांगा जवाब
  • नोटबंदी भारत का सबसे बड़ा घोटाला है, सरकार चर्चा से घबरा रही हैः राहुल गांधी
  • ये TIPS आजमाएंगे तो तुरंत दूर होगी एसिडिटी, जानें ये 5 जरूरी बातें

चुस्त और शरारती बच्चे बड़े होकर रहते हैं खुश

वाशिंगटन, एजेंसी First Published:04-05-2011 03:45:17 PMLast Updated:04-05-2011 03:47:37 PM
चुस्त और शरारती बच्चे बड़े होकर रहते हैं खुश

माता पिता को एक बात पर गौर करने की जरूरत है कि ऐसे बच्चे जो बचपन में चुस्त और शरारती रहते हैं, वे बड़े होकर अधिक खुशहाल जिंदगी जीते हैं। एक शोध में पाया गया है कि बड़े होने पर ऐसे बच्चों के अवसाद या बेचैनी का शिकार होने की आशंका कम ही रहती है।

डेइकिन यूनिवर्सिटी की अगुवाई में एक अंतरराष्ट्रीय दल ने पाया कि बचपन में शारीरिक रूप से सक्रिय रहने से बाद की जिंदगी में निराशा से बचने में मदद मिलती है। 2152 आस्ट्रेलियाई बच्चों का अध्ययन कर यह जानकारी दी गयी है।

शोधकर्ताओं ने पाया कि अधिक चुस्त और शरारतों भरा जीवन जीने वाले बच्चों की तुलना में शारीरिक रूप से कम सक्रिय रहने वाले बच्चों के बड़े होकर अवसाद की चपेट में आने की आशंका 35 फीसदी रही।

प्रमुख शोधकर्ता फेलिस जेका ने बताया कि बचपन वह अवस्था होती है जब दिमाग का विकास बेहद तेजी से होता है और बचपन में अधिक शारीरिक गतिविधियों का मस्तिष्क के विकास पर लाभकारी असर पड़ता है।

जेका ने कहा कि खेलकूद में व्यस्त रहने से बच्चों में तनाव प्रबंधन कौशल के विकसित होने में मदद मिलती है और ऐसे बच्चों किशोरावस्था में भावनात्मक रूप से अधिक संतुलित रहते हैं।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Rupees
क्रिकेट स्कोरबोर्ड