Image Loading
शुक्रवार, 09 दिसम्बर, 2016 | 13:12 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • INDvsENG: इंग्लैंड की पारी 400 रनों पर सिमटी, अश्विन ने छह और जडेजा ने लिए चार विकेट
  • अभी कितनी ट्रेनें देरी से चल रही हैं और कितनी हैं रद्द। ताजा हाल जानने के लिए...
  • INDvsENG: इंग्लैंड को लगा 9वां झटका, बॉल को अश्विन ने किया OUT
  • नोटबंदी भारत का सबसे बड़ा घोटाला है, सरकार चर्चा से घबरा रही हैः राहुल गांधी
  • नोटबंदी को लेकर विपक्ष के हंगामे के बाद लोकसभा की कार्यवाही 11.30 बजे तक के लिए...
  • INDvsENG: इंग्लैंड को लगा 8वां झटका, राशिद को जडेजा ने किया OUT
  • INDvsENG: इंग्लैंड को लगा सातवां झटका, वोक्स को जडेजा ने किया OUT
  • सेना को विवाद में घसीटने से दुखी रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने प.बंगाल की...
  • INDvsENG: इंग्लैंड को लगा छठा झटका, स्टोक्स को अश्विन ने किया OUT
  • मौसम अलर्टः उत्तर भारत में कड़ाके की ठंड। दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना, रांची और...
  • मिथुन राशिवालों की तरक्की के मार्ग खुलेंगे, आय बढ़ेगी। क्या कहते हैं आपके...
  • ये TIPS आजमाएंगे तो तुरंत दूर होगी एसिडिटी, जानें ये 5 जरूरी बातें
  • घने कोहरे के कारण 67 ट्रेनें लेट, 30 ट्रेनों के समय में बदलाव और दो ट्रेनें रद्द की...
  • GOOD MORNING: अब कर्मचारियों को वेतन से PF कटवाना जरूरी नहीं होगा, देश-दुनिया की बड़ी...

शिक्षा में ताजगी का एहसास साइबर क्लासरूम

बालेन्दु शर्मा दाधीच First Published:29-07-2010 09:19:07 PMLast Updated:29-07-2010 09:21:37 PM

इंटरनेट पर ज्ञानवर्धन की सामग्री सिर्फ विकीपीडिया तक ही सीमित नहीं है। छात्र चाहें तो अपनी दिलचस्पी के विषयों से जुड़ी उत्कृष्ट शैक्षणिक सामग्री, ई-बुक्स, शोध पत्र आदि को इंटरनेट से डाउनलोड कर सकते हैं। शीर्ष अंतरराष्ट्रीय विश्वविद्यालयों, पुस्तकालयों और शोध संस्थानों ने ऐसी ढेर सारी सामग्री सार्वजनिक वितरण के लिए मुहैया कराई हुई है। वे चाहें तो विषयों को सही ढंग से समझने के लिए दूसरों के नोट्स का लाभ उठा सकते हैं और अपने अनुत्तरित प्रश्नों के हल के लिए अन्य छात्रों तथा विशेषज्ञों से संपर्क कर सकते हैं। इतना ही नहीं, वे प्रैक्टिकल के लिए इंटरनेट पर मौजूद वर्चुअल प्रयोगशालाओं का लाभ उठा सकते हैं और परीक्षाओं की तैयारी के लिए कुछ वेबसाइटों पर दी गई मॉक-टेस्ट की सुविधा का लाभ उठा सकते हैं। और तो और, वे वेब आधारित पाठ्यक्रमों में दाखिला लेकर घर बैठे ही ‘ई-एजुकेशन’ के माध्यम से पढ़ाई भी कर सकते हैं। और ये तो इंटरनेट पर उपलब्ध शैक्षणिक सुविधाओं की छोटी सी बानगी भर है।

उपयोगी है सर्च इंजनों की भूमिका
अधिकांश छात्र अपने उपयोग की जानकारी प्राप्त करने के लिए गूगल, बिंग, याहू, आस्क या अन्य सर्च इंजनों का प्रयोग करते हैं। लेकिन ये सभी सर्च इंजन आम इंटरनेट उपयोक्ता की जरूरतों को ध्यान में रखकर बनाए गए हैं। ये छात्रों की जरूरतों पर केंद्रित नहीं हैं। इसलिए उनके परिणामों में से सही वेबसाइटों का पता लगाने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ती है। एजुकेशन प्लेनेट (http://www.educationplanet.com) और नेट ट्रेकर (http://www.nettrekker.com) खास तौर पर छात्रों के लिए विकसित किए गए सर्च इंजन हैं। ये सिर्फ वेब पेजों की जानकारी नहीं देते बल्कि संबंधित विषय पर उपलब्ध शोध-पत्रों, लेखों, पाठों, वर्क-शीट आदि का ब्यौरा भी देते हैं। वे संबंधित सामग्री को छात्रों की कक्षा के अनुसार दिखाते हैं जिससे उन्हें अधिक सटीक और उपयोगी नतीजे मिलें। एडु हाउंड (http://www.eduhound.com) पर छात्रों के उपयोग की अथाह सामग्री का ब्यौरा उपलब्ध है।

वोल्फ्राम एल्फा (http://www.wolframalpha.com) नामक नए सर्च इंजन का उल्लेख बहुत जरूरी है। यह अन्य सर्च इंजनों की तरह किसी विषय पर ढेर सारे वेब पेजों के लिंक नहीं दिखाता बल्कि संबंधित विषय पर खुद ही बहुत उपयोगी जानकारियां देता है। किसी भी विषय पर आंकड़े चाहिए, किन्हीं दो चीजों के बीच तुलनात्मक अध्ययन चाहिए, किसी भी दिन हुई घटनाओं का ब्यौरा चाहिए या फिर किसी व्यक्ति के भूत-भविष्य और वर्तमान की जानकारी चाहिए तो यह सर्च इंजन बहुत उपयोगी है। आप चाहें तो यहां कई तरह की गणनाएं भी कर सकते हैं। आजमाकर देखें। फाइंड ट्यूटोरियल्स (http://www.findtutorials.com) के माध्यम से छात्र विभिन्न विषयों पर ट्यूटोरियल्स ढूंढ़ने में कर सकते हैं तो बुक फाइंडर (http://www.bookfinder.com) के जरिए किसी भी विषय पर किताबें ढूंढ़कर डाउनलोड कर सकते हैं।

ये किताबें मुफ्त तो नहीं हैं लेकिन हैं बेहद सस्ती। यदि किसी छात्र को एनसीईआरटी की पुस्तकें पढ़ने में दिलचस्पी है तो वह एनसीईआरटी की वेबसाइट (http://www. ncert.nic.in/textbooks/testing/Index.htm) से इन पुस्तकों को ई-बुक के स्वरूप में मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं। सिर्फ किताबें ही क्यों, यहां पाठ्यक्रम से इतर पुस्तकें और शैक्षिक सीडी भी मुफ्त उपलब्ध हैं।

अपने विषय में दक्षता हासिल करने के लिए उच्च स्तरीय नोट्स या गाइड्स की जरूरत हो तो क्लिफ नोट्स (http://www.cliffsnotes.com) का कोई जवाब नहीं है। साहित्य, विज्ञान, अर्थशास्त्र, इतिहास, अकाउंटिंग आदि विषयों पर बेहद उपयोगी पाठ्य सामग्री यहां मुफ्त उपलब्ध है। छात्र यहां हाईस्कूल से लेकर कॉलेज में प्रवेश के लिए लिए होने वाली परीक्षाओं का अभ्यास भी कर सकते हैं और यदि पढ़ाई के बीच में ही किसी विषय में अपनी वीणता को जांचना चाहें तो प्रोफीशिएंसी टेस्ट दे सकते हैं, बिल्कुल मुफ्त।

एक और उपयोगी वेबसाइट है- माई नोट इट (http://www.mynoteit.com) जहां छात्र अपने नोट्स बना सकते हैं और उन्हें दूसरों के साथ साझ कर सकते हैं। दूसरों के नोट्स को ढूंढ़ना भी उतना ही आसान है। यदि आपको अपना टाइमटेबल या सालाना शिड्यूल तैयार करना है तो यहां उपलब्ध टू डू लिस्ट नामक सुविधा का योग कर सकते हैं। यह आपको याद दिलाती रहेगी कि किस दिन कौनसी वेश परीक्षा या विशेष कक्षा है। इतना ही नहीं, इसके माध्यम से आप अपने ही जैसे अन्य छात्रों के साथ संदेशों का आदान-प्रदान भी कर सकते हैं।

आगे की पढ़ाई की योजना बनाने, शिक्षा से जुड़ी नई जानकारियों के संपर्क में रहने, अच्छे शिक्षण संस्थानों के बारे में जानने, मुख्य परीक्षाओं की तारीखें आदि जानने के लिए इंडिया एडु (http://www.indiaedu.com) का प्रयोग किया जा सकता है। इंडिया एजुकेशन (http://www.india education.net) भी इसी से मिलती-जुलती वेबसाइट है जहां विभिन्न विश्वविद्यालय और बोडरें द्वारा जारी की जाने वाली सूचनाएं भी दी जाती हैं। यहां छात्र अपने करियर से संबंधित सलाह भी ले सकते हैं। हो सकता है कुछ छात्रों की दिलचस्पी विषय विशेष से जुड़े प्रैक्टिकल में हो। पी टेबल (http://www.ptable.com) पर रसायन शास्त्र की पीरियोडिक टेबल दी गई है तो जीव विज्ञान के छात्रों के लिए फोल्ड इट (http://fold.it) उपयोगी है। छात्र फ्रोगी नामक वेबसाइट पर तो बाकायदा कंप्यूटर का योग कर मेंढक भी काट सकते हैं। यूआरएल है- http://froggy.lbl.gov जीव विज्ञान के ऐसे छात्र, जो जीवों के प्रति हिंसा नहीं देख सकते, उनके लिए ये वेबसाइटें वरदान जैसी हैं।

