Image Loading
गुरुवार, 23 फरवरी, 2017 | 14:54 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • गुरुग्राम में प्रॉपर्टी डीलर के ऑफिस में फायरिंग। तीन युवकों को गोली मारी, एक...
  • बहराइच रैलीः अखिलेश गधे से डरने लगे हैं, मैं गधे से प्ररेणा लेता हूं, गधे से...
  • #IndiavsAustralia #PuneTest ऑस्ट्रेलिया को चौथा झटका, स्मिथ आउट, स्कोर 149/4
  • बहराइच रैलीः आधा चुनाव हो गया लेकिन जनता को हिसाब नहीं दे रही अखिलेश सरकार- पीएम...
  • #IndiavsAustralia #PuneTest ऑस्ट्रेलिया को तीसरा झटका, हैंड्सकॉम्ब आउट, स्कोर 149/3
  • बीएमसी चुनाव में हार के बाद कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष संजय निरूपम ने हार की...
  • #PuneTest ऑस्ट्रेलिया को दूसरा झटका, मार्श आउट, स्कोर 119/2
  • यूपी चुनावः चौथे चरण में 53 सीटों के लिए मतदान जारी, सुबह 11 बजे तक 23.78% वोटिंग
  • यूपी चुनावः प्रतापगढ़ में राज्यसभा सांसद और वरिष्ठ कांग्रेस नेता प्रमोद...
  • शोपियां में आतंकी हमला, सेना के 3 जवान शहीद, 1 महिला की भी मौत। पूरी खबर पढ़ने के...

'सिखों, हिन्दुओं के खिलाफ घृणा अपराधों का पता लगाए FBI'

न्यूयॉर्क, एजेंसी First Published:13-12-2012 01:52:07 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
'सिखों, हिन्दुओं के खिलाफ घृणा अपराधों का पता लगाए FBI'

सिख बच्चों को डराने-धमकाने और प्रताड़ित किए जाने की घटनाओं को गंभीर चिंता का कारण करार देते हुए अमेरिका के न्याय विभाग ने सिफारिश की है कि एफबीआई ने अब तक सिखों और हिन्दुओं के खिलाफ जितने अपराधों का पता लगाया है, उन्हें धर्म आधारित घृणा अपराध की श्रेणी में दर्ज किया जाना चाहिए।

न्याय विभाग के सहायक अटॉर्नी जनरल टॉम पेरेज ने कहा कि अंतरधर्म समूह इस बात का समर्थन कर रहे हैं कि एफबीआई की एकीकत अपराध रिपोर्ट में सिखों, हिन्दुओं और अरबों के खिलाफ जिन अपराधों का पता लगाया गया है, उन्हें घृणा अपराध की श्रेणी में दर्ज किया जाए।

पिछले हफ्ते पेरेज ओक क्रीक गए थे और गुरुद्वारे के सदस्यों तथा पदाधिकारियों से मुलाकात की थी। गत अगस्त में नस्ली विचारधारा रखने वाले एक श्वेत व्यक्ति वेड माइकल पेज ने इस गुरुद्वारे में गोलीबारी कर छह लोगों को मार डाला था और तीन अन्य को गंभीर रूप से घायल कर दिया था।

पेरेज ने कहा कि वह न्याय विभाग द्वारा टाउन हॉल में बुलाई गई बैठक में शामिल हुए, जिसमें 22 विभिन्न धार्मिक एवं अंतरधर्म समूहों ने इस बारे में चर्चा की कि एफबीआई की एकीकत अपराध रिपोर्ट में घृणा अपराधों को किस हिसाब से तय किया जाता है।

बैठक में चर्चा और कानून प्रवर्तन एजेंसियों के अनुभव के आधार पर सामुदायिक संबंध सेवा ने सिफारिश की है कि सिखों और हिन्दुओं के खिलाफ अपराधों को उन पुलिस रिपोर्टों और एफबीआई के घृणा अपराधों की सूची में दर्ज किया जाए, जो हर साल पेश की जाती है।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Jharkhand Board Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड