Image Loading GMR के खिलाफ कार्रवाई पर सिंगापुर हाईकोर्ट का स्टे - LiveHindustan.com
गुरुवार, 05 मई, 2016 | 21:40 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • आईपीएल 9: राइजिंग पुणे सुपरजाइंटस ने दिल्ली डेयरडेविल्स के खिलाफ टॉस जीता, पहले...
  • पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के छठे और अंतिम चरण में 84.24 प्रतिशत मतदान: निर्वाचन...
  • यूपी बोर्ड का हाईस्कूल व इंटरमीडिएट रिजल्ट 15 मई को आएगा।
  • अन्नाद्रमुक ने स्कूटर मोपेड खरीदने के लिए महिलाओं को 50 प्रतिशत सब्सिडी देने,...
  • अन्नाद्रमुक ने तमिलनाडु विधानसभा चुनाव के लिए अपने घोषणापत्र में सब के लिए 100...
  • तमिलनाडुः अन्नाद्रमुक ने सभी राशन कार्ड धारकों को मुफ्त मोबाइल फोन देने का...
  • मध्यप्रदेश: सिंहस्थ कुंभ में तेज बारिश और आंधी से गिरे पांडाल, 4 की मौत
  • अगस्ता वेस्टलैंड मामला: पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी त्यागी के तीनों करीबी...
  • सेंसेक्स 160.48 अंक की बढ़त के साथ 25,262.21 और निफ्टी 28.95 अंक चढ़कर 7,735.50 पर बंद
  • वाईस एडमिरल सुनील लांबा होंगे नौसेना के अगले प्रमुख, 31 मई को संभालेंगे पद
  • यूपी सरकार ने केंद्र सरकार से बुंदेलखंड के लिए पानी के टैंकर मांगें-टीवी...
  • स्टिंग ऑपरेशन: हरीश रावत को सीबीआई ने सोमवार को पूछताछ के लिए बुलाया: टीवी...
  • नोएडा: स्कूल बसों और ऑटो की टक्कर में इंजीनियर लड़की समेत 2 की मौत। क्लिक करें

माले हवाई अड्डा: GMR के खिलाफ कार्रवाई पर सिंगापुर की अदालत का स्टे

सिंगापुर, एजेंसी First Published:03-12-2012 02:13:51 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
माले हवाई अड्डा: GMR के खिलाफ कार्रवाई पर सिंगापुर की अदालत का स्टे

सिंगापुर उच्च न्यायालय ने मालदीव सरकार द्वारा भारतीय कंपनी जीएमआर के नेतृत्व वाले कंसोर्टियम का माले अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के आधुनिकीकरण और परिचालन से जुड़ा 50 करोड़ डॉलर अनुबंध रद्द किए जाने के फैसले के विरुद्ध सोमवार को स्थगन आदेश जारी किया।

आदालत के हस्तक्षेप के बाद जीएमआर मालदीव के इस हवाई अड्डे का काम जारी रख सकती है। जीएमआर के प्रवक्ता ने कहा कि सिंगापुर उच्च न्यायालय ने मालदीविया एयरपोर्ट कंपनी लिमिटेड और मालदीव सरकार पर 27 नवंबर के पत्र के आधार पर किसी तरह की कार्रवाई करने पर प्रतिबंध लगा दिया है।

एमएसीएल ने मालदीव की नई सरकार के निर्देश के आधार पर 2010 में तत्कालीन राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद के कार्यकाल के दौरान जीएमआर को दिया गया अनुबंध 27 नवंबर को रद्द कर दिया था। यह पूछने पर कि क्या जीएमआर हवाई अड्डे का परिचालन जारी रखेगी, कंपनी के अधिकारी ने कहा कि हां हम जारी रखेंगे। साथ में पंचनिर्णय की प्रक्रिया भी जारी रहेगी।

अनुबंध के मुताबिक दोनों पक्षों में मतभेद होने की स्थिति में सिंगापुर या फिर ब्रिटेन के कानून के तहत फैसला किया जाएगा। भारत ने इस अनुबंध के रद्द किए जाने का जोरदार विरोध किया है। मालदीव सरकार की कार्रवाई के बाद भारत ने एक उच्चस्तरीय बैठक में उसके साथ व्यापक संबंधों की समीक्षा भी की है।

प्रधानमंत्री की मनमोहन सिंह की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की सुरक्षा मामलों पर समिति ने इस घटना से जुड़े विभिन्न पहलुओं तथा उनके दूरगामी प्रभावों पर गौर किया है। भारत सरकार ने मालदीव सरकार के निर्णय को विदेशी निवेशकों के लिए बड़ा बुरा संकेत बताया है।

मालदीव सरकार भारतीय कंपनी के साथ पिछली सरकार के समय हुए अनुबंध को संदेहास्पद दशा का अनुबंध करार दिया है।

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट
आईपीएल: पुणे ने टॉस जीता, गेंदबाजी का फैसलाआईपीएल: पुणे ने टॉस जीता, गेंदबाजी का फैसला
चोटों से जूझ रही महेंद्र सिंह धौनी की कप्तानी वाली राइजिंग पुणे सुपरजाएंट्स टीम ने गुरुवार को इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के नौवें संस्करण के तहत फिरोज शाह कोटला मैदान पर मेजबान दिल्ली डेयरडेविल्स के साथ जारी मुकाबले में टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया है।