गणित से जुड़े प्रश्नों के हल के लिए मैथ वे (http://www.mathway.com) का प्रयोग आपको चौंका देगा जो कठिन से कठिन गणितीय प्रश्न हल करने में मदद करती है। भारतीय इतिहास पर अध्ययन के लिए इंडहिस्टरी
(http://www.indhistory.com)।
यह एक छोटी सी बानगी है। वेब लगभग सीमाहीन और इंटरएक्टिव माध्यम है जिसे विश्व के समस्त नागरिकों के लाभ के लिए विकसित किया गया है। अपने ज्ञान को एक-दूसरे के साथ साझ करने वाले लोगों ने उसे इतना समृद्घ बनाया है। वहां मौजूद ज्ञान भंडार से चौंकने की जरूरत नहीं है।

विज्ञान के लिए खास साइट
भौतिक विज्ञान के छात्रों को ग्लेनब्रुक साउथ फिजिक्स की वेबसाइट (www.glenbrook.k12.il.us/gbssci/Phys/phys.html) पर बहुत सी उपयोगी सामग्री मिलेगी। यह वेबसाइट छात्रों ने ही बनाई है और यहां पर भौतिकी के नियमों को दिलचस्प ढंग से समझने के लिए कई अनुयोग मौजूद हैं। भौतिकी के योगों पर यहां जिस किस्म की दिलचस्प फिल्में और एनीमेशन मौजूद हैं उन्हें देखकर लगता नहीं कि यह कोई जटिल विषय है। मैसाचुसेट्स विश्वविद्यालय के भौतिक विज्ञान विभाग ने भी अपने ओपन कोर्सवेयर के तहत ढेर सारी उपयोगी सामग्री विश्व भर के छात्रों के लिए उपलब्ध कराई हैं। आजमाकर देखें- ocw.mit. edu/OcwWeb/Physics । एमआईटी के उच्च स्तरीय पाठ्यक्रम पूरी दुनिया में सिद्घ हैं। इंटरनेट के आने से पहले उन्हें इस्तेमाल करने की बात भला किसने सोची होगी?

रसायन विज्ञान को समझने के लिए दिलचस्प प्रारंभिक सामग्री प्रिपरेटरीकैमिस्ट्री (preparatorychemistry.com) पर उपलब्ध है, एनीमेशन, मल्टीमीडिया और ढेर सारे ट्यूटोरियल्स के साथ। भूगोल के छात्रों को जियोहाइव (www.geohive.com) बहुत पसंद आएगी जहां दुनिया भर के जनसंख्या से जुड़े आंकड़े मौजूद हैं। जिस देश के बारे में जानकारी हासिल करनी है उसका नाम चुनिए और बटन दबाइए। भूगोल, राजनीति शास्त्र और नागरिक शासन के अध्ययनकर्ताओं ने यदि अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए की फैक्टबुक (https://www.cia.gov/library/publications/the-world-factbook) का प्रयोग नहीं किया तो समङिाए उनसे काफी कुछ छूट गया। दुनिया के हर छोटे-बड़े देश, वहां के भूत-भविष्य-वर्तमान, शासन और राजनैतिक तंत्र के बारे में यहां इतना कुछ मौजूद है कि आप बरबस कह उठेंगे- वाह!
भाषा सीखने के शौकीन लाइवमोका (www. livemocha.com) को आजमा सकते हैं तो नागरिक शासन के छात्र कानूनों पर बेहतर समझ विकसित करने के लिए एलएलएक्स (www.llrx.com) का प्रयोग करना न भूलें। यहां भारतीय कानूनों पर भी एक अलग खंड मौजूद है। समाजशास्त्र पर सोशियोसाइट (www.sociosite.net ) ढेर सारी काम की सामग्री मुहैया कराती है तो सोशियोलोजी सेन्ट्रल (www.sociology.org.uk) का दावा है कि वहां आने के बाद इस विषय के बोझिल होने के बारे में धारणाएं काफूर हो जाएंगी।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Rupees
क्रिकेट स्कोरबोर्ड