Image Loading
बुधवार, 28 सितम्बर, 2016 | 17:28 | IST
Mobile Offers Flipkart Mobiles Snapdeal Mobiles Amazon Mobiles Shopclues Mobiles
खोजें
ब्रेकिंग
  • सुब्रत रॉय को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत, परोल 24 अक्टूबर तक बढ़ाई: टीवी रिपोर्ट्स
  • पाकिस्तान में होने वाला सार्क सम्मलेन रद्द, भारत, भूटान, अफगानिस्तान और...
  • सुप्रीम कोर्ट ने भारतीय मछुआरों की हत्या के आरोपी इटेलियन मरीन लैतोरे को...
  • उरी हमला: गिरफ्तार गाइड ने किया खुलासा, पाकिस्तानी सेना के आईटी एक्सपर्ट देते थे...
  • कैबिनेट का फैसला, रेलवे कर्मचारियों को मिलेगा 78 दिन का उत्पादकता बोनस: टीवी...
  • शहाबुद्दीन की जमानत रद्द करने की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में कल भी सुनवाई जारी...
  • लोढ़ा पैनल ने सुप्रीम कोर्ट को कहा, बीसीसीआई हमारे सुझावों और दिशा निर्देशों का...
  • पाकिस्तानी कलाकारों फवाद, माहिरा और अली जफर के भारत छोड़ने पर बॉलीवुड सितारों...
  • टीम इंडिया में गंभीर की वापसी, भारत-न्यूजीलैंड टेस्ट के टिकट होंगे सस्ते। इसके...
  • मौसम अलर्ट: दिल्ली-NCR वालों को गर्मी से नहीं मिलेगी राहत। रांची, लखनऊ और देहरादून...
  • भविष्यफल: तुला राशि वालों को आज परिवार का भरपूर सहयोग मिलेगा, मन प्रसन्न रहेगा।...
  • हिन्दुस्तान सुविचार: जीवन के बुरे हादसे या असफलताओं को वरदान में बदलने की ताकत...
  • सार्क में हिस्सा नहीं लेंगे पीएम मोदी, गंभीर की दो साल बाद टीम इंडिया में वापसी,...
  • क्रिकेटर बालाजी 'रजनीकांत' के फैन हैं, आज बर्थडे है उनका। उनकी जिंदगी से जुड़े...

योजनाओं का लाभ मुसलमानों तक पहुंचे: आयोग

नई दिल्ली, एजेंसी First Published:25-12-2012 10:04:05 PMLast Updated:25-12-2012 10:05:31 PM
योजनाओं का लाभ मुसलमानों तक पहुंचे: आयोग

योजना आयोग ने देश के मुस्लिम समुदाय से भेदभाव की धारणा को लेकर चिंता जताई है। 12वीं योजना के दस्तावेज में अल्पसंख्यक समुदाय के जरूरतमंद लोगों तक सरकारी योजनाओं का लाभ पहुंचाने के लिए नवोन्मेषी कदम उठाने की जोरदार वकालत की गई है।

योजना दस्तावेज में कहा गया है कि मुस्लिमों की आबादी वाले गांवों और कस्बों तक योजनाओं का लाभ पहुंचाने के लिए नवोन्मेषी कदमों की जरुरत है।

इसमें कहा गया है कि मुसलमान समुदाय के सिर्फ कुछ ही लोगों को सरकार की विभिन्न विकास योजनाओं का लाभ मिल पाता है। दस्तावेज में कहा गया है कि मुस्लिम समुदाय की दृष्टि से एक महत्वपूर्ण चिंता भेदभाव और विरक्ति की अवधारणा है। इसे 12वीं योजना में उचित तरीके से दूर करने की जरुरत है।

देश की कुल आबादी में मुस्लिमों की संख्या 13.4 प्रतिशत है। यह देश का सबसे बड़ा धार्मिक अल्पसंख्यक समुदाय है। लेकिन आर्थिक, स्वास्थ्य और शिक्षा के मानक पर यह अन्य अल्पसंख्यक समुदायों से काफी पीछे है।

एक ताजा अनुमान के अनुसार, दस्तावेज में कहा गया है कि शहरी क्षेत्रों में मुसलमानों में गरीबी की दर 33.9 प्रतिशत है। खासकर उत्तर प्रदेश, गुजरात, बिहार और पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों में उनकी गरीबी की दर ऊंची है।

वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में मुसलमानों में गरीबी का आंकड़ा असम, पश्चिम बंगाल और गुजरात जैसे राज्यों में काफी ऊंचा है। दस्तावेज में कहा गया है कि अन्य अल्पसंख्यक समुदायों की तुलना में मुसलमानों में साक्षरता और कार्य में भागीदारी का आंकड़ा काफी नीचा है। इसमें कहा गया है कि ज्यादातर मुसलमान परंपरागत और कम आमदनी वाले पेशे से जुड़े हुए हैं। या फिर वे सीमांत किसान, भूमिहीन कृषि श्रमिक, छोटे व्यापारी और कारीगर हैं।

लाइव हिन्दुस्तान जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title:
 
 
 
अन्य खबरें
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड