Image Loading
गुरुवार, 01 सितम्बर, 2016 | 03:15 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने महिला बाल विकास मंत्री संदीप कुमार को हटायाः...
  • पेट्रोल 3 रुपए 38 पैसे और डीजल 2 रुपए 67 पैसे हुआ महंगा: टीवी रिपोर्ट्स
  • हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार को फटकार लगाई, कहा-अगले साल तक नहीं बर्दाश्त करेंगे...
  • चालू वित्त वर्ष में सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर आठ प्रतिशत के करीब रहने की...
  • अमेरिकी विदेश मंत्री जान केरी ने अपनी स्वदेश रवानगी टाल दी है। वे आज नहीं...
  • कश्मीर में PDP सांसद के घर पर हमला, प्रदर्शनकारियों ने घर में आग लगाई: टीवी...
  • ITBP के डीजी कृष्ण चौधरी को सीआईएसएफ का एडिशनल चार्ज दिया गया, बीएसएफ के डीजी के के...
  • महाराष्ट्र के गवर्नर विद्यासागर राव को तमिलनाडु के गवर्नर का भी अतिरिक्त...
  • मौसम विभाग की चेतावनीः आज पूरे दिन दिल्ली एनसीआर और हैदराबाद में भारी बारिश हो...
  • सिंगूर मामलाः सुप्रीम कोर्ट से टाटा को झटका, 12 हफ्ते में किसानों को जमीन लौटाने...
  • चुनावी रणनीतिः भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने जेपी नड्डा और धर्मेंद्र प्रधान को...
  • बलूचिस्तान के लोगों को मोदी सरकार का एक और तोहफा। बहुत जल्द ऑल इंडिया रेडियो पर...
  • कश्मीर के सोपोर में सुरक्षाबलों और प्रदर्शनकारियों के बीच संघर्ष, एक युवक की...
  • दिल्ली आईआईटी में जॉन केरीः अकेले कोई देश अलकायदा, लश्कर, जैश जैसे आतंकी समूहों...
  • दिल्लीः भारी बारिश के कारण अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी का जामा मस्जिद और...

सल्फ्यूरिक अम्ल बनाने वाले नए रसायन की खोज हुई

लंदन, एजेंसी First Published:09-08-2012 10:11:00 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
सल्फ्यूरिक अम्ल बनाने वाले नए रसायन की खोज हुई

वैज्ञानिकों ने एक नए रसायन की खोज की है जो पृथ्वी के वातावरण में सल्फ्यूरिक अम्ल के निर्माण को शुरू करता है। यह अम्ल वातावरण और मानव स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह है।

कोलोराडो बाउल्डर विश्वविद्यालय और हेलसिंकी विश्वविद्यालय के नेतृत्व में अंतरराष्ट्रीय अनुसंधान दल ने एक ऐसे रासायनिक यौगिक की खोज की है जो वातावरण में मौजूद सल्फर डाइऑक्साइड से सल्फ्यूरिक अम्ल का निर्माण कर सकता है। यह यौगिक काबर्निल ऑक्साइड का एक प्रकार है। सल्फ्यूरिक अम्ल का वातावरण और मानव स्वास्थ्य पर बहुत प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।
अनुसंधान के मुख्य अध्ययनकर्ता रॉय ली मॉल्डिन ने कहा कि सल्फ्यूरिक अम्ल पृथ्वी के वातावरण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। पारिस्थितिकीय भूमिका में अम्लीय वर्षण से लेकर नए एरोसॉल कणों का निर्माण शामिल है। इसका वातावरण और स्वास्थ्य पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है। हमारे अध्ययन के परिणाम जीवमंडल और वायुमंडल के रसायनों के बीच नए संबंधों को दिखाते हैं।

अनुसंधानकर्ताओं ने कहा कि नए यौगिक का निर्माण ओजोन और एल्कीन्स के मिलने से होता है। एल्कीन हाइड्रोकार्बन परिवार का सदस्य है जिसका निर्माण प्राकतिक और मानवीय दोनों स्रोतों से होता है। इस अनुसंधान में सल्फ्यूरिक अम्ल के निर्माण का एक नया रास्ता बताया गया है जो अम्लीय वर्षा और अम्लीय बादलों के निर्माण को बढ़ा सकता है जिसका मनुष्यों के श्वसन तंत्र पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है। अमेरिका के इवायरमेंटल प्रोटेक्शन एजेंसी के अनुसार, 90 प्रतिशत से ज्यादा सल्फर डाइऑक्साइड का उत्सर्जन विद्युत संयंत्रों में जैव ईंधन के दहन और अन्य औद्योगिक प्रतिष्ठानों से होता है। इस अनुसंधान के परिणाम विज्ञान जर्नल नेचर में प्रकाशित हुए हैं।

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
संबंधित ख़बरें