Image Loading राज पर कार्रवाई नहीं करने पर पुलिस आयुक्त को नोटिस - LiveHindustan.com
बुधवार, 04 मई, 2016 | 20:59 | IST
 |  Image Loading
ब्रेकिंग
  • आईपीएल 9: किंग्स इलेवन पंजाब ने केकेआर के खिलाफ टॉस जीता, पहले फील्डिंग का फैसला
  • हेलीकॉप्टर घोटाले में जांच उन लोगों की भूमिका पर केन्द्रित होगी जिनका नाम इटली...
  • भारत द्वारा खरीदे गए हेलीकाप्टर का परीक्षण नहीं हुआ था क्योंकि वह उस समय विकास...
  • जॉब अलर्ट: SBI करेगा प्रोबेशनरी ऑफिसर के 2200 पदों पर भर्तियां
  • गायत्री परिवार के प्रणव पांड्या राज्यसभा के लिए मनोनीत: टीवी रिपोर्ट्स
  • सेंसेक्स 127.97 अंक गिरकर 25,101.73 पर और निफ्टी 7,706.55 पर बंद
  • टी-20 और वनडे रैंकिंग में टीम इंडिया लुढ़की
  • यूपी के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ सुप्रीम कोर्ट के जज बने। मप्र व...
  • बरेली में मेडिकल के छात्र का अपहरण, बदमाशो ने घर वालो से मांगी 1 करोड़ की फिरौती
  • राज्य सभा की अनुशासन समिति ने विजय माल्या की सदस्यता तत्काल खत्म करने की...
  • उत्तराखंड मामलाः केंद्र ने SC में कहा, बहुमत परीक्षण पर कर रहे विचार, शुक्रवार को...

राज पर कार्रवाई नहीं करने पर पुलिस आयुक्त को नोटिस

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:22-12-2012 07:13:59 PMLast Updated:23-12-2012 10:59:35 AM
राज पर कार्रवाई नहीं करने पर पुलिस आयुक्त को नोटिस

दिल्ली की एक अदालत ने बिहार के निवासियों के खिलाफ टिप्पणियों पर महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) प्रमुख राज ठाकरे के खिलाफ जारी किए गए गैर जमानती वारंट पर अमल नहीं करने पर शनिवार को मुंबई पुलिस आयुक्त को कारण बताओ नोटिस जारी किया।

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश मनीष यदुवंशी ने आदेश दिया कि 28 सिंतबर 2012 को अदालत के आदेश का पालन नहीं करने के संदर्भ में मुंबई पुलिस आयुक्त को गृह मंत्रालय के जरिए कारण बताओ नोटिस जारी किया जाए। अदालत ने आज यह आदेश भी दिया कि इस कार्यवाही को पुलिस के अपराध शाखा के संयुक्त आयुक्त के जरिए पूरा किया जाए, जो अदालत के आदेश का पालन करने के लिए एक अधिकारी को तैनात करें।

इस अदालत ने 28 सितंबर को बिहार के सुधीर कुमार और सुधीर कुमार ओझा की शिकायत पर ठाकरे के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया। शिकायत में ठाकरे पर बिहार में होने वाली छठ पूजा को नौटंकी और संख्याबल का प्रदर्शन कहने का आरोप लगाया गया है।

उधर, ठाकरे ने आज अपने वकील हर्षित जैन के जरिए अदालत में व्यक्तिगत तौर पर पेशी से छूट मांगी और उन्होंने इसकी वजह अपने दिवंगत चाचा बाल ठाकरे से संबंधित कुछ कर्मकांडों में शामिल होना बताया। अदालत ने मामले की सुनवाई 31 जनवरी के लिए तय की है।

आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
 
 
 
 
 
 
अन्य खबरें
 
देखिये जरूर
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
क्रिकेट