Image Loading
सोमवार, 25 जुलाई, 2016 | 19:31 | IST
खोजें
ब्रेकिंग
  • 3 प्रतिशत स्पेक्ट्रम उपयोग शुल्क की सिफारिश पर कायम दूरसंचार आयोग, अंतिम मंजूरी...
  • वेरिजॉन ने याहू कंपनी का 4.83 बिलियन डॉलर में अधिग्रहण किया
  • बीजेपी से निष्कासित नेता दयाशंकर के खिलाफ लखनऊ की कोर्ट ने गैर जमानती वारंट...
  • बिहार: मुजफ्फरपुर में ऑटो और बस की टक्कर, 14 लोगों की मौत-ANI
  • AAP विधायक अमानतुल्लाह की एक दिन की पुलिस हिरासत बढ़ी, छेड़छाड़ के आरोप में...
  • खेल मंत्री विजय गोयल का बयान, नरसिंह यादव ओलंपिक में नहीं जाएंगे
  • नरसिंह यादव पर अस्थायी निलंबन होने से ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व 119...
  • भारत सरकार ने इस्लामाबाद में स्थित इंडियन हाई कमीशन के स्टाफ मेंबर से कहा कि वे...
  • लापता विमान IAF AN-32 को लेकर कोस्ट गार्ड के आईजी की प्रेस कांफ्रेंस- हमें अबतक विमान...
  • सुप्रीम कोर्ट ने कथित बलात्कार पीड़िता को 24 सप्ताह का अपना असामान्य भ्रूण...
  • उत्तरी बगदाद में भी कार बम विस्फोट, 14 मरे, 30 घायल
  • अमेरिका के फ्लोरिडा में गोलीबारी: अब तक दो लोगों की मौत, 17 जख्मी
  • अमेरिकाः फ्लोरिडा के एक नाइट क्लब में 17 लोगों को गोली मारी
  • नरसिंह यादव के खिलाफ साजिश हुई, सोनीपत कैंप की महिला इंचार्ज पर शकः कुश्ती संघ
  • दुनिया की कोई भी पार्टी मेरे लिए पंजाब से ऊपर नहीं हैः सिद्धू
  • पंजाब से दूर रहने के लिए कहा गया था इसलिए दिया राज्यसभा से इस्तीफाः नवजोत सिंह...
  • भगवंत मान पर तीन अगस्त तक लोकसभा में आने पर प्रतिबंध, 9 सदस्यीय समिति करेगी जांच
  • सलमान खान को बड़ी राहत- दो मामलों में हाईकोर्ट ने किया बरी

सल्फ्यूरिक अम्ल बनाने वाले नए रसायन की खोज हुई

लंदन, एजेंसी First Published:09-08-2012 10:11:00 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
सल्फ्यूरिक अम्ल बनाने वाले नए रसायन की खोज हुई

वैज्ञानिकों ने एक नए रसायन की खोज की है जो पृथ्वी के वातावरण में सल्फ्यूरिक अम्ल के निर्माण को शुरू करता है। यह अम्ल वातावरण और मानव स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह है।

कोलोराडो बाउल्डर विश्वविद्यालय और हेलसिंकी विश्वविद्यालय के नेतृत्व में अंतरराष्ट्रीय अनुसंधान दल ने एक ऐसे रासायनिक यौगिक की खोज की है जो वातावरण में मौजूद सल्फर डाइऑक्साइड से सल्फ्यूरिक अम्ल का निर्माण कर सकता है। यह यौगिक काबर्निल ऑक्साइड का एक प्रकार है। सल्फ्यूरिक अम्ल का वातावरण और मानव स्वास्थ्य पर बहुत प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।
अनुसंधान के मुख्य अध्ययनकर्ता रॉय ली मॉल्डिन ने कहा कि सल्फ्यूरिक अम्ल पृथ्वी के वातावरण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। पारिस्थितिकीय भूमिका में अम्लीय वर्षण से लेकर नए एरोसॉल कणों का निर्माण शामिल है। इसका वातावरण और स्वास्थ्य पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है। हमारे अध्ययन के परिणाम जीवमंडल और वायुमंडल के रसायनों के बीच नए संबंधों को दिखाते हैं।

अनुसंधानकर्ताओं ने कहा कि नए यौगिक का निर्माण ओजोन और एल्कीन्स के मिलने से होता है। एल्कीन हाइड्रोकार्बन परिवार का सदस्य है जिसका निर्माण प्राकतिक और मानवीय दोनों स्रोतों से होता है। इस अनुसंधान में सल्फ्यूरिक अम्ल के निर्माण का एक नया रास्ता बताया गया है जो अम्लीय वर्षा और अम्लीय बादलों के निर्माण को बढ़ा सकता है जिसका मनुष्यों के श्वसन तंत्र पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है। अमेरिका के इवायरमेंटल प्रोटेक्शन एजेंसी के अनुसार, 90 प्रतिशत से ज्यादा सल्फर डाइऑक्साइड का उत्सर्जन विद्युत संयंत्रों में जैव ईंधन के दहन और अन्य औद्योगिक प्रतिष्ठानों से होता है। इस अनुसंधान के परिणाम विज्ञान जर्नल नेचर में प्रकाशित हुए हैं।

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
संबंधित ख़बरें
क्रिकेट
वेस्टइंडीज पर जीत के बाद कप्तान कोहली की टीम को खास सलाह, कहा...वेस्टइंडीज पर जीत के बाद कप्तान कोहली की टीम को खास सलाह, कहा...
भारतीय टेस्ट कप्तान विराट कोहली ने वेस्टइंडीज के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में पारी और 92 रनों से मिली जीत पर खुशी जताते हुये कहा कि सामूहिक प्रयासों से यह जीत मिली लेकिन उन्होंने साथ ही खिलाड़ियों को अतिआत्मविश्वास में आने से बचने की हिदायत भी दी।