Image Loading
बुधवार, 22 फरवरी, 2017 | 18:49 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • गाजियाबाद: भोजपुर एनकाउंटर केस में 4 आरोपी पुलिसवालों को आजीवन कारावास की सजा
  • लीबिया में ISIS के चंगुल से डॉक्टर समेत 6 भारतीयों को छुड़ाया गया, गोली लगने से...
  • शेयर बाजारः 94 अंकों की तेजी के साथ सेंसेक्स 28,856 पर, निफ्टी ने भी लगाई 26 अंकों की...
  • आज के हिन्दुस्तान में पढ़ें टेलीविजन पत्रकार अनंत विजय का विशेष लेखः परंपरा के...
  • यूपी चुनावः सीएम अखिलेश की बहराइच में रैली आज, जानें कौन दिग्गज कहां करेंगे...
  • सुबह खाली पेट खाएं अंकुरित चना, बीमारियां नहीं आएंगी पास, पढ़ें ये 7 टिप्स
  • आज का हिन्दुस्तान अखबार पढ़ने के लिए क्लिक करें।
  • राशिफलः कर्क राशिवालों की नौकरी में स्थान परिवर्तन के योग, आय में वृद्धि होगी,...
  • Good Morning: माल्या और टाइगर मेमन को भारत लाने की संभावना बढ़ी, अमर सिंह बोले-...

नई राष्ट्रीय जल नीति अपना सकते हैं राज्य

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:27-12-2012 01:21:54 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
नई राष्ट्रीय जल नीति अपना सकते हैं राज्य

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की अध्यक्षता वाली राष्ट्रीय जल संसाधन परिषद कल राष्ट्रीय जल नीति-2012 के मसौदे को स्वीकार कर सकती है। यह नीति जल के संदर्भ में एक व्यापक राष्ट्रव्यापी कानूनी संरचना विकसित करने पर जोर देती है।

इस मसौदे की घोषणा सरकार ने इस साल जनवरी माह में की थी। राष्ट्रीय जल बोर्ड की सिफारिशों के आधार पर दो बार इसमें संशोधन भी किए गए।

कल प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में इस परिषद की बैठक होगी। सभी मुख्यमंत्री इस परिषद के सदस्य हैं। इस परिषद की पिछली बैठक वर्ष 2002 के अप्रैल माह में हुई थी। इस बैठक में राष्ट्रीय जल नीति 2002 को अपनाया गया था।

नए मसौदे के अनुसार, यह बेशक माना गया है कि राज्यों को जल संबंधी उचित नीतियां, कानून और नियमन तय करने का अधिकार है, फिर भी जल के संदर्भ में एक व्यापक राष्ट्रीय कानूनी संरचना विकसित करने की जरूरत महसूस की गई है ताकि संघ के हर राज्य में जल अधिकार के बारे में जरूरी कानून बन सकें और स्थानीय जल स्थिति से निपटने के लिए सरकार की ओर से अंतिम स्तर तक अधिकार पहुंचाए जा सकें।

इसके अनुसार, इस तरह के मसौदे में पानी को सिर्फ एक दुर्लभ संसाधन की तरह ही न देखा जाए, बल्कि इसे जीवन और पारिस्थितिक तंत्र के पोषक के रूप में भी देखा जाए।

इसमें कहा गया है, जल का प्रबंधन राज्य के द्वारा एक सामुदायिक संसाधन की तरह सार्वजनिक विश्वास के सिद्धांत के तहत किया जाना चाहिए, ताकि खाद्य सुरक्षा, जीविका और समान व टिकाउ विकास का लक्ष्य सबके लिए प्राप्त किया जा सके।

राष्ट्रीय जल संसाधन परिषद की बैठक पहले 30 अक्टूबर को होनी थी, लेकिन मंत्रिमंडल में फेरबदल के चलते इसे रोक दिया गया था। इस फेरबदल में हरीश रावत ने नए जल संसाधन मंत्री के रूप में पदभार संभाला।

इस बैठक को रद्द किया गया, ताकि रावत मंत्रालय के कामकाज को समझ सकें और बैठक में मुख्यमंत्रियों द्वारा जल संबंधी मुद्दों से जुड़े सवाल पूछे जाने पर वे जवाब दे सकें। मुख्यमंत्रियों की ओर से पूछे जाने वाले सवालों में केंद्र और राज्यों के बीच के संबंधों के सवाल अहम हैं।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
Jharkhand Board Result 2016
क्रिकेट स्कोरबोर्ड