Image Loading
मंगलवार, 28 मार्च, 2017 | 09:52 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • #INDvsAUS धर्मशाला टेस्ट के चौथे दिन का खेल शुरू, सीरीज और मैच जीतने से 87 रन दूर टीम...
  • टॉप 10 न्यूज: बॉर्डर पर आंतक- शोपियां में पुलिस के घर हमला, बडगाम में मुठभेड़ जारी,...
  • हेल्थ टिप्स: कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल करता है काला जीरा, वजन घटाने में भी करता है...
  • हिन्दुस्तान ओपिनियन: पूर्व आईपीएस अधिकारी विभूति नारायण राय का लेख- पाकिस्तानी...
  • मौसम दिनभर: दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना, रांची और देहरादून में होगी कड़ी धूप।
  • ईपेपर हिन्दुस्तान: आज का समाचार पत्र पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।
  • आपका राशिफल: मिथुन राशि वालों के आत्मविश्वास में वृद्धि होगी, अन्य राशियों का...
  • सक्सेस मंत्र: मुश्किलें देखकर कभी न हारें हिम्मत, क्लिक कर पढ़ें
  • टॉप 10 न्यूज: चैत्र नवरात्रि आज से, हिन्दू नव वर्ष का भी शुभागमन, अन्य बड़ी खबरों के...
  • पढ़ें रात 11 बजे की टॉप खबरें, शुभरात्रि
  • आपकी अंकराशि: क्लिक करें और पढ़ें कैसा रहेगा आपका कल का दिन
  • प्राइम टाइम न्यूज़: पढ़े अब तक की 10 बड़ी खबरें
  • नवरात्रि विशेष: नवरात्रि 28 मार्च से, पढ़ें इससे जुड़ी 10 खबरें
  • बच्चों को लेकर छलका करण का दर्द, पेरेंट्स को दी ये सलाह, यहां पढ़ें बॉलीवुड की 10...
  • हिन्दुस्तान Jobs: AIIMS पटना में असिस्टेंट प्रोफेसर के पदों पर होंगी नियुक्तियां,...
  • PM मोदी के गवर्नेंस मॉडल पर चल रहे हैं CM योगी, पढ़ें राज्यों से अब तक की 10 बड़ी ख़बरें
  • टॉप 10 न्यूज़: Video में देखें, शाम 6 बजे तक की देश की बड़ी खबरें
  • INDvsAUS: तीसरे दिन का खेल खत्म, भारत को जीत के लिए 87 रन की जरूरत

पहले एसएमएस के प्रेषक 20 साल बाद भी अचंभित हैं

लंदन, एजेंसी First Published:03-12-2012 11:30:55 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
पहले एसएमएस के प्रेषक 20 साल बाद भी अचंभित हैं

बीस साल पहले विश्व का पहला टेक्स्ट मेसेज (एसएमएस) भेजने वाले ब्रिटिश सॉफ्टवेयर इंजीनियर ने कहा कि वह इस बात से चकित हैं कि किस तरह यह प्रौद्योगिकी यहां तक विकसित हो गई। इंजीनियर नील पापवर्थ को संयोगवश मैरी क्रिसमस संदेश ब्रिटिश दूरसंचार कंपनी वोडाफोन के निदेशक को भेजने के लिए चुना गया था। नील ने संबंधित साफ्टवेयर विकसित करने पर काम किया था।

नील ने कहा कि दरअसल वोडाफोन पेजिंग में सुधार के लिए एक प्रौद्योगिकी विकसित करना चाहती थी और तब किसी को यह अहसास नहीं था कि यह दूरसंचार संस्कति को कैसे हमेश हमेशा के लिए बदल देगा। ब्रिटेन में पिछले ही साल 150 अरब टेक्स्ट संदेश भेजे गए।

उन्होंने बीबीसी से कहा कि उन दिनों उन्होंने सोचा कि यह एक्जक्यूटीव पेजर की तरह इस्तेमाल होगा। तीन दिसंबर, 1992 को वह 22 साल के थे और दक्षिण पूर्व इंग्लैंड के न्यूबरी में वोडाफोन के दफ्तर में एसएमएस पर काम कर रहे थे। उन दिनों मोबाइल फोन कीबोर्ड नहीं था अतएव उन्होंने कंप्यूटर कीबोर्ड पर संदेश टाइप किया।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड